पित्त दोष के कारण शरीर में होती हैं ये 8 बीमारियां, आयुर्वेदाचार्य से जानें इसका कारण और बचाव के तरीके

शरीर में पित्त दोष के कारण कौन-कौन सी बीमारी होती है, इसके बारे में आयुर्वेदाचार्य से जानने के लिए पढ़ें ये आर्टिकल, ताकि बीमारियों से कर सकें बचाव।

Satish Singh
Written by: Satish SinghPublished at: Sep 30, 2021
पित्त दोष के कारण शरीर में होती हैं ये 8 बीमारियां, आयुर्वेदाचार्य से जानें इसका कारण और बचाव के तरीके

वात, पित्त और कफ के कारण शरीर में कई प्रकार की बीमारी होती है। जमशेदपुर के बारीडीह के आयुर्वेदाचार्य डॉ. आनंद पाठक बताते हैं कि आर्युर्वेद में दोष को तीन भागों में वर्गीकृत किया गया है, जिनकी वजह से बीमारी होती है। वात में सीनियर सिटीजन को रखा गया है, जिसके कारण उन्हें वात यानि गैस, गोड़ों में दर्द, गैस सहित इससे जुड़ी बीमारी होती है। पित्त में युवाओं को रखा गया है, जिसमें उन्हें छाती की बीमारियां, स्किन प्रॉब्लम और डायबिटीज जैसी बीमारी होती है। वहीं कफ में बच्चों को रखा गया है, जिन्हें इससे संबंधित बीमारी होती है। आज के इस आर्टिकल में हम पित्त दोष के कारण शरीर में होने वाली बीमारी पर बात करेंगे। इसके बारे में अधिक जानने के लिए पढ़ें ये आर्टिकल। 

त्रीदोष सिद्धांत स्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी

एक्सपर्ट बताते हैं कि आयुर्वेद में त्रीदोष सिद्धांत का जिक्र है। ये स्वास्थ्य के लिए काफी जरूरी है। वात, कफ और पित्त पर शरीर टिका हुआ है। हम जानेंगे कि पित्त क्या है, कौन से रोग ऐसे हैं जो पित्त की श्रेणी में आते हैं। पित्त यदि ठीक न हो तो शरीर में 40 प्रकार के रोग हो सकते हैं। 

Pitta Dosha

पित्त दोष के कारण आने वाली बीमारी

1. सिर दर्द की बीमारी

आयुर्वेदाचार्य बताते हैं कि सिर में किसी भी प्रकार का दर्द, चाहे वो गर्मी की वजह से भी क्यों न हो रहा हो उसका कारण पित्त दोष हो सकता है। इससे बचाव के लिए आप डॉक्टरी सलाह ले सकते हैं।

2. गर्दन से जुड़ी बीमारी

एक्सपर्ट बताते हैं किगर्दन से जुड़ी बीमारी जैसे गर्दन में जलन, खट्टी ढकारें, किसी भी प्रकार का अल्सर पित्त दोष के कारण होता है। इन स्थितियों में भी बीमारी का लक्षण दिखने पर डॉक्टरी सलाह लेना चाहिए। 

3. पीलिया की बीमारी भी है पित्त दोष का कारण

एक्सपर्ट बताते हैं कि पित्त दोष होने के कारण लिवर से संबंधित पीलिया की बीमारी हो सकती है। ये रोग भी इसी श्रेणी में आता है, शरीर में यदि आपको इस प्रकार की समस्या हो तो डॉक्टरी सलाह लें। 

Pitta

4. स्किन में दाने व चक्कते और सफेद दाग

आयुर्वेदाचार्य बताते हैं कि स्किन संबंधी बीमारी में आने वाले रोग जैसे स्किन में दाने और चकत्तों का आना या फिर सदेफ दाग की समस्या पित्त दोष के कारण होने वाली बीमारी है। शरीर में यदि इस प्रकार की बीमारी है तो आपको डॉक्टरी सलाह लेनी चाहिए। 

5. मधुमेह और पैनक्रियाज से जुड़ी बीमारी

एक्सपर्ट बताते हैं कि पैनक्रियाज में इंसुलिन की कमी भी पित्त दोष के कारण होने वाली बीमारी में आती है। मधुमेह के कारण कोई भी गुप्त रोग पित्त दोष के कारण होते हैं। यदि आप भी इन बीमारी से ग्रसित हैं तो डॉक्टरी सलाह लेकर इलाज करवाएं।

