हीमोग्लोबिन की कमी है तो जरूर अपनाएं ये 7 हेल्दी टिप्स

अगर आपको पारियड्स के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग होती है या फिर असंतुलित पीरियड्स होते हैं तो ये हीमोग्लोबिन की कमी के कारण हो सकते हैं।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariUpdated at: Sep 13, 2021 15:23 IST
हीमोग्लोबिन की कमी है तो जरूर अपनाएं ये 7 हेल्दी टिप्स

हीमोग्लोबिन (hemoglobin) क्या है, ये सवाल अक्सर हम सभी के मन में आता है। खास कि जब हम अपना ब्लड टेस्ट रिपोर्ट देखते हैं या फिर डॉक्टर के द्वारा इसके बारे में सुनते हैं। दरअसल, हीमोग्लोबिन एक ऐसा स्ट्रक्चर है जो हमारे ब्लड में पाया जाता है। ये हमारे सेल्स को ऑक्सीजन पहुंचाता है। पर हीमोग्लोबिन की कमी होने पर आपके शरीर में इसके कई लक्षण (low hemoglobin symptoms in hindi) नजर आने लगते हैं। जैसे कि आपकी स्किन डल होने लगती है,  एक्ने बढ़ जाता है, बाल तेजी से झड़ते हैं, मूड स्विंग्स होते हैं और आपको कमजोरी महसूस होने लगती है। ऐसे में जरूरी है कि हम हीमोग्लोबिन की कमी को दूर करने के उपायों के बारे में जानें। हाल ही में सेलिब्रिटी फिटनेस न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर (Rujuta Diwekar) के टीम की एक और न्यूट्रिशनिस्ट ग़ज़ल फ़र्निचरवाला (Ghazal Furniturewala) ने हीमोग्लोबिन बढ़ाने के लिए कुछ नेचुरल टिप्स (Natural health tips to increase Hemoglobin) शेयर किए। पर उससे पहले जानते हैं हीमोग्लोबिन की कमी का कारण और लक्षण।  

Inside3tipstoincreaseHemoglobin levels

image credit:  Blood Test Results Explained

हीमोग्लोबिन की कमी का कारण-Causes of low hemoglobin

हीमोग्लोबि की कमी सबसे पहले तो असंतुलित आहार के कारण होती है जिससे कि शरीर में मिनरल्स और न्यूट्रिएंट्स की कमी हो जाती है। इसके अलावा भी हीमोग्लोबिन की कमी के कई कारण हो सकते हैं। जैसे कि 

  • -शरीर में रेड ब्लड सेल्स की कमी के कारण
  • -एनीमिया के कारण
  • -किडनी की बीमारी होने पर
  • - दवाएं, जैसे एचआईवी संक्रमण के लिए एंटीरेट्रोवायरल दवाएं और कैंसर जैसी स्थितियों के लिए कीमोथेरेपी के दौरान
  • -किडनी की पुरानी बीमारी
  • -सिरोसिस
  • -हाइपोथायरायडिज्म 
  • -IBS की समस्या
  • -रूमेटाइड अर्थराइटिस में 
  • -विटामिन की कमी के कारण
  • - शरीर में रेड ब्लड सेल्स तेजी से खत्म होने के कारण
  • -आनुवांशिक असामान्यता
  • -थैलेसीमिया के कारण
  • -पीरियड्स में भारी ब्लीडिंग के कारण

हीमोग्लोबिन की कमी के लक्षण -low hemoglobin symptoms

  • -थकान और सुस्ती
  • -सिर भारी रहना
  • -चेहरे का पीला पड़ जाना
  • -सीढ़ियां चढ़ते समय सांस फूलना या चक्कर आना। 
  • -घबराहट होना
  • -चिड़चिड़ापन रहना
  • -मूड स्विंग्स होना
  • -डिप्रेशन के लक्षण
  • -ध्यान लगाने में कमी
  • हाथ पैर ठंड होना और कमजोरी महसूस होना। 
migraine-high-blood-pressure-inside1

हीमोग्लोबिन की कमी को दूर करने के उपाय-Natural health tips to increase Hemoglobin levels

न्यूट्रिशनिस्ट ग़ज़ल फ़र्निचरवाला (Ghazal Furniturewala) बताती हैं कि पहले तो हमें ये जानना चाहिए कि हीमोग्लोबिन के दो भाग होते हैं जिसमें पहला है  हीम (Hem) और दूसरा है ग्लोबिन (globin)। हीम मतलब होता है आयरन (iron) और ग्लोबिन मतलब होता है प्रोटीन (Protein)। इसलिए ज्यादातर लोगों को लगता है सिर्फ आयरन के सेवन से हीमोग्लोबिन बढ़ जाएगा। जबकि ऐसा नहीं है। हीमोग्लोबिन बढ़ाने के लिए हमें आयरन के अलावा प्रोटीन और कई अन्य मल्टी न्यूट्रिएंट्स भी चाहिए। तो आइए जानते हैं हीमोग्लोबिन बढ़ाने के लिए हम क्या कर सकते हैं?

