लेमन बाम की पत्तियों में होते हैं कई बेहतरीन औषधीय गुण, आयुर्वेदाचार्य से जानें इसके 8 फायदे और नुकसान

लेमन बाम के इस्तेमाल से आप कई बीमारियों को कंट्रोल कर सकते हैं। आइए जानते हैं इसके फायदे और नुकसान-

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Mar 19, 2021
लेमन बाम की पत्तियों में होते हैं कई बेहतरीन औषधीय गुण, आयुर्वेदाचार्य से जानें इसके 8 फायदे और नुकसान

लेमन नाम से तो आप काफी अच्छी तरह से वाकिफ होंगे। लेमन यानी नींबू का इस्तेमाल आपने कई बार किया भी होता है। नींबू ना सिर्फ स्वाद में बेहतरीन होता है, बल्कि इसके सेवन से शरीर को कई फायदे होते हैं। नींबू की तरह खुशबू देने वाली ही एक जड़ी-बूटी है, जिसका नाम लेमन बाम है। लेमन बाम का इस्तेमाल हम बीमारियों से राहत दिलाने में किया जाता है। लेकिन शायद आप में से कई लोग होंगे, जो इससे अनजान हैं। इसलिए आज हम आपको इस लेख के माध्यम से लेमन बाम के औषधीय गुणों के बारे में बताएंगे। लेमन बाम के बारे में विस्तार से जानने के लिए हमने गाजियाबाद स्वर्ण जयंती के आयुर्वेदाचार्य डॉक्टर राहुल चतुर्वेदी से बातचीज की। उन्होंने बताया कि लेमन बाम एक आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी है, जिसका इस्तेमाल कई आयुर्वेदिक औषधीयों को बनाने के लिए किया जाता है। यह पुदीना परिवार का एक हिस्सा है। जो देखने में बिल्कुल पुदीने की पत्तियों की तरह होता है। लेकिन इसकी खुशबू बिल्कुल नींबू की तरह होती है। लेमन बाम की पत्तियों को हाथ पर रगड़ने से आपको भीनी-भीनी सी खुशबू आएगी। इसे कई जगब ब्लू बाम, मिंट बाम भी कहा जाता है। लेमन बाम विटामिन सी और थियामिन जैसे तत्वों से भरपूर है। इसकी पत्तियों को आप सुखाकर स्टोर कर सकते हैं और जरूरत पड़ने पर इन पत्तियों का इस्तेमाल कर सकते हैं। आइए जानते हैं लेमन बाम के फायदे और नुकसान (Lemon Balm Benefits and Side Effects ) क्या हैं?

1. मुंह का इंफेक्शन (Mouth Infection)

आयुर्वेदाचार्य बताते हैं कि लेमन बाम एंटीबैक्टीरियल, एंटीवायरल और एंटीफंगल गुणों से भरपूर होता है। अपने इन्ही गुणों के कारण लेमन बाम वायरस और बैक्टीरिया से लड़ने में सक्षम है। इसके सेवन से आप मुंह में होने वाले इंफेक्शन से बच सकेगें। राहुल चतुर्वेदी बताते हैं कि मुंह में इंफेक्शन होने पर लेमन बाम की पत्तियों को पानी में उबालकर इससे कुल्ला करें। इससे मुंह में होने वाले दर्द और सूजन से राहत मिलेगी। इसके अलावा आप इसकी पत्तियों का पेस्ट बनाकर प्रभावित हिस्से पर लगा सकते हैं। इससे किसी तरह का कोई नुकसान नहीं होगा। 

इसे भी पढ़ें - शीशम के तने से बना तेल (रोजवुड ऑयल) में होते हैं कई गुण, जानें इस तेल के इस्तेमाल का तरीका, फायदे और नुकसान

2. मानसिक समस्या दूर करे लेमन बाम (Mental Problem)

मानसिक समस्याओं को दूर करने में भी लेमन बाम असरकारी हो सकता है। इसके सेवन से स्ट्रेस, चिंता और घबराहट दूर होगी। इसके इस्तेमाल से स्ट्रेस और एंजाइटी दूर होगी। मानसिक समस्याओं को दूर करने के लिए लेमन की पत्तियों को पानी में उबालें। लेमन बाम में एंटी-स्ट्रेस और एंक्सियोलिटिक (anxiolytic) मौजूद होता है, जो स्ट्रेस और नींद की समस्याओं को दूर करता है। 

3. थायराइड को करे कंट्रोल (Control thyroid)

थायराइड को कंट्रोल करने में लेमन बाम का इस्तेमाल किया जा सकता है। यह थायराइड इनहिबिटर्स की तरह कार्य करता है। रिसर्च के अनुसार, लेमन बाम की पत्तियों से आप अपने थायराइड हार्मोन को कंट्रोल कर सकते हैं। लेमन बाम थायराइड हार्मोन को उत्तेजित होने से रोकता है। लेकिन ध्यान रखें कि डॉक्टर से पूछकर ही इसका सेवन करें।

