अल्जाइमर - Alzheimer's Disease in Hindi

अल्जाइमर क्‍या है: What is Alzheimer's in Hindi

अल्जाइमर रोग डिमेंशिया का एक प्रगतिशील यानी तेजी से बढ़ने वाला रोग है। मस्तिष्क की चोटों या बीमारियों से होने वाली स्थितियों के लिए डिमेंशिया एक व्यापक शब्द है जो स्मृति, सोच और व्यवहार को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है। ये परिवर्तन दैनिक जीवन में काफी हस्तक्षेप करते हैं। अल्जाइमर एसोसिएशन के अनुसार, अल्जाइमर रोग 60 से 80 प्रतिशत डिमेंशिया मामलों के लिए जिम्मेदार है। बीमारी वाले ज्यादातर लोगों का निदान 65 वर्ष के बाद किया जाता है। यदि इससे पहले इसका निदान किया जाता है, तो इसे आमतौर पर प्रारंभिक अल्जाइमर रोग के रूप में जाना जाता है। अल्जाइमर के लिए कोई इलाज नहीं है, लेकिन ऐसे उपचार हैं जो रोग की प्रगति को धीमा कर सकते हैं। 

अल्‍जाइमर फैक्‍ट्स: Alzheimer's Facts

हालांकि कई लोगों ने अल्जाइमर रोग के बारे में सुना है, कुछ निश्चित नहीं हैं कि यह वास्तव में क्या है। इस स्थिति के बारे में कुछ तथ्य यहां दिए गए हैं:

    • अल्जाइमर एक पुरानी चल रही स्थिति है।
    • इसके लक्षण धीरे-धीरे आते हैं, और मस्तिष्क पर प्रभाव अपरिवर्तनीय होते हैं (वे धीमी गिरावट का कारण बनते हैं)।
    • अल्जाइमर के लिए कोई इलाज नहीं है, लेकिन उपचार रोग की प्रगति को धीमा करने में मदद कर सकता है और जीवन की गुणवत्ता में सुधार कर सकता है।
    • अल्जाइमर रोग किसी को भी हो सकता है, लेकिन कुछ लोगों को इसके लिए अधिक जोखिम होता है। इसमें 65 साल से अधिक उम्र के लोग और इस स्थिति के पारिवारिक इतिहास वाले लोग शामिल हैं।
    • अल्जाइमर और डिमेंशिया एक ही बात नहीं है। अल्जाइमर रोग एक प्रकार का डिमेंशिया है।
    • अल्जाइमर वाले लोगों के लिए कोई भी अपेक्षित नतीजा नहीं है। कुछ लोग हल्के संज्ञानात्मक क्षति (याददाश्‍त में कमी) के साथ लंबे समय तक रहते हैं। 
    • अल्जाइमर रोग के साथ प्रत्येक व्यक्ति का अनुभव अलग-अलग है। अल्जाइमर लोगों को कैसे प्रभावित कर सकता है इसके बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

अल्जाइमर और डिमेंशिया में अंतर: Difference in Alzheimer's and Dementia

"डिमेंशिया" और "अल्जाइमर" शब्द कभी-कभी एक दूसरे के लिए उपयोग किए जाते हैं। हालांकि, ये दो स्थितियां समान नहीं हैं। अल्जाइमर एक प्रकार का डिमेंशिया है। भूलना और भ्रम जैसे स्मृति हानि से संबंधित लक्षणों के साथ डिमेंशिया एक व्यापक शब्द है। डिमेंशिया में अल्जाइमर रोग, पार्किंसंस रोग और अन्य जैसे अधिक विशिष्ट स्थितियां शामिल हैं। इन बीमारियों के कारण, लक्षण और उपचार अलग-अलग हो सकते हैं। डिमेंशिया और अल्जाइमर रोग कैसे भिन्न होता है इसके बारे में और जानें।

अल्‍जाइमर रोग के कारण और रिस्‍क फैक्‍टर: Alzheimer's causes and risk factor in Hindi

विशेषज्ञों ने अल्जाइमर रोग का एक कारण निर्धारित नहीं किया है, लेकिन उन्होंने कुछ जोखिम कारकों की पहचान की है, जिनमें निम्न शामिल हैं:

उम्र: अल्जाइमर रोग विकसित करने वाले अधिकांश लोग 65 वर्ष या उससे अधिक आयु के होते हैं।

परिवार के इतिहास: यदि आपके परिवार में किसी सदस्‍य, जिसने इस स्थिति को विकसित किया है, तो आपको इसे भी प्राप्त करने की अधिक संभावना है।

