गर्भावस्‍था और यात्रा

गर्भवती होने का मतलब यह नहीं है कि आप 9 महीने के लिए अपने आप को घर में ही कैद कर लें। आप प्रेग्नेंसी के दौरान यात्राओं पर जा सकते हैं, बस आपको अपने स्वास्थ्य के अनुसार जगह का चुनाव, जाने की जरूर और यात्रा का सारा प्रंबध देखना होगा। ऐसा इसलिए क्योंकि प्रेग्नेंसी में कहीं भी नहीं जाया जा सकता है। जैसे कि बहुत ऊंचाई वाली जगहों पर या ऐसी जगहों पर जहां थकान बहुत ज्यादा हो। अगर आप किसी प्रोफेशनल जगह पर जा रहे हैं, तो या छुट्टी लेके घुमने जा रहे हैं, तो ऐसे तरीके हैं जिनसे आप गर्भावस्था के दौरान यात्रा करते समय स्वस्थ और सुरक्षित रह सकते हैं। तो, आइए जानते हैं इन्हीं के बारे में विस्तार से। पर उससे पहले जानते हैं कि प्रेग्नेंसी के दौरान ट्रेवल करना कितना सुरक्षित है?

प्रेग्नेंसी के दौरान ट्रेवल करना कितना सुरक्षित है?- Is travel is safe during pregnancy

प्रेग्नेंसी के 8-9 महीनों में महिलाओं को कई तरह की सावधानियां बरतनी पड़ती हैं। शिशु शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ पैदा हो, इसके लिए जरूरी है कि गर्भाशय पर किसी तरह का दबाव न आए। इसलिए प्रेग्नेंसी के दौरान यात्रा करते वक्त, ध्यान रखें कि यात्रा के दौरान लगने वाले झटके, पेट पर दबाव या किसी दुर्घटना की स्थिति में शिशु को नुकसान पहुंच सकता है। कई बार गर्भपात की भी स्थिति बन जाती है। अगर आप एक स्वस्थ प्रेग्नेंसी को जी रही हैं, तो आमतौर पर यात्रा करना सुरक्षित होता है। लेकिन किसी भी यात्रा की योजना बनाने से पहले अपने स्वास्थ्य डॉक्टर से बात जरूर करें। पर अगर आप हृदय रोग,  गर्भावस्था की जटिलताएं हैं, जैसे कि गर्भावधि मधुमेह आदि से पीड़ित हैं, तो ये काम थोड़ा रिस्की हो सकता है।  ज्यादातर मामलों में, गर्भवती महिलाएं अपनी डिलीवरी डेट के करीब आने तक सुरक्षित यात्रा कर सकती हैं। लेकिन गर्भावस्था की जटिलताओं वाले महिलाओं के लिए यात्रा की सिफारिश नहीं की जा सकती है। 

प्रेग्नेंसी में यात्रा कब करें-When to travel?

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय दूसरी तिमाही (2rd trimester)के दौरान होता है, जब जटिलताओं का सबसे कम जोखिम होता है। कुछ महिलाएं मतली के कारण पहली तिमाही (1st trimester) में यात्रा नहीं करना पसंद करती हैं और इन शुरुआती चरणों के दौरान बहुत थकान महसूस करती हैं। चाहे आप यात्रा कर रहे हों या नहीं, गर्भपात का जोखिम पहले 3 महीनों में अधिक होता है इसलिए इस दौरान हर तरह से सतर्क रहें। तीसरी तिमाही (3rd trimester) के दौरान आप यात्रा करने में बहुत अधिक थका हुआ और असहज महसूस कर सकते हैं। यह 35 सप्ताह से अधिक की गर्भवती महिलाओं को 5 घंटे से अधिक समय तक उड़ान भरने के लिए सेफ नहीं है। साथ ही बस, कार और ट्रेन में भी लंबी दूरी या विदेश यात्रा करने से बचें। 

7वें महीने से यात्रा करना सुरक्षित नहीं

डॉक्टर प्रेगनेंट महिला को तकरीबन 28 हफ्तों के बाद ट्रेवल करने की अनुमति नहीं देते हैं, वैसे ट्रेवलिंग के लिए 14 से 18 हफ्तों के बीच का समय चुनें। क्योंकि उस समय ना तो गर्भपात की संभावना होती है और ना ही अन्य परेशानियां होती हैं। इन महीनों में मॉर्निंग सिकनेस, अधिक थकान, सुस्ती जैसी शिकायतें आमतौर पर कम होती हैं।

हाई रिस्क वाली गर्भावस्था और यात्राएं-High-risk pregnancies and travel

स्वास्थ्य से जुड़ी परेशानियों का सामना करने वाली गर्भवती महिलाओं को यात्रा न करने की सलाह दी जाती है। जिनमें कुछ स्वास्थ्य स्थितियां शामिल हैं, जैसे कि

  • -गर्भाशय ग्रीवा (cervical problems) की समस्याएं, जैसे अक्षम गर्भाशय ग्रीवा (incompetent cervix)
  • -वजाइनल ब्लीडिंग ( vaginal bleeding)
  • -मल्टीपल प्रेग्नेंसू (multiple pregnancy)
  • -गर्भावधि मधुमेह (gestational diabetes)
  • -उच्च रक्तचाप (high bp)
  • -प्री-एक्लेमप्सिया (pre-eclampsia)
  • - पहले गर्भपात हो चुका हो (prior miscarriage)
  • -समय से पहले प्रसव पीड़ा (prior premature labour)
    • अगर आप 35 वर्ष या इससे अधिक आयु के हैं और पहली बार गर्भवती हैं, तो आपको यात्रा न करने की भी सलाह दी जाती है।

      हवाई यात्रा और गर्भावस्था -Air travel and pregnancy

      प्रेग्नेंसी के दौरान हवाई यात्रा करने से पहले अपने डॉक्टर से गर्भावस्था के लिए विशेष रूप से किसी भी संभावित जोखिम पर चर्चा करें। उदाहरण के लिए, गर्भावधि मधुमेह या एकाधिक गर्भावस्था वाली महिला को आमतौर पर उड़ान नहीं भरने की सलाह दी जाती है। ज्ञात हो कि गर्भावस्था के अंतिम छह सप्ताह में हवाई यात्रा समय से पहले प्रसव पीड़ा को जन्म दे सकती है। इसके अलावा भी कुछ बातों का ध्यान रखें। जैसे कि 

      • -कुछ एयरलाइंस 35 सप्ताह से अधिक उम्र की महिला को उड़ान भरने की अनुमति नहीं देती है, ऐसे में जाने से पहले जांच कर लें।
      • -अपनी यात्रा बीमा की जांच करें। कुछ नीतियां गर्भावस्था को कवर नहीं करती हैं।
      • -बल्कहेड सीट या अतिरिक्त लेग रूम के लिए एग्जिट के पास की सीट के लिए एयरलाइन के साथ व्यवस्था करें।
      • - एसाइल (aisle) की सीट बुक करने पर विचार करें,टॉयलेट जाना थोड़ा आसान होगा।
      • -आप जाने से पहले, अपने डॉक्टर से चर्चा करें कि आपको मेडिकल किट के साथ यात्रा करने की आवश्यकता है या नहीं। इस किट को अपने कैरी-ऑन सामान में पैक करना याद रखें ताकि आप इसे उड़ान के दौरान एक्सेस कर सकें।
      • -अपनी सीट के नीचे और अपनी गोद में सीटबेल्ट पहनें।
      • -बैठने के दौरान अपने पैरों को नियमित रूप से हिलाएं और घुमाएं। उड़ान के दौरान मोजा पहनें इससे प्रेग्नेंसी में ब्लड के थक्कों के बनने का जोखिम कम हो जाएगा।
      • -डिहाइड्रेशन के जोखिम को कम करने के लिए पानी का खूब सेवन करें। तरल पदार्थ का सेवन करते रहने से भी डीवीटी (DVT) का खतरा कम होगा।
      • -अपनी सीट पर रहें, लेकिन फ्लेक्स करें और अपनी टखनों को बार-बार फैलाएं।
      • - सांस लेने में ऑक्सीजन की कमी महसूस करने पर, तो फ्लाइट अटेंडेंट से ऑक्सीजन देने के लिए कहें।
        • कार ट्रेवल और प्रेग्नेंसी -Car travel and pregnancy

          • -अपने पैरों को फैलाने और टॉयलेट करने के लिए लगातार ब्रेक करें।
          • -हमेशा सीट बेल्ट पहनें। लैप सैश  (lap sash) को अपनी गोद में रखें और अपने बम्प के नीचे, कंधे की सैश को अपने बंप के ऊपर और अपने स्तनों के बीच फिट करें।
          • -अपने झटका भर में लैप सैश पहनने से बचें क्योंकि अचानक झटका लगने से आपकी नाल आपके गर्भाशय से अलग हो सकती है।
          • -अगप आप सामने की यात्री सीट पर बैठे हैं, तो टकराव की स्थिति में एयरबैग के प्रभाव को कम करने के लिए अपनी सीट को डैशबोर्ड से अच्छी तरह से पीछे ले जाएं।
          • -अगर आप गाड़ी चला रही हैं, तो अपनी सीट को स्टीयरिंग व्हील से जितना संभव हो सके पीछे हटा दें, सुरक्षित और आराम से ड्राइव करें।
          • -अगर किसी दुर्घटना के बाद आपको संकुचन, दर्द या रक्तस्राव होता है, तो जल्द से जल्द एक डॉक्टर को देखें।
            • ट्रेवल के दौरान साथ रखें मेडिकल किट- Medical Kit 

              सामान्य गर्भावस्था की शिकायतों जैसे थ्रश, कब्ज और बवासीर के इलाज में मेडिकल किट आपकी तुरंत मदद कर सकता है। जैसे कि 

              • -यात्री के दस्त के मामले में ओरल हाइड्रेशन की तैयारी रखें।
              • -मल्टीविटामिन गर्भवती महिलाओं के लिए साथ रखें।
              • -ग्लूकोज का सेवन करते रहें।
              • -लोंग पैड और एक्ट्रा कपड़े रख लें।
              • -गर्म पानी और कॉटन साथ रख कर कहीं भी घुमने जाएं।
              • -अपनी मेडिकल रिपोर्ट्स अपने साथ रखें। 
                • साथ ही प्रेग्नेंसी में कुछ अन्य बातों का ध्यान रखना भी बेहद जरूरी है। जैसे कि भारी सामान लेकर यात्रा न करें। गर्भवती महिलाओं में सफर के दौरान जी मिचलाना और उल्टी आना आम शिकायत होती है। अगर आप एयर ट्रेवल कर रही हैं तो यात्रा के दौरान दिए जाने वाले ब्रेकफास्ट, लंच या डिनर जरूर लें। साथ ही इस बात का जरूर ध्यान रखें कि कार हो, ट्रेन हो या हवाई जहाज, ऐसी सीट का चुनाव करें जो आराम दायक तो हो ही साथ ही लेग स्पेस भी काफी हो जिसमे आप आराम से खुलकर अपनी स्ट्रेचिंग  कर सकें। इस तरह की अन्य बातों और प्रेग्नेंसी के दौरान एक्सपर्ट टिप्स के लिए पढ़ते रहें हमारा ये पेज गर्भावस्‍था और यात्रा (PREGNANCY & TRAVEL IN HINDI)