पाचन शक्ति को बढ़ाने के लिए अपनी डाइट में शामिल करें ये 10 आयुर्वेदिक चीजें, पेट रहेगा हमेशा स्वस्थ

आयुर्वेदिक नुस्खे ना केवल पाचन क्रिया को तंदुरुस्त करती है बल्कि पेट की समस्या को दूर करने में उपयोगी है। जानते हैं उसके बारे में

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Jul 19, 2021Updated at: Jul 19, 2021
पाचन शक्ति को बढ़ाने के लिए अपनी डाइट में शामिल करें ये 10 आयुर्वेदिक चीजें, पेट रहेगा हमेशा स्वस्थ

किसी व्यक्ति के पाचन क्रिया में जब गड़बड़ आ जाती है तो लक्षणों के तौर पर कम भूख लगना, सीने में जलन, पेट के ऊपरी भाग में सूजन, थकावट आदि लक्षण नजर आते हैं। इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं जैसे- धूम्रपान करना, तनाव में रहना, जल्दी-जल्दी खाना, सही से चबाकर खाना ना खाना, ज्यादा मसालेदार खाना, ज्यादा कैफीन, शराब, चॉकलेट आदि। ऐसे में इस समस्या को दूर करना बेहद जरूरी है। आयुर्वेद में कुछ ऐसी चीजें मौजूद होती हैं जो पाचन शक्ति को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं। हमारे ये लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने लेख के माध्यम से बताएंगे कि पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए आप किन चीजों का सेवन कर सकते हैं। इन चीजों को आयुर्वेद में भी काफी लाभदायक माना जाता है। पढ़ते हैं आगे...

 

1 - सौंफ का सेवन

सौंफ के सेवन से पाचन क्रिया तंदुरुस्त होती है। बता दें कि सौंफ के अंदर कई ऐसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो न केवल पेट के निचले हिस्से के दर्द को दूर करते हैं बल्कि पाचन क्रिया को मजबूत करता है। ऐसे में आप सौंफ के पानी का सेवन कर इस पाचन क्रिया को बेहतर कर सकते हैं।

2 - धनिया का सेवन

बता दें कि धनिया की तासीर ठंडी होती है। ऐसे में यह पाचन क्रिया के लिए बेहद उपयोगी है। यह पेट की गर्मी को शांत करता है। साथ ही गैस की समस्या या एसिडिटी की समस्या को दूर करने में बेहद उपयोगी है। आप धनिया के बीज का सेवन पाचन शक्ति को मजबूत करने के लिए कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- नए कोविड में देखे जा रहे हैं पेट और पाचन से जुड़े कई लक्षण, जानें ऐसे समय में पेट को स्वस्थ रखने के तरीके

3 - त्रिफला का सेवन

आयुर्वेद में त्रिफला बेहद महत्वपूर्ण और शक्तिशाली जड़ी बूटियों में से एक है। बता दें कि त्रिफला के सेवन से भी कमजोर पाचन तंत्र को ठीक किया जा सकता है। ऐसे में आप सुबह उठकर खाली पेट एक चम्मच त्रिफला चूर्ण का सेवन करें। ऐसा करने से समस्या दूर हो जाएगी।

4 - एलोवेरा का सेवन

एलोवेरा का पौधा पाचन शक्ति को तंदुरुस्त बनाने में बेहद उपयोगी है। अगर आप पेट की कई समस्याओं जैसे पेट में दर्द, सूजन, अल्सर आदि से परेशान हैं तो आप एलोवेरा को पानी में घोलकर इसका सेवन कर सकते हैं ऐसा करने से समस्या दूर होगी।

इसे भी पढ़ें- आयुर्वेद से जुड़े इन 7 नियमों का पालन करेंगे तो पाचन तंत्र हमेशा रहेगा दुरुस्त

5 - हल्दी का सेवन

हल्दी एंटीबायोटिक के रूप में कार्य करती हैं। बता दें कि दूध के साथ हल्दी का सेवन किया जाए या गुनगुने पानी में चुटकी भर हल्दी मिलाकर इसका सेवन किया जाए तो यह न केवल पाचन तंत्र को मजबूत बनाती है बल्कि पेट की कई समस्याओं को दूर करने में भी उपयोग किया जा सकता है।

6 - आंवले का सेवन

आंवला पेट की समस्या को दूर करने में उपयोगी है। साथ ही आंवले से पाचन तंत्र को मजबूत किया जा सकता है। बता दें कि सुबह उठकर आप आंवले के पाउडर को पानी में घोलकर सेवन करें। ऐसा करने से पाचन शक्ति मजबूत होगी।

7 - अदरक का सेवन

अदरक का सेवन पाचन क्रिया को तंदुरुस्त करता है। साथ ही जी मिचलाना, उल्टी आदि समस्या से भी राहत दिलाता है। ऐसे में आप पेट में सूजन, पेट की गर्मी को दूर करना आदि समस्याओं को दूर करने में अदरक का सेवन कर सकते हैं। आप अदरक की चाय का भी सेवन कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- इन घरेलू तरीकों से करें पेट की गैस का इलाज, पाचन क्रिया भी होगी मजबूत

8 - सेंधा नमक का सेवन

सेंधा नमक शरीर के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने के साथ-साथ शरीर में इलेक्ट्रोलाइट के निर्माण में भी मददगार है। ऐसे में आप सेंधा नमक के सेवन से अपने पाचन क्रिया को तंदुरुस्त कर सकते हैं। साथ ही पेट की कई समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं।

9 - नींबू का सेवन

नींबू के अंदर भरपूर मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है जो न केवल पाचन क्रिया को तंदुरुस्त बनाता है बल्कि हमारी इम्यून सिस्टम को भी मजबूत करता है।

10 - इलायची का सेवन

इलायची के अंदर भी भरपूर मात्रा में पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं जो न केवल स्वाद को अच्छा और सुंगधित करते हैं बल्कि पाचन क्रिया को भी तंदुरुस्त बनाते हैं। ऐसे में आप रात को सोने से पहले या खाली पेट इलायची का सेवन कर सकते हैं।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि पाचन क्रिया को तंदुरुस्त करने में कुछ आयुर्वेदिक नुस्खे आपके बेहद काम आ सकते हैं।

इस लेख में इस्तेमाल की जानें वाली फोटोज़ shutterstock से ली गई हैं।

Read More Articles on ayurveda in hindi

Disclaimer