जेनेटिक्स: कुछ जीन अल्जाइमर रोग से जुड़े हुए हैं।

इन कारणों का मतलब यह नहीं है कि आप में अल्जाइमर रोग विकसित होंगे। बल्कि यह आपके जोखिम स्तर को बढ़ा सकते हैं। स्थिति विकसित करने के अपने व्यक्तिगत जोखिम के बारे में और जानने के लिए, अपने डॉक्टर से बात करें। एमीलाइड प्लेक, न्यूरोफिब्रिलरी टंगल्स, और अन्य कारकों के बारे में जानें जो अल्जाइमर रोग का कारण बन सकते हैं।

अल्‍जाइमर और आनुवंशिक विज्ञान: Alzheimer's and Genetic Science

हालांकि अल्जाइमर को पहचानने के लिए कोई योग्‍य कारण नहीं है, लेकिन आनुवांशिकी या आनुवंशिक विज्ञान एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। विशेष रूप से यह वैज्ञानिकों की दिलचस्‍पी लेने की बात है। अपोलिपोप्रोटीन ई (एपीओई) एक जीन है जो सीनियर सीटिजन में अल्जाइमर के लक्षणों की शुरुआत से जुड़ा हुआ है। ब्‍लड टेस्‍ट यह निर्धारित कर सकते हैं कि आपके पास यह जीन है, जो अल्जाइमर के विकास का जोखिम बढ़ाता है। लेकिन ध्यान रखें कि अगर किसी के पास यह जीन है, तो उन्हें अल्जाइमर नहीं हो सकता है। इसके विपरीत एक सच यह भी है कि किसी को भी अल्जाइमर मिल हो सकता है भले ही यह जीन उसमें न हो। यह सुनिश्चित करने का कोई तरीका नहीं है कि कोई अल्जाइमर विकसित करेगा या नहीं। अन्य जीन अल्जाइमर के जोखिम और अल्जाइमर की शुरूआत में भी वृद्धि कर सकते हैं।

अल्जाइमर रोग के लक्षण: Symptoms of Alzheimer's Disease in Hindi

वैसे तो हर किसी में समय-समय पर भूलने की आदत दिखाई देती है। लेकिन अल्जाइमर रोग वाले लोगों के व्‍यवहार और लक्षण समय के साथ बदलते हैं। कुछ प्रमुख लक्षण निम्‍नलिखित हैं।

    • आपकी दैनिक गतिविधियों को प्रभावित करने वाली स्‍मृति में कमी 
    • समस्या सुलझाने में कठिनाइयों
    • भाषण या लेखन के साथ परेशानी
    • समय या स्थानों के बारे में भ्रमित हो जाना 
    • निर्णय लेने में कमी 
    • व्यक्तिगत स्वच्छता में कमी 
    • मनोदशा और व्यक्तित्व में परिवर्तन
    • दोस्तों, परिवार और समाज से दूरी 

अल्‍जाइमर के प्रमुख स्‍टेज: Alzheimer's stages

अल्जाइमर एक प्राग्रेसिव रोग है, जिसका मतलब है कि समय के साथ धीरे-धीरे लक्षण खराब होने लगते हैं। अल्जाइमर को 7 अलग-अलग चरणों में बांटा गया है:

चरण 1: इस चरण में कोई लक्षण नहीं हैं, लेकिन परिवार के इतिहास के आधार पर प्रारंभिक निदान हो सकता है।

चरण 2: शुरुआती लक्षण प्रकट होते हैं, जैसे भूलना।

चरण 3: हल्की शारीरिक और मानसिक हानि दिखाई देती है, जैसे कम स्मृति और एकाग्रता। ये केवल व्यक्ति के बहुत करीब किसी के द्वारा ध्यान देने योग्य हो सकता है।

चरण 4: अल्जाइमर अक्सर इस चरण में निदान किया जाता है, लेकिन यह अभी भी हल्का माना जाता है। स्मृति हानि और रोजमर्रा के कार्यों को करने में असमर्थता स्पष्ट है।

चरण 5: मध्यम से गंभीर लक्षणों में प्रियजनों या देखभाल करने वालों से मदद की आवश्यकता होती है।

चरण 6: इस चरण में, अल्जाइमर वाले व्यक्ति को बुनियादी कार्यों, जैसे खाने और कपड़े पहनने में मदद की आवश्यकता हो सकती है।

चरण 7: यह अल्जाइमर का सबसे गंभीर और अंतिम चरण है। भाषण और चेहरे की अभिव्यक्तियों का नुकसान हो सकता है।

