पित्त को बढ़ाते हैं ये 7 फूड्स, पित्त प्रकृति वाले न करें इनका सेवन

Pitta Dosha : आयुर्वेद के अनुसार स्वस्थ रहने के लिए हमेशा अपनी प्रकृति के अनुसार ही भोजन करना चाहिए। प्रकृति के विरुद्ध भोजन करने से कई रोग होते हैं।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Jun 16, 2021Updated at: Jun 16, 2021
पित्त को बढ़ाते हैं ये 7 फूड्स, पित्त प्रकृति वाले न करें इनका सेवन

पित्त दोष क्या है (What is Pitta Dosha)? पित्त शरीर में अग्नि और जल तत्वों से मिलकर बनता है। यह शरीर में हार्मोन, एंजाइम, शरीर के तापमान और पाचक अग्नि को नियंत्रित करता है। पित्त पेट और छोटी आंत में प्रमुखता से पाया जाता है। शरीर में पित्त का संतुलन (Pitta in Body) में होना बहुत जरूरी होता है, क्योंकि पित्त असंतुलित होने पर कई रोगों कारण बन सकता है। पित्त से लगभग 40 तरह के रोग जन्म ले सकते हैं।

पित्त प्रकृति वाले लोगों को अकसर पेट में एसिडिटी और कब्ज की समस्या रहती है (Acidity and Constipation in Pitta Dosha)। इनकी पाचक अग्नि कमजोर पड़ जाती है, जिससे ये भोजन को अच्छे से डायजेस्ट नहीं कर पाते हैं। हमेशा स्वस्थ रहने के लिए पित्त का संतुलित होना बहुत जरूरी होता है। पित्त प्रकृति वाले लोगों को हमेशा ठंडी, मीठी चीजों का सेवन करना चाहिए। साथ ही गर्म तासीर और खट्टी चीजें शरीर में पित्त बढ़ाने का कारण होते हैं। अगर आपके शरीर में लाल चकते या फोड़े-फुंसी रहते हैं, आपको एसिडिटी की समस्या है, गुस्सा बहुत जल्दी आता है तो समझ जाइए कि आपके शरीर की प्रकृति पित्त है। ऐसे में इसे संतुलन में रखने के लिए आपको कुछ चीजों से हमेशा दूरी बनाकर रखनी चाहिए। चरक हॉस्पिटल की आयुर्वेदाचार्य सुषमा से जानते हैं कि पित्त प्रकृति वाले लोगों को किन चीजों से दूरी बनाकर रखनी चाहिए (Foods to Avoid in Pitta Dosha)।

spices increase pitta

आयुर्वेद के अनुसार अगर आपकी पित्त प्रकृति है, तो आपको कभी भी खट्टे और गर्म तासीर वाली चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए। इनके सेवन से आपको कोई फायदा नहीं मिलेगा, बल्कि इससे आपको नुकसान हो सकता है। चलिए जानते हैं, किन चीजों से आपको दूरी बनाकर रखनी है-

1. लाल मिर्च बढ़ाए पित्त (Red Chilies Increase Pitta)

पित्त प्रकृति वाले लोगों को भूलकर भी लाल मिर्च का सेवन नहीं करना चाहिए। लाल मिर्च की तासीर बहुत गर्म होती है, ऐसे में अगर पित्त प्रकृति वाले लोग इसे अपने भोजन में शामिल करेंगे तो इससे उनके शरीर में पित्त बढ़ सकता है। पित्त प्रकृति वाले लोग लाल मिर्च की जगह हरी मिर्च का सेवन कर सकते हैं। लाल मिर्च पित्त को बढ़ाने का एक प्रमुख कारण होता है।

इसे भी पढ़ें - पित्त दोष को शांत करने के लिए रोज करें ये 3 योगासन

2. मसालों से बढ़ता है पित्त (Spices Cause to Increase Pitta)

भारतीय घरों में भोजन को स्वादिष्ट बनाने के लिए कई तरह के मसालों का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन पित्त प्रकृति वाले लोगों के लिए मसाले का सेवन करना नुकसानदायक हो सकता है। पित्त प्रकृति वालों को खाने में इस्तेमाल होने वाले मसाले जैसे काली मिर्च, दालचीनी, तेजपत्ता, लौंग आदि के सेवन से बचना चाहिए। मसालों में आप धनिया का इस्तेमाल कर सकते हैं। धनिया की तासीर ठंडी होती है, जो पित्त प्रकृति वालों के लिए फायदेमंद होती है। साथ ही लहसुन, अदरक का भी आपको सीमित मात्रा में ही उपयोग करना चाहिए। अगर आपको पित्त ज्यादा बढ़ा हुआ है, तो इनसे भी दूरी बनाकर रखें।

3. ड्राय फ्रूट्स बढ़ाए पित्त (Dry Fruits Increase Pitta in Body)

ड्राय फ्रूट्स (Dry Fruits) यानी सूखे मेवे की तासीर बहुत गर्म होती है। पित्त प्रकृति वालों में इनका दुष्प्रभाव देखने को मिलता है। अगर आपकी पित्त प्रकृति है, तो आपको इनके सेवन से बचना चाहिए। आपको कभी भी काजू, बादाम, किशमिश, पिस्ता और अखरोट का सेवन नहीं करना चाहिए। अगर आप चाहें तो बादाम को रातभर भिगोकर रखें और सुबह इसका सेवन कर सकते हैं, इससे उसकी तासीर ठंडी हो जाती है। मूंगफली भी शरीर में पित्त को बढ़ाने का कारण होती है। सर्दियों में भी मूंगफली का सेवन नहीं करना चाहिए।

citrus fruits

4. खट्टे फलों से बढ़ता है पित्त (Citrus Fruits Increase Pitta)

पित्त प्रकृति वाले लोगों को खट्टी चीजों से भी परहेज करना होता है। खट्टी चीजें शरीर में पित्त की मात्रा को बढ़ाते हैं, जिससे कई तरह के रोग हो सकते हैं। अगर आपकी पित्त प्रकृति है तो खट्टे फलों (Citrus Fruits) का सेवन भूलकर भी न करें। इसमें आप संतरा, मौसंबी, कीवी, चकोतरा आदि के सेवन से बचें। इसकी जगह आप पित्त को शांत करने वाले फल जैसे तरबूज, खीरा, सेब आदि का सेवन कर सकते हैं। 

5. तला-भुना भोजन बढ़ाए पित्त (Fried Foods Increase Pitta in Body)

वैसे तो ज्यादा तला-भुना आहार सभी के लिए नुकसानदायक होता है, लेकिन पित्त प्रकृति वालों को यह सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाता है। इनके ज्यादा सेवन से शरीर में पित्त बढ़ने की संभावना रहती है। ऐसे में आपको इनका सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें - शरीर में क्यों बढ़ता है पित्त? जानें इसे संतुलित करने के घरेलू उपाय

6. कैफीन से बढ़ता है पित्त (Caffeine Increases Pitta)

पित्त प्रकृति वाले लोगों को कैफीन युक्त चीजों से भी दूरी बनाकर रखनी होती है। कैफीन युक्त चीजें जैसे चाय, कॉफी, सोडा और चॉकलेट्स भी पित्त को बढ़ाने की मुख्य वजह होते हैं। इनका सेवन आपको भूलकर भी नहीं करना चाहिए। इसकी जगह आप हर्बल टी या कूल ड्रिंक्स का सेवन कर सकते हैं। इनसे पित्त शांत होता है।

7. गर्म तासीर की सब्जियां (Hot Steamed Vegetables Increase Pitta)

पित्त को बढ़ाने के लिए आपको गर्म तासीर की सब्जियों का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। साथ ही चिपचिपी सब्जियों से भी दूरी बनाकर रखनी चाहिए। इसमें आपको बैंगन, अरबी, भिंडी, कटहल, सरसों का साग आदि से दूरी बनाकर रखनी चाहिए। पित्त को संतुलित करने के लिए आप पालक, बींस, परवल और सीताफल का सेवन कर सकते हैं।

इन चीजों से भी बढ़ता है पित्त (These Things Also Increase Pitta)

  • गर्म तासीर की दालें (Hot Lentils) - पित्त प्रकृति वालों के लिए अंकुरित मूंग बहुत फायदेमंद होता है
  • मैदा (Maida)
  • प्रोसेस्ड और फास्ट फूड (Processed and Fast Food)
  • शराब (Alcohol)
  • ज्यादा धूप में रहने से भी पित्त बढ़ता है। (Sunlight also Increases Pitta)
  • अग्नि के पास बैठने (Fire Increase Pitta)
  • ज्यादा एक्सरसाइज करने (Heavy Workout)
  • मानसिक तनाव (Mental Stress)
  • गुस्सा (Anger)
  • चिकन, मटन और फिश (Chicken, Mutton and Fish Increase Pitta in Body)

ऊपर बताए गए सभी चीजों से शरीर में पित्त बढ़ता है। ऐसे में अगर आपकी पित्त प्रकृति है, तो आपको इन सभी चीजों से पूरी तरह से दूरी बनाकर रखनी चाहिए। अगर आप हमेशा खुश रहते हैं, तो आपका पित्त संतुलन में रहता है। आयुर्वेद के अनुसार एक व्यक्ति तभी स्वस्थ रह सकता है, जब वह अपनी प्रकृति के अनुसार आहार-विहार करता है। अगर आपको अपनी प्रकृति के बारे में जानकारी नहीं है, तो आप एक बार किसी आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं। वे आपके बारे में जानकर आपकी प्रकृति के बारे में बताने में आपकी मदद करेंगे।

Read More Articles on Ayurveda in Hindi

Disclaimer