4. इम्यूनिटी करे बूस्ट लेमन बाम (Lemon Balm Boost Immunity)

इम्यूनिटी बढ़ाने में लेमन बाम असरकारी होता है। इसमें मौजूद एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-पैरासिटिक और एंटीफंगल जैसे कई गुण पाए जाते हैं। इसके सेवन से बैक्टीरिया के कारण होने वाली समस्याएं दूर होगी। इसके एंटी-माइक्रोबियल गुण शरीर में कीटाणुओं को पनपने से रोकता है।

इसे भी पढ़ें - इन 8 समस्याओं में आपके लिए बहुत काम आ सकता है रोजमेरी ऑयल, जानें फायदे और इस्तेमाल का तरीका

5. कोल्ड सोर (Cold Sore)

होंठों के आसपास लाल चकत्ते, खुजली और हल्की सूजन की शिकायत होने लगती है। इस समस्या को कॉल्ड सोर (What is Cold Sore) कहते हैं। हरपीज वायरस के कारण कोल्ड सोर होती है। कोल्ड सोर सही से ठीक ना होने के कारण मुंह में छाले की शिकायत होती है। कोल्ड सोर की समस्या से निजात पाने के लिए आप लेमन बाम का इस्तेमाल कर सकते है। इसमें मौजूद एंटी वायरस गुण हरपीज वायरस की वजह से होने वाले कोल्ड सोर की परेशानी से निजात दिलाते हैं।

6. डायबिटीज को करे कंट्रोल 

लेमन बाम में एंटी-डायबिटीक गुण पाया जाता है। इसमें मौजूद अर्क लिपिड प्रोफाइल को सुधारने में असरकारी है। साथ ही यह आपके शरीर में मौजूद ग्लाइमिक इंडेक्स को सुधारता है। इतना ही नहीं, लेमन बाम तेल टाइप-2 डायबिटीज के मरीजों के लिए असरकारी है। इसके इस्तेमाल से ब्लड में ग्लूकोज लेवल को कम किया जा सकता है। 

7. वजन को करे कम (Reduce Weight)

बढ़ते वजन की समस्या को कंट्रोल करने के लिए लेमन बाम असरकारी साबित होता है। लेमन बाम की पत्तियों से तैयार चाय मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करता है। दरअसल, लेमन बाम में फ्लेवोनोइड की प्रचुरता होती है, जो शरीर की एक्स्ट्रा चर्बी को कम करने में मददगार साबित हो सकती है।

8. सिरदर्द से दिलाए राहत

सिर दर्द की परेशानी से जूझ रहे लोगों के लिए भी लेमन बाम काफी फायदेमंद हो सकता है। अरोमा थैरेपी में लेमन बाम तेल का इस्तेमाल करके आप सिरदर्द से राहत पा सकते हैं। दरअसल, लेमन बाम में एनाल्जेसिक और एंक्सियोलिटिक (anxiolytic) के गुण मौजूद होते हैं, जो सिरदर्द की परेशानी से राहत दिलाते हैं। इस तेल के इस्तेमाल से अरोमा थेरेपी लेने से हमारा मूड सही होता है। इसकी पत्तियों को सूखाकर या फिर इसके तेल से काढ़ा बनाकर पीने से भी सिर दर्द से छुटकारा पाया जा सकता है।

लेमन बाम का उपयोग  (How to Use Lemon balm)

लेमन बाम में आयुर्वेदिक गुण छिपा होता है। आप इसके इस्तेमाल निम्न तरीके से कर सकते हैं-

  • लेमन बाम की पत्तियों से आप काढ़ा बनाकर पी सकते हैं।
  • इसके अलावा आप इसकी पत्तियों का पेस्ट तैयार कर इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • इसकी पत्तियों को फेसपैक के रूप में भी यूज कर सकते हैं।
  • लिप बाम की तरह भी आप इसका यूज कर सकते हैं।
  • लेमन बाम की पत्तियों का इस्तेमाल आप हर्बल चाय के रूप में भी कर सकते हैं।

लेमन बाम के नुकसान  (Side Effects of Lemon balm) 

लेमन बाम के इस्तेमाल से हाई ब्लड प्रेशर की परेशानी को कंट्रोल कर सकते हैं। लेकिन जरूरत से ज्यादा इसका सेवन करने से ग्लूकोज का स्तर कम हो जाता है, जिससे उर्जाहीन मससूस होता है।

    • गर्भावस्था में लेमन बाम का सेवन सुरक्षित नहीं माना जाता है। 
    • स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए भी यह सुरक्षित नहीं माना जाता है।

  • बच्चों के लिए भी इसका सेवन अधिक सुरक्षित नहीं माना जाता है।
  • थायराइड की दवाई लेने वालों के लिए भी लेमन बाम का इस्तेमाल ना करने की सलाह दी जाती है।

 

 
Disclaimer