अल्‍जाइमर के शुरुआती लक्षण: Early symptoms of Alzheimer's 

अल्जाइमर आमतौर पर 65 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों को प्रभावित करता है। हालांकि, यह लोगों में 40 या 50 की उम्र के आरंभ में हो सकता है। इसे अल्जाइमर का प्रारंभिक शुरूआत कहा जाता है। इस प्रकार के अल्जाइमर इस स्थिति के साथ 5 प्रतिशत को प्रभावित करता है। शुरुआती अल्जाइमर के लक्षणों में मामूली स्मृति हानि और रोजमर्रा के कार्यों को ध्यान में रखते हुए परेशानी शामिल हो सकती है। 

अल्‍जाइमर का निदान: Diagnosing Alzheimer’s disease in Hindi

अल्जाइमर बीमारी वाले किसी व्यक्ति का निदान करने का एकमात्र निश्चित तरीका मौत के बाद अपने मस्तिष्क के ऊतक की जांच करना है। लेकिन आपका डॉक्टर आपकी मानसिक क्षमताओं का आकलन करने, डिमेंशिया का निदान करने और अन्य स्थितियों को खत्‍म करने के लिए अन्‍य परीक्षणों का उपयोग कर सकता है। डॉक्‍टर आपके चिकित्सा इतिहास के बारे में पहले जानेगा। इसके अलावा डॉक्‍टर आप से पूछ सकते हैं जैसे- 

    • आपके लक्षण के बारे में 
    • आपका परिवारिक चिकित्सा इतिहास
    • अन्य वर्तमान या पिछले स्वास्थ्य की स्थिति
    • वर्तमान या पिछली दवाएं
    • आपका आहार, शराब का सेवन, या अन्य जीवन शैली की आदतें
    • वहां से, आपके डॉक्टर को यह निर्धारित करने में सहायता के लिए कई परीक्षण होंगे कि क्या आपके पास अल्जाइमर रोग है या नहीं।

अल्‍जाइमर की जांच: Alzheimer’s tests

अल्जाइमर रोग के लिए कोई निश्चित परीक्षण नहीं है। हालांकि, आपका डॉक्टर आपके निदान को निर्धारित करने के लिए कई परीक्षण करेगा। ये मानसिक, शारीरिक, तंत्रिका विज्ञान और इमेजिंग परीक्षण हो सकते हैं। इसके बाद, वे एक फिजिकल टेस्‍ट ले सकते हैं, उदाहरण के लिए, वे आपके रक्तचाप की जांच कर सकते हैं, हृदय गति का आकलन, और शरीर का तापमान ले सकते हैं। कुछ मामलों में, डॉक्‍टर प्रयोगशाला में परीक्षण के लिए मूत्र या रक्त के नमूने एकत्र कर सकते हैं। इसके अलावा चिकित्‍सक मस्तिष्क-इमेजिंग का अध्‍ययन करने के लिए अलग-अलग जांच के लिए कह सकते हैं, जिसमें एमआरआई, सीटी स्‍कैन और पीईटी स्‍कैन शामिल है। 

अल्‍जाइमर से बचाव: Alzheimer’s Preventing 

जैसे अल्जाइमर के लिए कोई ज्ञात इलाज नहीं है, उसी प्रकार से कोई सिद्ध बचाव भी नहीं है। हालांकि, शोधकर्ता इसके लक्षणों को रोकने के लिए जीवनशैली में सुधार करने से इस पर काबू पाया जा सकता है।

निम्नलिखित उपाय मदद कर सकते हैं:

  • धूम्रपान से बचें 
  • नियमित रूप से व्यायाम करें
  • ऐसी गतिविधियों में हिस्‍सा लें जिसमें दिमाग का एक्‍सरसाइज हो  
  • हरी सब्जियां, फल का सेवन करें 
  • अधिक एंटीऑक्सीडेंट का उपभोग करें 
  • एक सक्रिय सामाजिक जीवन बनाए रखें
  • अपनी जीवनशैली में कोई बड़ा बदलाव करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करना सुनिश्चित करें

अल्‍जाइमर में देखभाल: Alzheimer’s care 

यदि आपके घर में किसी को अल्जाइमर है, तो आपको सही से देखभाल करने पर विचार करना होगा। यह एक परमानेंट नौकरी की तरह है। जो आमतौर पर आसान नहीं है लेकिन बहुत ही फायदेमंद हो सकती है। देखभाल करने वाला होने के नाते आपके अंदर कई तरह के कौशल होने चाहिए। धैर्य, रचनात्मकता, सहनशक्ति होनी जरूरी है। इससे एक लाभ यह भी है कि आप अपने प्रियजन का अच्‍छे से देखभाल करते हैं, नि:स्‍वार्थ भाव से। 

    I have read the Privacy Policy and the Terms and Conditions. I provide my consent for my data to be processed for the purposes as described and receive communications for service related information.
    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK