सोया की पत्तियों का सेवन आयुर्वेद के अनुसार करने पर दूर होती हैं कई बीमारियां, जानें प्रयोग का तरीका

आयुर्वेद के अनुसार डिल (Dill) या सोया की पत्तियों का सेवन शरीर की कई बीमारियों को दूर करने में उपयोगी होता है, जानिए इसके इस्तेमाल का तरीका।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Jul 20, 2021Updated at: Jul 20, 2021
सोया की पत्तियों का सेवन आयुर्वेद के अनुसार करने पर दूर होती हैं कई बीमारियां, जानें प्रयोग का तरीका

रोगों को दूर करने के लिए असंख्य प्राकृतिक जड़ी बूटियां धरती पर मौजूद हैं। आयुर्वेद में प्राचीन काल से इन जड़ी बूटियों का इस्तेमाल चिकित्सा के लिए किया जाता रहा है। आयुर्वेद को दुनिया की सबसे पुरानी चिकित्सा पद्धति माना जाता है। धरती पर मौजूद लगभग सभी जड़ी बूटियों के इस्तेमाल और उनके फायदों के बारे में आयुर्वेद में विस्तार से जानकारी दी गयी है। धरती पर मौजूद इन्हीं जड़ी बूटियों में से एक है डिल (Dill) यानि सोया। भारत में इसका इस्तेमाल साग के रूप में खूब किया जाता है। इसके सेवन से सेहत तमाम फायदे भी मिलते हैं।  लेकिन क्या आपको पता है कि आयुर्वेद में इसका इतेमाल तमाम बीमारियों को दूर करने के लिए जड़ी बूटी के रूप में किया जाता है। प्राचीन आयुर्वेदिक ग्रंथ में कहा गया है कि आचार्य चरक द्वारा भी इसका इस्तेमाल कई समस्याओं के निवारण के लिए किया गया था। तो आइए जानते हैं आयुर्वेद के मुताबिक सोया की पत्तियों का इस्तेमाल करने के फायदे और इसके इस्तेमाल करने के तरीके के बारे में।

सोया की पत्तियों में मौजूद पोषक तत्व (Soya or Dill Leaves Nutrition)

Soya-or-Dill-Leaves-Health-Benefits

डिल या सोया की पत्तियों में सेहत के लिए फायदेमंद तमाम खनिज और पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं। इसलिए ही इसका सेवन सेहत के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। सोया की पत्तियों में कार्बनिक यौगिक, विटामिन्स, खनिज और अन्य तत्व मौजूद होते हैं। सोया की पत्तियों में पाए जाने वाले शक्तिशाली मोनोटरपेनस जैसे कार्वोन, एनेथोफुरन, लाइमीन आदि सेहत के लिए बेहद उपयोगी होते हैं और इसके साथ ही इसमें पाए जाने वाले वैसेनिन और काम्पेरोल जैसे फ्लावोनोइड्स भी बहुत फायदेमंद माने जाते हैं। सोया की पत्तियों में पाए जाने वाले प्रमुख तत्व इस प्रकार हैं।

  • कैलोरी
  • मैंगनीज
  • विटामिन ए
  • विटामिन सी
  • फोलेट
  • आयरन

आयुर्वेद के अनुसार सोया की पत्तियों का उपयोग (Soya or Dill Leaves Health Benefits As Per Ayurveda)

आयुर्वेद के अनुसार सोया की पत्तियों का इस्तेमाल शरीर की कई गंभीर समस्याओं में किया जाता है। इसमें मौजूद गुणों के कारण आयुर्वेद में इसे जड़ी बूटी माना जाता है। सोया की पत्तियों के इस्तेमाल से शरीर की इन समस्याओं में फायदा मिलता है। आइये जानते हैं आयुर्वेद के मुताबिक इनके इस्तेमाल करने का तरीका।

इसे भी पढ़ें : कई बीमारियों को दूर करता है अमलतास, जानें इसके आयुर्वेदिक फायदे

Soya-or-Dill-Leaves-Health-Benefits

1. नींद की बीमारी में सोया की पत्तियों का इस्तेमाल 

आयुर्वेद के मुताबिक नींद की बीमारी में सोया की पत्तियों का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद होता है। इसके इस्तेमाल से नींद से जुड़ी तमाम समस्याएं दूर होती हैं। आयुर्वेद में नींद की समस्या के इलाज के लिए सोया की पत्तियों के इस्तेमाल के बारे में जानकारी दी गयी है। नींद की बीमारी में सोया की पत्तियों और बीज का काढ़ा बहुत फायदेमंद होता है। एक गिलास पानी में सोया की कुछ ताजी पत्तियों को उबाल लें। लगभग एक कप बचने के बाद छानकर इसका सेवन करें।

इसे भी पढ़ें : सीने के दर्द से लेकर सिरदर्द ठीक करने तक, जानें 'गुलदाउदी के फूल' के 9 फायदे, प्रयोग और कुछ नुकसान

2. अनियमित पीरियड्स की समस्या में सोया की पत्तियों का आयुर्वेद के अनुसार इस्तेमाल

कुछ महिलाओं को अनियमित पीरियड्स (मासिक धर्म) की समस्या होती है। इस समस्या में सोया की पत्तियों का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद माना जाता है। आयुर्वेद के मुताबिक सोया की पत्तियों का सेवन करने से अनियमित पीरियड्स की समस्या दूर होती है। शरीर में हॉर्मोन संतुलन बनाने के लिए और पीरियड्स के दौरान ब्लड फ्लो को ठीक रखने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है। इस समस्या से गुजर रही महिलाओं को नियमित रूप से कम से कम 100 ग्राम सोया की पत्तियों के साग का सेवन करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : इन 9 बीमारियों में लाभकारी है जल पिप्पली, आयुर्वेदाचार्य से जानें प्रयोग का तरीका

Soya-or-Dill-Leaves-Health-Benefits

3. हिचकी की समस्या का इलाज करने के लिए सोया का इस्तेमाल 

सोया की पत्तियों का इस्तेमाल हिचकी की समस्या का इलाज करने के लिए सैकड़ों वर्षों से किया जा रहा है। हिचकी की समस्या में सोया की पत्तियों का इस्तेमाल करने से आराम मिलता है। एलर्जी, संवेदनशीलता या अन्य कारणों से होने वाली हिचकी की समस्या में सोया की ताज़ी पत्तियों को पानी में उबाल लें। फिर इसे थोड़ी देर तक ठंडा होने के लिए रख दें। उसके बाद इसका सेवन करने से हिचकी की समस्या में फायदा मिलेगा। 

इसे भी पढ़ें : सेहुंड की पत्तियों से किया जा सकता है कई बीमारियों का घर पर इलाज, आयुर्वेदाचार्य से जानें इसके फायदे और प्रयोग

4. फोड़े-फुंसी की समस्या में सोया की पत्तियों का इस्तेमाल 

फोड़े-फुंसी होने पर सोया की पत्तियों का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद होता है। फोड़े-फुंसी को दूर करने के लिए ताजे सोया की पत्तियों का पेस्ट बनाकर फोड़े पर लेप करें। इसके अलावा पुराने फोड़े की समस्या में सोया की पत्तियों के पेस्ट में थोड़ी सी हल्दी मिला दें। इससे अल्सर की समस्या में भी फायदा मिलता है।

5. आर्थराइटिस की समस्या में सोया की पत्तियों का इस्तेमाल 

आयुर्वेद के मुताबिक गठिया और जोड़ों की समस्या में सोया की पत्तियों का इस्तेमाल फायदेमंद होता है। आर्थराइटिस की समस्या से जूझ रहे लोगों को आयुर्वेदिक चिकित्सा में सोया की पत्तियों के सेवन की सलाह दी जाती है। इसके पत्तियों का नियमित रूप से सेवन आर्थराइटिस की समस्या में बहुत फायदेमंद होता है। आप अगर आर्थराइटिस की समस्या से जूझ रहे हैं तो रोजाना 100 ग्राम सोया की पत्तियों का साग या अन्य तरीके से सेवन कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : कुकरौंधा का पौधा आता है कई समस्याओं के इलाज में काम, एक्सपर्ट से जानें इसके फायदे और उपयोग

सोया की पत्तियों के सेवन से कई नुकसान भी होते हैं। इसका अधिक सेवन करने से शरीर में पित्त बनने की समस्या हो सकती है। किसी भी बीमारी या परेशानी में इसका सेवन करने से पहले आयुर्वेदिक चिकित्सक या एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें।

Read More Articles on Ayurveda in Hindi

Disclaimer