स्ट्रेच मार्क्स,पिगमेंटेशन जैसी स्किन प्रॉबलम्स दूर करे मैक्रोडर्मा एब्रेशन, जानें ट्रीटमेंट के फायदे और तरीका

मैक्रोडर्मा एब्रेशन एक पेनलेस कॉस्‍मेट‍िक प्रोसेस है ज‍िससे चेहरे पर प‍िगमेंटेशन, स्‍क‍िन पर स्‍ट्रेच मार्क्स जैसी समस्‍या दूर की जाती है

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Apr 26, 2021Updated at: Apr 26, 2021
स्ट्रेच मार्क्स,पिगमेंटेशन जैसी स्किन प्रॉबलम्स दूर करे मैक्रोडर्मा एब्रेशन, जानें ट्रीटमेंट के फायदे और तरीका

मैक्रोडर्मा एब्रेशन ट्रीटमेंट क्‍या होता है? ये एक कॉस्‍मेटिक ट्रीटमेंट है जिससे एज‍िंग साइंस, स्‍कार्स, र‍िंकल्‍स, एक्‍ने, डल स्‍क‍िन जैसी समस्‍या दूर की जा सकती है। अगर आपकी स्‍क‍िन में लंबे समय से कुछ न कुछ समस्‍या नजर आ रही है तो आप डॉक्‍टर की सलाह पर इस प्रोसेस को अपना सकते हैं। इस प्रोसेस से स्‍क‍िन में नई जान आ जाती है, स्‍किन में नए सेल्‍स बनते हैं और प‍िगमेंटेशन जैसी समस्‍या भी दूर होती है।इस ट्रीटमेंट को आप दो से पांच हजार रूपए में क‍िसी अच्‍छे क्‍लीन‍िक से करवा सकते हैं। जो लोग अपनी स्‍क‍िन के ल‍िए समय नहीं न‍िकाल पाते उनके ल‍िए भी ये ट्रीटमेंट इफेक्‍ट‍िव है क्‍योंक‍ि इसमें ज्‍यादा समय नहीं लगता, 30 से 40 म‍िनट में ये ट्रीटमेंट पूरा हो जाता है। मैक्रोडर्मा एब्रेशन एक पेनलेस प्रोसेस है ज‍िसमें ऐनेस्थ‍िस‍िया या सुई नहीं लगाई जाती। इस ट्रीटमेंट को 12 साल की उम्र के बाद कभी भी करवाया जा सकता है। मैक्रोडर्मा एब्रेशन के कोई साइड इफेक्‍ट्स नहीं होते, कुछ मरीजों को स्‍किन में रेडनेस और होठों के आसपास छालों की श‍िकायत होती है। इस बारे में ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के चौक इलाके में स्‍थ‍ित फेम‍िना हेयर एंड ब्‍यूटी सैलून की मेकअप आर्टिस्‍ट और ब्‍यूटीश‍ियन एकता श्रीवास्‍तव ने बात की।

microdermabrasion process

मैक्रोडर्मा एब्रेशन ट्रीटमेंट क्‍या होता है? (What is Microdermabrasion Process)

मैक्रोडर्मा एब्रेशन एक कॉस्‍मेट‍िक ट्रीटमेंट है ज‍िसमें मशीन की मदद से स्‍किन से जुड़ी समस्‍याओं का इलाज क‍िया जाता है। ये एक तरह का पेनलेस ट्रीटमेंट है ज‍िससे प‍िगमेंटेशन, स्‍ट्रेच मार्क्स, र‍िंकल्‍स, एक्‍ने आद‍ि समस्‍या दूर की जा सकती है। इस ट्रीटमेंट में क‍िसी भी तरह के इंजेक्‍शन का इस्‍तेमाल भी नहीं क‍िया जाता है। ज‍िस तरह हम दांतों की गंदगी न‍िकालने के ल‍िए ब्रश करते हैं ठीक वैसे ही मैक्रोडर्मा एब्रेशन प्रोसेस की मदद से स्‍किन की परत में जमी गंदगी न‍िकाली जाती है। इस ट्रीटमेंट को 12 साल से ऊपर का कोई भी व्‍यक्‍त‍ि करवा सकता है, हालांक‍ि अगर आपको कोई स्‍क‍िन प्रॉब्‍लम है तो डॉक्‍टर से सलाह लेकर ही इस ट्रीटमेंट को करवाएं। 