1. भोजन में लंबे अंतराल से बचें

भोजन के लंबा गैप या अंतराल लेना आपके हीमोग्लोबिन की कमी का शिकार बना सकता है। जी हां, अगर आपके एक खाने से दूसरे खाने के बीच 2 से 3 घंटे से ज्यादा का अंतराल रहता है, तो धीमे-धीमे आपके शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी हो सकती है। दरअसल, जब हम लंबे तक खाना नहीं खाते हैं तो इससे आयरन का संशेषण घट जाता है। यानी कि शरीर में आयरन की कमी होने लगती है। खास कर फास्टिंग के दौरान शरीर का बड़ा नुकसान होता है। इसलिए समय से खाएं और संतुलित खाएं। 

2. जुलाब (laxatives) का प्रयोग कम करें

पेट साफ करने वाली दवाइयों और चूर्ण से दूर रहें। दरअसल, आप जब ये लेने लगते हैं तो ये पेट पर काम करना बंद कर देता है और आपको लगेगा कि आपको इसी एक बड़ी मात्रा लेना है जबकि ये आपके पेट को साफ नहीं कर रहा होगा। इन पेट साफ करने वाली दवाओं का नुकसान ये है कि इससे शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी होने लगती है।  इसके अलावा ये दवाइयां हमारी गट की गुड बैक्टीरिया को भी नुकसान पहुंचाते हैं। फिर हम सही मात्रा में खा-पी नहीं पाते हैं जिससे हीमोग्लोबिन की कमी हो जाती है। इससे सेल्स को ऑक्सीजन नहीं मिल पाता है और आप डल व थका महसूस करने लगते हैं। 

Inside2veges

3. दालों को भिगोकर अंकुरित करके पकाएं

ग्लोबिन यानी कि प्रोटीन के लिए आपको दाल खाना चाहिए। पर दाल खाने का सही तरीका ये है कि आपको दालों को भिगो कर रखना चाहिए। फिर इसको मलमल के कपड़े में बांध कर रखें और अंकुरित हो जाएं तब इनका दाल पकाएं। इससे इनका पोषण बढ़ जाता है। इसके अलावा आप अलग-अलग प्रकारों के दालों को अंकुरित कर इसका सेवन कर सकते हैं। आप ऐसे दालों को सलाद में, चटनी में, हलवा में या फिर सूप आदि बनाने के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं। साथ ही आप सब्जी में भी दाल मिला कर खा सकते हैं। ध्यान रखें कि आपको 1 महीने में कम से 12 अलग-अलग प्रकार के दालों का सेवन करना चाहिए। जैसे कि

  • -मूंग
  • -मटकी
  • -लोबिया
  • -चना
  • -छोले
  • -राजमा
  • -चौली
  • -अलसी
  • -मसूड़ आदि।

4. हर रोज आंवला खाएं

आंवले का डोज, हर रोज यानी कि आपको रोज आंवला खाना है। दरअसल, आंवला सिर्फ विटामिन सी से ही भरपूर नहीं होता है बल्कि ये हीमोग्लोबिन बढ़ाने में भी मदद करता है। ध्यान रहे कि आपको आंवले का पाउडर या जूस नहीं पीना है बल्कि पारंपरिक और सीधे तौर पर आंवला खाना है। जैसे कि लंच में आंवले का अचार खाएं। आंवले का मुरब्बा खाएं। इसे खाने से विटामिन सी मिलता है जो कि  हीमोग्लोबिन के लक्षण को कम कर सकता है। जैसे कि मतली और उल्टी को कम करने में मदद करता है। 

Inside1amla

5.  मौसमी हरी सब्जियां खाएं

आयरन का नाम लेते ही हमें लगता है सिर्फ पालक खाने से ही हमें आयरन मिलेगा जबकि ऐसा नहीं है। दरअसल, आपको मौसमी हरी सब्जियों को खाना चाहिए जो कि शरीर में मिनरल्स और न्यूट्रिएंट्स को बढ़ावा देते हैं और शरीर में आयरन बढ़ाने में मदद करते हैं। साथ ही अपने लोकल सब्जियों और रेसिपी को अपनी डाइट में शामिल करें। 

6. लोहे के बर्तनों में खाना पकाएं

लोहे के बर्तन में खाना पका कर खाने से शरीर में आयरन की मात्रा बढ़ती है जिससे लो हीमोग्लोबिन लेवन में सुधार होता है। इसके अलावा ज्‍यादातर महिलाओं में खून की कमी की समस्‍या देखी जाती है, ऐसे में लोहे के बर्तन में खाना पका कर खाने से शरीर में खून की कमी दूर हो जाती है। 

इसे भी पढ़ें: लोहे की कड़ाही में खाना बनाने वाले इन 7 बातों का रखें विशेष ध्यान, रुजुता दिवेकर से जानें हेल्दी कुकिंग टिप्स

7. हलीम के बीजों का सेवन करें

हलीम के बीज के फायदे की बात करें तो इसमें कैल्शियम, विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन ई, प्रोटीन, आयरन, फोलिक एसिड और आहार फाइबर जैसे पूर्ण पोषक तत्व हैं। खास बात ये है इससे लड्डू बना कर या चटनी बना कर इसका लगातार सेवन करने से शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी नहीं होती। साथ ही  हलीम के बीजों में मौजूद प्रोटीन तृप्ति की भावना को बढ़ाता है और हंगर हार्मोन ग्रेलिन यह सुनिश्चित करता है कि आप अधिक भोजन न करें।

तो, ये थे वे 7 नेचुरल टिप्स जिसकी मदद से आप शरीर में हीमोग्लोबिन के लेवल को ठीक कर सकते हैं। इसके अलावा ध्यान रखें कि आपकी नींद और स्ट्रेस लेवल भी आपके हीमोग्लोबिन को प्रभावित करता है। इसलिए इन दोनों चीजों की बेहतरी का खास ख्याल रखें।

All images: getty images

Read more articles on Other-Diseases in Hindi

Disclaimer