6. नाभि के आसपास मरोड़े आना

एक्सपर्ट बताते हैं कि यदि आपको पेट दर्द, ब्लॉटिंग आदि की समस्याएं हो या फिर नाभि के आसपास मरोड़े आए तो तमाम बीमारी पित्त दोष की श्रेणी में आने वाली बीमारी होती है। ऐसे में आपको डॉक्टरी सलाह लेने की आवश्यकता है। 

7. पुरुषों में स्वप्न दोष की समस्या

एक्सपर्ट बताते हैं कि नाभि से नीचे की समस्या भी पित्त दोष की श्रेणी में आती है। पुरुषों की बात करें तो शीघ्रपतन, स्वप्नदोष आदि समस्याएं जो युवा अवस्था में होती है वो इसी के कारण होती है। यदि आप भी इन बीमारियों से ग्रसित हैं तो डॉक्टरी सलाह लें। 

8. महिलाओं की बीमारी

>आयुर्वेदाचार्य बताते हैं कि महिलाओं में पीरियड्स में अनियमितता, ल्यूकोरिया की समस्या, ओवेरी में छाले आदि की समस्या का कारण पित्त दोष में गड़बड़ी का होना है। शरीर में इस प्रकार की बीमारी होने पर डॉक्टरी सलाह लेकर उचित इलाज करवाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : सुबह खाली पेट चाय पीने से सेहत को होते हैं कई नुकसान, आयुर्वेदाचार्य से जानें इससे होने वाली परेशानियां 

इन्हें कैसे किया जाए ठीक

>एक्सपर्ट बताते हैं कि आयुर्वेद में कहा गया है कि आवंला खट्टा होने के बावजूद पित्त को खत्म करता है। इसके लिए हमें आंवले का ज्यादा से ज्यादा सेवन करना चाहिए। आप चाहें तो इसका मुरब्बा, आचार, सूखा आंवला आदि का सेवन कर स्वास्थ्य लाभ उठा सकते हैं। इसके अलावा चंद्रभेदन प्राणायाम आदि भी इस रोग में कारगर साबित होता है। वहीं आप चाहें तो शीतली या शीतकारी प्राणायाम कर स्वास्थ्य लाभ उठा सकते हैं। ठंडी तहसीर का प्राणायाम कर अनुलोम विलोम कर फायदा उठा सकते हैं।

शीतली प्राणायाम ऐसे करें

  • इसे करने के लिए भी आप पलथी मारकर बैठ जाएं
  • शुरुआत में इसे नौ राउंड तक ही करें
  • इसके लिए जीभ को बाहर निकालें, उसे गोल घुमाकर (ट्यूब) लंबी गहरी सांस लें और दाहिने नाक से सांस छोड़ें
  • अब इसी प्रकार जीभ को बाहर निकालें, उसे गोल घुमाकर लंबी गहरी सांस लें और बाएं नाक से सांस छोड़ दें
  • इससे कूलिंग इफेक्ट फील कर पाएंगे, इसमें आप सांस को दोनों ही नाक से छोड़ें
  • रिलेक्स करने के बाद दूसरे प्राणायाम का रुख करें
Prayanayam

शीतकारी प्राणायाम करें

जो लोग शीतली प्राणायाम नहीं कर पाते हैं वो शीतकारी प्राणायाम कर सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि वो अपनी जीभ को ट्यूब नुमा आकार नहीं बना पाते हैं। ऐसे में वो इस प्राणायाम को कर सकते हैं। इसे करने के लिए

  • उपरी जबड़े वाले दांत को नीचे के जबड़े वाले दांत से मिलाएं लंबी गहरी सांस लें (सांस लेने के क्रम में सीटी जैसी आवाज आनी चाहिए)
  • दाहिने नाक को बंद करें व बाएं नाक से छोड़ दें
  • ऐसा करीब 5 बार करें
  • इसके बाद सांस लेने की इसी प्रक्रिया को करें लेकिन बाएं नाक को बंद कर दाएं नाक से छोड़ें

पित्त से जुड़ी समस्या होने पर लें डॉक्टरी सलाह

पित्त से जुड़ी बताई गई समस्या होने पर आप चाहें तो डॉक्टरी सलाह या फिर आयुर्वेदाचार्य की सलाह ले सकते हैं। वहीं आप चाहें तो एक्सपर्ट से सलाह लेने के बाद खानपान में परिवर्तन करने के साथ योगाभ्यास कर सकते हैं।

Disclaimer