आयुर्वेद से जुड़े इन 7 नियमों का पालन करेंगे तो पाचन तंत्र हमेशा रहेगा दुरुस्त

अगर आपको भी पेट से संबंधित समस्याएं अक्सर होती हैं तो आपका पाचन तंत्र कमजोर हो सकता है। यहां जानें इसे मजबूत करने के तरीके।

 
Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraPublished at: Mar 29, 2021Updated at: Mar 29, 2021
आयुर्वेद से जुड़े इन 7 नियमों का पालन करेंगे तो पाचन तंत्र हमेशा रहेगा दुरुस्त

पाचन तंत्र का मजबूत रहना बहुत जरूरी है। इसकी मजबूती आपके शरीर को सेहतमंद बनाती है। खाना खाने के बाद पेट में गड़बड़, अपच और लूज मोशन होना वैसे तो आम समस्याएं हैं, लेकिन इनका लगातार होने का मतलब है कि आपका पाचन तंत्र दुरुस्त नहीं है। पाचन तंत्र असमान्य रहने या स्वस्थ न रहने के बहुत से कारण हो सकते हैं जैसे खाना ज्यादा खा लेना, ठीक पोजीशन में न बैठकर खाना, खड़े-खड़े खाना, देर से खाना या खड़े होकर या टहलते हुए खाने से भी ऐसी समस्याएं हो सकती है। पाचन तंत्र का सुचारू रूप से काम करना आपको कई समस्याओं से बचाकर रखता है। पुराने समय से ही आयुर्वेद लोगों का भरोसा बना हुआ है। आयुर्वेद में ऐसे कई नुस्खे और नियम हैं, जिन्हें अपनाकर आप अपने पाचन तंत्र को हमेशा के लिए दुरुस्त बना सकते हैं। आइये जानते हैं क्या हैं वे नुस्खे। 

avoid water with food

1. खाने के साथ पानी का सेवन बिलकुल न करें (Not drink water while eating)

खाना खाने के साथ पानी पीने से आपके द्वारा खाया गया खाना और पानी पाचन तंत्र में एक साथ जाकर घुल जाते हैं, जिस कारण खाना ठीक से पच नहीं पाता। ऐसा करने से पाचन तंत्र में मौजूद रस खाने को ठीक से नहीं पचा पाते और पाचन क्रिया में बाधा बन जाते हैं। ऐसा करने से आपके शरीर में इंसुलीन (Insulin) का स्तर बढ़ सकता है, एसिड रिफ्लक्स और हार्टबर्न की भी समस्या पैदा हो सकती है। शरीर में पोषक तत्वों की कमी होने के साथ ही मोटापा भी बढ़ सकता है। 

2. अधिक भोजन न करें (Avoid Overeating)

avoid over eating

आयुर्वेद (Ayurved) के नियमों में से एक है संतुलित आहार (Limited Food) का सेवन करना। स्वादिस्ष्ट भोजन देखकर भी आपको अपने पेट पर काबू करना है। दरअसल, पेट में समुचित आहार जाने पर ही पाचन तंत्र उसे ठीक से पचाने में सक्षम रहता है। ज्यादा खाना खाने से आपके पाचन तंत्र पर ज्यादा भार पड़ता है, जिससे खाना पूरी तरह से नहीं पच पाता और आपको कब्ज और पेट संबंधी अन्य समस्याएं होने लगती हैं। केवल भूख लगने पर ही भोजन करें। अधिक भोजन केवल आपकी शरीर में फैट और कोलेस्ट्रोल की मात्रा बढ़ाते हैं।

3. भोजन के बीच अंतराल रखें (Keep Gap Between Meals)

अगर आप पाचन तंत्र को दुरुस्त रखना चाहते है तो लगातार कुछ भी न खाएं। अपने नाश्ते के बाद कुछ समय का अंतराल (Gap) दें उसके बाद ही दिन मे लंच करें। स्नैक्स के टाइम पर भी आप इस बात का ध्यान रखें कि आपने जो खाया है उसके बीच कितनी देर का अंतराल है। ऐसा करने से आपके पाचन तंत्र तक संतुलित भोजन पहुंचेगा जो आसानी से पच जाएगा। भोजन का सटीक समय निर्धारित करें। सोने से कम से कम 2 से 3 घंटे पहले भोजन कर लें। 