मैक्रोडर्मा एब्रेशन ट्रीटमेंट कैसे क‍िया जाता है? (Process of Microdermabrasion Treatment)

microdermabrasion

मैक्रोडर्मा एब्रेशन ट्रीटमेंट में लगभग 30 से 40 म‍िनट लगते हैं। ये क्‍लीन‍िक में प्रोफेशनल द्वारा ही क‍िया जाता है। मैक्रोडर्मा एब्रेशन के ल‍िए व्‍यक्‍त‍ि की स्‍क‍िन को सुन्‍न करने की जरूरत नहीं पड़ती। ट्रीटमेंट शुरू करने से पहले आप स्‍क‍िन प्रोफेशनल को अपनी स्‍क‍िन से जुड़ी परेशानी या पहले से चल रहे क‍िसी अन्‍य ट्रीटमेंट की जानकारी जरूर दें।  एक ड‍िवाइस की मदद से स्क‍िन को साफ करके स्‍प्रे छिड़का जाता है। ट्रीटमेंट के बाद मॉइश्‍चराइजर और सनस्‍क्रीन लगाई जाती है। ट्रीटमेंट से पहले आपसे मेकअप हटाने और चेहरा धोकर आने को कहा जाएगा वहीं ट्रीटमेंट के बाद मास्‍क और धूप में न न‍िकलने जैसी पाबंदी दी जाती है। वहीं ट्रीटमेंट के बाद स्‍क‍िन को हाइड्रेट रखने के ल‍िए क्रीम दी जा सकती है। आपको मैक्रोडर्मा एब्रेशन के क‍ितने सेशन की जरूरत होगी ये इस बाद पर न‍िर्भर करेगा क‍ि आपकी स्‍क‍िन प्रॉबलम्‍स ज्‍यादा हैं या कम, उसी के मुताब‍िक आपको ट्रीटमेंट द‍िया जाएगा।

मैक्रोडर्मा एब्रेशन ट्रीटमेंट के फायदे (Benefits of Microdermabrasion Process)

microdermabrasion benefits

  • 1. ज‍िन लोगों को एक्‍ने की समस्‍या है उन्‍हें मैक्रोडर्मा एब्रेशन तकनीक का इस्‍तेमाल जरूर करना चाह‍िए, इस प्रोसेस से एक्‍ने साफ होते हैं। 
  • 2. इस प्रोसेस से डेड स्‍क‍िन सैल्‍स बाहर न‍िकल जाते हैं ज‍िससे त्‍वचा साफ नजर आती है। 
  • 3. एक ही सेशन से स्‍क‍िन के टैक्‍सचर में बदलाव महसूस होता है, प‍िगमेंटेशन की समस्‍या दूर होती है। 
  • 4. ज‍िन लोगों की स्‍क‍िन पर स्‍ट्रेच मार्क्स हैं वो भी मैक्रोडर्मा एब्रेशन से स्‍ट्रेच मार्क्स को म‍िटा सकते हैं। 
  • 5. मैक्रोडर्मा एब्रेशन करवाने से स्‍क‍िन से फाइन लाइंस और र‍िंकल्‍स दूर होते हैं। 
  • 6. इस प्रोसेस से पोर्स कम होते हैं और एज स्‍पॉट्स भी कम हो जाते हैं। 
  • 7. अगर आपकी स्‍क‍िन के रंग में जगह-जग‍ह बदलाव है तो भी आप इस प्रोसेस को करवा सकते हैं। 
  • 8. अगर आपकी स्‍क‍िन लूस हो गई है तो इस प्रोसेस को करवाने से स्‍क‍िन टाइट होगी और त्‍वचा का रंग साफ होगा। 
  • 9. आपकी स्‍क‍िन में स्‍कार्स हैं तो मैक्रोडर्मा एब्रेशन से ये श‍िकायत भी दूर होगी और स्‍क‍िन फ्रेश और पहले से ज्‍यादा स्‍मूद नजर आएगी। 
  • 10. एक सेशन में लगभग 30 म‍िनट लगते हैं इसल‍िए जो लोग ऑफ‍िस और घर दोनों का काम देखते हैं उनके ल‍िए ये क्‍व‍िक और ईजी प्रोसेस है। 
  • 11. मैक्रोडर्मा एब्रेशन से स्‍क‍िन में कोलाजन की मात्रा बनती है ज‍िससे स्‍क‍िन रेज्‍यूव‍िनेट होती है। इससे स्‍क‍िन में मौजूद क‍िसी भी तरह के न‍िशान हटाने में मदद म‍िलती है।

