Doctor Verified

दिल की नसें कमजोर होने के हो सकते हैं ये कारण, जानें इसके लक्षण और होने वाली समस्याएं

दिल की नसें कमजोर होने की वजह से आपको हार्ट अटैक जैसी गंभीर समस्या हो सकती है, जानें दिल की नसों के कमजोर होने का कारण और लक्षण। 

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Apr 08, 2022Updated at: Apr 08, 2022
दिल की नसें कमजोर होने के हो सकते हैं ये कारण, जानें इसके लक्षण और होने वाली समस्याएं

हार्ट अटैक, हार्ट फेलियर जैसी समस्याएं अब कम उम्र के लोगों में भी बहुत ज्यादा देखी जा रही हैं। दिल के मरीजों की बढ़ती संख्या के पीछे सबसे बड़ा कारण आज के समय की बदलती जीवनशैली और खानपान माना जा रहा है। एक आंकड़े के मुताबिक भारत में कार्डियोवैस्कुलर डिजीज के मरीज तेजी से बढ़ रहे हैं। दिल से जुड़ी समस्याओं में आपको शुरूआती समय से ही कई लक्षण दिखाई देने शुरू हो जाते हैं। हार्ट में कई रक्त वाहिकाएं, धमनियां मौजूद होती हैं जिनका काम ब्लड की शरीर की अंगों में सप्लाई करना है। दिल की नसों में समस्या होने पर आपको गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। इसकी वजह से आपको हार्ट ब्लॉकेज की समस्या भी हो सकती है। कई बार दिल की आंतरिक स्वास्थ्य से जुड़ी स्थितियों और लाइफस्टाइल व खानपान से जुड़े कारणों की वजह से लोगों की हार्ट की नसें कमजोर हो जाती हैं जिसकी वजह से आपको कई गंभीर समस्या का सामना करना पड़ता है। आइये जानते हैं दिल की नसें कमजोर क्यों होती हैं और इसकी वजह से क्या समस्याएं हो सकती हैं?

दिल की नसें कमजोर होने का कारण (Weak Heart Veins Causes in Hindi)

दिल की नसों में समस्या होने की वजह से हार्ट अटैक का खतरा भी बढ़ जाता है। इसकी वजह से हार्ट अटैक के अलावा कई अन्य गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। बाबू ईश्वर शरण अस्पताल के सीनियर कार्डियोलॉजिस्ट डॉ आर के यादव के मुताबिक दिल की नसों में कमजोरी कई कारणों से हो सकती है। इसके पीछे आपका खानपान और जीवनशैली भी जिम्मेदार माने जाते हैं। दिल की नसों के कमजोर होने के पीछे ये प्रमुख कारण जिम्मेदार माने जाते हैं।

इसे भी पढ़ें : क्या सीजनल फ्लू भी बन सकता है हार्ट फेलियर का कारण? डॉक्टर से जानें फ्लू के कारण होने वाली गंभीर समस्याएं

Weak-Heart-Veins-in-Hindi

1. हाई ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन की समस्या की वजह से आपके दिल की नसें कमजोर हो सकती हैं। हाई ब्लड प्रेशर की वजह से हार्ट अटैक की समस्या भी सबसे ज्यादा होती है।

2. मोटापे की समस्या की वजह से भी दिल की बीमारियों का खतरा बना रहता है। मोटापे की वजह से आपको हार्ट अटैक की संभावना भी ज्यादा रहती है। मोटापे से ग्रस्त लोगों के दिल की नसें कमजोर हो सकती हैं।

3. शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल की वजह से भी आपके दिल की नसें कमजोर हो जाती हैं और इसकी वजह से दिल की नसों में प्लाक जमा हो जाता है। यह समस्या कई बार गंभीर भी हो सकती है।

इसे भी पढ़ें : आखिर क्यों भारतीय लोगों में ज्यादा होता है कार्डियोवस्कुलर बीमारियों का खतरा? जानें डॉक्टर की राय

4. दिल की बीमारियों का एक प्रमुख जोखिम कारक धूम्रपान है। धूम्रपान करने से हार्ट अटैक का खतरा भी बढ़ता है। धूम्रपान करने की वजह से आपके दिल की नसें भी कमजोर होती हैं, जो आगे चलकर कई गंभीर बीमारियों का कारण बनता है।

5. डिप्रेशन या अवसाद की वजह से शरीर में रिलीज होने वाले स्ट्रेस हॉर्मोन आपकी नसों को गंभीर नुकसान पहुंचाते हैं। इसकी वजह से नसें कमजोर होती हैं और दिल की बीमारी का जोखिम बढ़ता है।

6. हार्ट वाल्व से जुड़ी समस्या होने के कारण भी आपके दिल की नसें कमजोर हो जाती हैं और इसकी वजह से कई गंभीर समस्याएं हो सकती हैं।

दिल की नसें कमजोर होने के लक्षण ( Weak Heart Veins Symptoms in Hindi)

दिल की नसें कमजोर होने की वजह से आपको कई गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। नसों के कमजोर होने से आपको हार्ट अटैक, हार्ट फेलियर होने का खतरा सबसे ज्यादा रहता है। दिल की नसें कमजोर होने पर आपको ये लक्षण दिखाई दे सकते हैं।

  • सांस लेने में परेशानी
  • पैरों में गंभीर दर्द
  • पैर में सूजन की समस्या
  • छाती में दर्द
  • हार्ट अटैक
  • कंधे में दर्द
  • लगातार सर्दी और जुकाम बना रहना

दिल की नसें कमजोर होने से होने वाली समस्याएं

दिल की नसों के कमजोर होने की वजह से आपको दिल से जुड़ी गंभीर बीमारियों का खतरा बना रहता है। इसकी वजह से आपको हार्ट अटैक आ सकता है और आगे चलकर कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। दिल की नसें कमजोर होने से कोरोनरी आर्टरी डिजीज का खतरा बढ़ जाता है। दिल की नसें कमजोर होने पर दिखने वाले लक्षणों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और समय-समय पर दिल की सेहत की जांच जरूर करानी चाहिए।

(All Image Source - Freepik.com) 

 
Disclaimer