इसे भी पढ़ें- लेमन बाम की पत्तियों में होते हैं कई बेहतरीन औषधीय गुण, आयुर्वेदाचार्य से जानें इसके 8 फायदे और नुकसान

4. गर्म पानी में शहद और नींबू मिलाकर पीएं (Honey and lemon) 

गर्म पानी में शहद और नींबू मिलाकर पीना किसी औषधी से कम असरदार नहीं है। इन तीनों का मिश्रण आपकी शरीर में उर्जा का संचार भरने के साथ ही त्वचा में निखार, वजन कम करना और कब्ज से भी छुटकारा दिलाता है। पाचन तंत्र को मजबूत करने में यह तीनों अहम भूमिका निभाते हैं। यही नहीं इम्यूनिटी Immunity) बढ़ाने में भी ये उपाय अधिक कारगर है। इनमें मौजूद सभी गुण एक साथ मिलकर आपके पाचन तंत्र में होने वाली समस्याओं को नियंत्रित करते हैं। 

5. पोषक तत्वों का करें सेवन (Nutrients)

eat healthy food

शरीर में पोषक तत्वों का पहुंचना अति आवश्यक है नहीं तो यह आपके शरीर के विकास में बाधा भी बन सकता है। यदि आपको पेट की समस्याएं या अपच अक्सर अपना शिकार बना लेती हैं तो हो सकता है कि आपके शरीर में पोषक तत्व ठीक तरह से अवशोषित नहीं हो पा रहे हैं। इन तत्वों की कमी के कारण आपके पाचन तंत्र की कार्यक्षमता कमजोर भी हो सकती है। इसलिए पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने के लिए फलों और सब्जियों का सेवन करना बहुत जरूरी है, क्योंकि यह सभी पोषक तत्वों से भरपूर हैं। अपने हाजमें को ठीक रखना चाहते हैं तो जंक फूड से भी दूरी बना लें।

इसे भी पढ़ें- खाने में 'सुमैक स्पाइस' के इस्तेमाल से शरीर को मिलते हैं कई बेहतरीन लाभ, जानें इसके फायदे-नुकसान

6. खाना चबाकर खाएं (Chew Food)

खाना ठीक से नहीं पचने का एक कारण यह भी है कि लोग खाने को जल्दी खत्म करना चाहते हैं। इसके चलते वे खाने को ठीक से चबाते नहीं हैं और अपच होने लगती है। खाना खाते समय इस बात का ध्यान रखें कि खाने को कम से कम 32 बार चबाएं फिर उसे खाएं। चबाकर खाना खाने से हमारे पाचन तंत्र को उन सभी पोषक तत्वों की प्राप्ति होती है, जो पाचन तंत्र को मजबूती प्रदान करते हैं। 

7. योग और व्यायाम  (Yoga and Exercise)

do yoga daily

नियमित रूप से योग और व्यायाम करने से आपका पाचन तंत्र अधिक प्रभावशाली बन जाता है। आयुर्वेद में योग और व्यायाम को पाचन तंत्र मजबूत बनाने के लिए उच्च श्रेणी में रखा गया है। वज्रासन, धनुरासन, नौकासन और कपालभाति समेत अन्य कई आसन हैं जो आपके पाचन तंत्र को मजबूत बनाने में सहायक हैं। 

यदि आपका पाचन तंत्र मजबूत रहकर अपना कार्य करता है तो आपको पेट की समस्याएं होने की संभावनाएं काफी कम हो जाती हैं। इस लेख में दिए गए सभी आयुर्वेदिक नुस्खे अपनाकर आप अपने पाचन शक्ति मजबूत कर सकते हैं। 

Read more on Ayurveda in Hindi

Disclaimer