इसे भी पढ़ें- Facial: पार्लर या सैलून में फेशियल कराने और क्लीनिक में फेशियल कराने में क्या अंतर है? समझें दोनों का फर्क 

मैक्रोडर्मा एब्रेशन प्रोसेस के नुकसान (Side effects of Microdermabrasion)

microdermabrasion side effects

वैसे तो मैक्रोडर्मा एब्रेशन पूरी तरह से सेफ प्रोसेस है पर इस प्रोसेस के भी कुछ नुकसान हैं जैसे-

  • मैक्रोडर्मा एब्रेशन प्रोसेस का असर केवल एप‍िडर्म‍िस यानी स्‍क‍िन की बाहरी लेयर तक ही सीम‍ित है। 
  • मैक्रोडर्मा एब्रेशन से कुछ लोगों को सेंसेट‍िव‍िटी या रेडनेस या स्‍किन में टाइटनेस महसूस होती है। 
  • मैक्रोडर्मा एब्रेशन के बाद कई बार हल्‍की सूजन और लालपन स्‍किन में नजर आता है, हालांक‍ि कुछ देर बाद ये ठीक हो जाता है। 
  • कुछ लोगों को होठों पर छाले की समस्‍या हो जाती है, हालांक‍ि इसके ल‍िए आप अपने डॉक्‍टर से संपर्क कर सकते हैं ताक‍ि वो ट्रीटमेंट से पहले आपको दवा दे। 

इसे भी पढ़ें- डार्क सर्कल्स हटाने के लिए कैसे चुनें सही अंडर आई क्रीम? जानें अच्छे अंडर आई क्रीम की पहचान करने का तरीका

क्‍या मैक्रोडर्मा एब्रेशन एक महंगा ट्रीटमेंट है? (Cost of Microdermabrasion Treatment) 

मैक्रोडर्मा एब्रेशन प्रोसेस दो तरह से क‍िए जाते हैं, एक जो मशीन से क‍िया जाता हैं और दूसरा जो क्रीम की मदद से क‍िया जाता है। मशीन वाला प्रोसेस केवल क्‍लीन‍िक में करवाया जा सकता है जबक‍ि क्रीम वाले प्रोसेस को आप घर पर भी कर सकते हैं पर वो ज्‍यादा इफेक्‍ट‍िव नहीं माना जाता। होम बेस्‍ड प्रोसेस से डेड स्‍क‍िन आसानी से नहीं न‍िकलती और न ही चेहरे के दाग पूरी तरह से हटते हैं। होम बेस्‍ड प्रोसेस में आपको केवल मैक्रोडर्मा एब्रेशन क‍िट खरीदनी होती है जो एक हजार तक म‍िल जाती है। इस क‍िट में क्रीम, स्‍क्रब और कुछ टूल्‍स होते हैं। वहीं क्‍लीन‍िकल प्रोसेस में दो से पांच हजार रूपए तक खर्च होते हैं पर आपको असरदार र‍िजल्‍ट म‍िलते हैं। 

मैक्रोडर्मा एब्रेशन ट्रीटमेंट को केवल फ‍िजिश‍ियन, ट्रेन्‍ड कॉस्‍मेट‍िक पर्सन, डर्मेटोलॉज‍िस्‍ट से ही करवाएं। अगर इस प्रोसेस को करवाने से आपकी स्‍क‍िन में कोई बदलाव आता है या परेशानी होती है तो अपने डॉक्‍टर से तुरंत संपर्क करें। 

Read more on Skin Care in Hindi 

Disclaimer