30 की उम्र के बाद स्किन को टाइट रखने और झुर्रियों से बचाने के लिए अपनाएं ये आयुर्वेदिक टिप्स

30 साल की उम्र के बाद स्किन को जवान और ग्लोइंग बनाये रखने के लिए आयुर्वेदिक हर्ब्स का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद है, जानें इनके बारे में।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: May 18, 2022Updated at: May 18, 2022
30 की उम्र के बाद स्किन को टाइट रखने और झुर्रियों से बचाने के लिए अपनाएं ये आयुर्वेदिक टिप्स

खानपान में गड़बड़ी, सेहत से जुड़े कारण और खराब जीवनशैली के कारण खूबसूरती और चेहरे के ग्लो पर भी बुरा असर पड़ता है। इसके अलावा बढ़ती उम्र की वजह से आपके चेहरे पर झुर्रियां पड़ने लगती हैं और इसकी वजह से आपकी खूबसूरती पर असर पड़ता है। जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है वैसे ही इसका प्रभाव भी चेहरे और शरीर पर देखने को मिलता है। उम्र की वजह से चेहरे और सेहत पर पड़ने वाले प्रभाव को रोका तो नहीं जा सकता है लेकिन इसे कम जरूर किया जा सकता है। कई लोगों में खराब जीवनशैली और खानपान से जुड़ी गड़बड़ी के कारण उम्र से पहले ही चेहरे पर झुर्रियां पड़ने लगती हैं। उम्र से पहले चेहरे का ग्लो कम होने और झुर्रियों से बचने के लिए आयुर्वेदिक हर्ब्स का इस्तेमाल बहुत उपयोगी होता है। भारत में पुराने जमाने से ही लोग आयुर्वेद की सहायता से खुद को हेल्दी और फिट रखते थे। स्वस्थ खानपान और बेहतरीन दिनचर्या अपनाने से आप इन समस्याओं से बच सकते हैं। 30 साल की उम्र के बाद हर किसी के चेहरे पर उम्र का प्रभाव दिखने लगता है। आज हम आपको इस आर्टिकल में कुछ ऐसे ही आयुर्वेदिक हर्ब्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका इस्तेमाल कर आप चेहरे पर उम्र के प्रभाव को कम कर सकते हैं और एजिंग की वजह से पड़ने वाले प्रभावों को कम कर सकते हैं।

30 की उम्र के बाद भी स्किन को जवान और ग्लोइंग बनाने के लिए आयुर्वेदिक टिप्स (Ayurvedic Anti Aging Tips After 30 Years Age in Hindi)

आज के समय में चेहरे को ग्लोइंग और बेहतर बनाने के लिए लोग तमाम तरह के ब्यूटी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हैं। बाजार में मिलने वाले ज्यादातर प्रोडक्ट्स केमिकल की सहायता से बनाये जाते हैं जिनका इस्तेमाल कई बार चेहरे को नुकसान भी पहुंचाता है। 30 साल की उम्र के बाद चेहरे पर पड़ने वाले प्रभावों को कम करने के लिए और चेहरे को बढ़ती उम्र की वजह से पड़ने वाले असर से बचाने के लिए आयुर्वेदिक टिप्स को अपनाना बहुत फायदेमंद है। आइये जानते हैं कुछ ऐसे ही आयुर्वेदिक टिप्स के बारे में जिनका प्रयोग कर आप 30 साल की उम्र के बाद भी अपने चेहरे को इस प्रभाव से मुक्त रख सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : केले से बनाएं ये 5 एंटी-एजिंग फेस पैक, झुर्रियों और फाइन लाइन्स को कम करने में है कारगर

Ayurvedic-Anti-Aging-Tips

1. देसी घी का इस्तेमाल

आयुर्वेद में देसी घी को एक बहुत प्रभावशाली औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। घी में मौजूद गुण और पोषक तत्व स्किन के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। स्किन को बेहतर बनाने और उम्र के प्रभाव से बचाने के लिए डाइट में घी जरूर शामिल करना चाहिए। देसी घी का सेवन करने से आपका मेटाबॉलिज्म तेज होता है और इससे आपके चेहरे पर ग्लो बना रहता है।

2. चेहरे के लिए शंखपुष्पी का इस्तेमाल

शंखपुष्पी (Shankhpushpi) आयुर्वेद में इस्तेमाल की जाने वाली एक पावरफुल हर्ब है जिसका इस्तेमाल कई समस्याओं में किया जाता है। दवाओं के निर्माण में भी शंखपुष्पी का इस्तेमाल किया जाता है। मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाये रखने के लिए शंखपुष्पी बहुत उपयोगी होता है। स्किन को बेहतर बनाए रखने और 30 साल की उम्र के बाद इस पर पड़ने वाले उम्र के प्रभाव को कम करने के लिए इसका इस्तेमाल बहुत फायदेमंद होता है। 

इसे भी पढ़ें : एंटी एजिंग क्रीम कब लगाना चाहिए? जानें सही उम्र और लगाने का तरीका

3. अश्वगंधा का इस्तेमाल

अश्वगंधा कोशिकाओं के निर्माण और उनकी रिकवरी के लिए बहुत फायदेमंद मानी जाती है। इसका इस्तेमाल कोशिकाओं को बेहतर बनाने में बहुत उपयोगी होता है। 30 साल की उम्र के बाद चेहरे पर पड़ने वाले उम्र के प्रभाव को कम करने के लिए अश्वगंधा का इस्तेमाल आहूत फायदेमंद होता है। स्किन को झुर्रियों से बचाने के लिए इसका इस्तेमाल बहुत उपयोगी है। आप रोजाना अश्वगंधा पाउडर का सेवन गर्म पानी या दूध के साथ कर सकते हैं।

4.  ब्राह्मी का इस्तेमाल 

स्किन को बेहतर बनाने के लिए ब्राह्मी का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद होता है। ब्राह्मी को गोटू कोला के नाम से भी जाना जाता है। इसमें मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट गुण चेहरे को बेहतर बनाये रखने के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसमें मौजूद एंटी एजिंग गुण चेहरे पर उम्र के प्रभाव को कम करने में उपयोगी होते हैं।

5. गिलोय का इस्तेमाल

चेहरे को बेहतर बनाए रखने और उम्र के प्रभाव से बचाने के लिए गिलोय बहुत फायदेमंद मानी जाती है। इसमें मौजूद एंटीइंफ्लेमेटरी गुण स्किन को टाइट रखने और झुर्रियों से बचाने का काम करते हैं। इसका सेवन करने से शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद मिलती है। खून को साफ रखने के लिए भी गिलोय का इस्तेमाल बहुत उपयोगी होता है।

इसे भी पढ़ें : एंटी-एजिंग डाइट टिप्स: गलत खानपान का आपकी त्वचा और एजिंग पर कैसे पड़ता है असर?

स्किन को 30 साल की उम्र के बाद भी जवान और ग्लोइंग रखने के लिए इन आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद होता है। इसका इस्तेमाल करने से पहले किसी एक्सपर्ट या डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

(All Image Source - Freepik.com)

 
Disclaimer