Coronavirus Update: देश भर में 7 लाख से ज्यादा लोगों को लगा कोरोना का टीका, एक्टिव मामलों में भी आई गिरावट

भारत में कोरोना से रिकवरी रेट 96.69 फीसदी हो गई है और संक्रमण की रफ्तार घटने लगी है। अब भारत अपने पड़ोसी देशों को भी कोरोना के टीके भेजेगा।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Jan 21, 2021Updated at: Jan 21, 2021
Coronavirus Update: देश भर में 7 लाख से ज्यादा लोगों को लगा कोरोना का टीका, एक्टिव मामलों में भी आई गिरावट

देशभर में कोरोनावायरस का टीकाकरण अभियान (COVID Vaccination in India) तेजी से आगे बढ़ रहा है और अब धीमे-धीमे कोरोना संक्रमितों की संख्या में गिरावट आ रही है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी किए आंकड़ों की मानें, तो  अब कोरोना की रफ्तार अब धीमी पड़ रही है। अब देश में एक्टिव मामलों (Covid Active Cases in India) की संख्या 2 लाख के नीचे आ गई है। पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 13823 नए मामले सामने आए हैं, जिसके साथ संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 1,05,95,660 पर पहुंच गए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की जानकारी के अनुसार अब तक 1,02,45,741 लोगों की कोरोना से रिकवरी हो चुकी है और अब भारत में कोरोना से रिकवरी रेट 96.69 फीसदी हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार बीते 24 घंटे में 162 लोगों की मौत हुई है और अब मृतकों संख्या बढ़कर 1,52,718 पर पहुंच गई है, इस तरह से संक्रमण से डेथ रेट 1.44 फीसदी पर पहुंच गया है।

Insidecovidvaccine

देश भर में 7 लाख से ज्यादा लोगों को लगा कोरोना का टीका-COVID Vaccination in India

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों की मानें, तो टीकाकरण अभियान के पांचवें दिन 7.86 लाख स्वास्थ्य कर्मियों को COVID-19 को टाका लग चुका है। बुधवार को, 20 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में शाम 6 बजे तक 1,12,007 लाभार्थियों का टीकाकरण किया गया। साथ ही स्वास्थ्य मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव, मनोहर अगनानी की मानें, तो टीकाकरण के दस मामलों में दिल्ली में चार, कर्नाटक में दो, और उत्तराखंड, छत्तीसगढ़, राजस्थान और पश्चिम बंगाल में एक-एक अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता हुई है।  पर अभी तक कोविड-19 टीकाकरण के बाद कोई भी गंभीर मामला सामने नहीं आया है।

इसे भी पढ़ें : किन्हें नहीं लगवाना चाहिए Covaxin और Covishield वैक्सीन और क्या हो सकते हैं दुष्प्रभाव? जानें सभी जरूरी बातें

भारत पड़ोसी देशों को भी भेज रहा है कोरोना का टीका

इस बीच,  भारत ने अपनी  ‘neighbourhood first’ नीति के तहत  भूटान और मालदीव को कोरोना के टीके भेजे हैं। इस तरह  भूटान और मालदीव भारत से कोरोना के टीके प्राप्त करने वाले पहले दो देश बन गए हैं। विदेश मंत्री एस.जयशंकर ने दोनों देशों में पहुंची खेपों की फोटो ट्विटर पर साझा की। एक बार आवश्यक विनियामक अनुमोदन देने के बाद श्रीलंका, अफगानिस्तान और मॉरीशस को भी खुराक मिलेगी।

CoWIN एप में भी आ रही हैं समस्याएं

वैक्सीनेशन प्रोग्राम का मैनेजमेंट देख रहे मैनेजमेंट ग्रुप के अध्यक्ष आर.एस शर्मा की मानें, तो कोविन एप (CoWIN) में कुछ समस्याएं देखी गई हैं, लेकिन दिक्कतें बहुत छोटे स्तर की हैं और उन्हें तुरंत ठीक किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस एप को सिटिजन सेंट्रिक बनाने की कोशिश की जा रही है ताकि लोग आसानी से अपने डिटेल्स दे सकें। बता दें कि भारत का ये टीकाकरण अभियान दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण कार्यक्रम है, जिसके तहत लगभग 3 करोड़ स्वास्थ्यकर्मियों को कोविड की वैक्सीन लगाई जानी है, जिसमें कि इस एप की मदद ली जाएगी।  इस एप में वैक्सीन डिलीवर होने से लेकर लाभार्थियों की डिटेल रखने के अलावा पूरे ड्राइव के मॉनिटरिंग की जाएगी, जिसमें कि अभी कुछ परेशानियां सामने आ रही है। इसके लिए सरकार तेजी से काम कर रही हैं ताकि जब आम लोगों का वैक्सीनेशन शुरू होगा और इस प्लेटफॉर्म से आम लोग जुड़ें, तो उन्हें कोई परेशानी न हो।

इसे भी पढ़ें : भारत में घट रही है कोरोना की रफ्तार, जून 2020 के बाद पहली बार पिछले 24 घंटे में आए सबसे कम मामले

गौरतलब है कि कोरोना का वैक्सीन फिलहाल बच्चों को नहीं लगाया जा सकता है। पर एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया की मानें, तो बच्चों के लिए नाक द्वारा लगने वाली वैक्सीन बनानी होगी। ताकि बच्चों में हम कोरोना के संक्रमण को रोक सकें। दरअसल, एक बार जब बच्चे नियमित रूप से स्कूल जाना शुरू कर देंगे, तो कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ेगा इसलिए संक्रमण के इस खतरे को रोकने के लिए जल्द ही बच्चों के लिए कोरोना के टीका बनना होगा।

Read more articles on Health-News in Hindi

Disclaimer