आज से शुरू हुआ कोरोना के खिलाफ वैक्सीन का महाअभियान, मंत्रालय ने बताया टीकों से हो सकती हैं कुछ आम समस्याएं

स्वास्थ्य मंत्रालय ने वैक्सीन से जुड़ी गाइडलाइंस और कुछ साइड इफैक्ट्स की जानकारी दी है। साथ ही जानें Co-WIN एप रजिस्ट्रेशन का तरीका...

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Jan 16, 2021Updated at: Jan 16, 2021
आज से शुरू हुआ कोरोना के खिलाफ वैक्सीन का महाअभियान, मंत्रालय ने बताया टीकों से हो सकती हैं कुछ आम समस्याएं

कोरोनावायरस के खिलाफ वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) आज यानी 16 जनवरी से शुरू होने जा रहा है। लोगों के मन में उम्मीद के साथ-साथ एक सवाल यह भी है कि यह क्या हर व्यक्ति इस अभियान का हिस्सा बन सकता है? बता दें कि केंद्र स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस सवाल का उत्तर देते हुए कुछ गाइडलाइंस जारी की हैं। यह गाइडलाइंस राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को सूची के रूप में भेजी गई हैं। वैक्सीनेशन (Covid-19 Vaccine) से जुड़े निर्देश इस सूची में शामिल हैं। साथ ही मंत्रालय ने यह भी बताया है कि किन लोगों को यह टीका लगवाना है और किन लोगों को नहीं लगवाना है। जानते हैं इसके बारे में...

 Corona_vaccination

इन लोगों को नहीं लगेगा टीका

1- कोविड-19 वैक्सिन 18 साल से कम आयु के लोगों को नहीं लगेगी। यह वैक्सीन केवल 18 साल से अधिक आयु के लोगों पर इस्तेमाल की जाएगी।

2- जो महिलाएं गर्भवती हैं या स्तनपान कराने वाली महिलाएं इस कोविड-19 टीके को ना लगवाएं क्योंकि अभी तक इन महिलाओं को वैक्सीनेशन के किसी भी क्लिनिकल ट्रायल का हिस्सा नहीं बनाया गया है।

3- स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपने पत्र में कहा है कि व्यक्ति को दूसरी खुराक भी उसी वैक्सीन की दी जाएगी जो उसने पहली वैक्सीन की ली थी। उदाहरण के तौर पर यदि किसी व्यक्ति ने पहले डोज कोवैक्सीन का लिया है तो उसे दूसरा डोज भी कोवैक्सीन का ही लेना होगा। यानि मंत्रालय ने इंटरचेंज की अनुमति नहीं दी है।

4- जिन लोगों को पहली खुराक लेने के दौरान ऑलफ्लेक्टिक या एलर्जी रिएक्शन हुआ है उन्हें वैक्सीन की दूसरी डोज नहीं दी जाएगी।

5- जिन सार्स-कोव-2  मरीजों को प्लाज्मा दिया गया है उन्हें ये वैक्सीन नहीं लगेगी।

6- जो लोग किसी भी बीमारी के चलते अस्पताल में भर्ती हुए हैं या वे अस्वस्थ हैं उन्हें भी वैक्सीन नहीं लगेगी।

7- जो लोग सार्स-कोव-2 संक्रमण से संक्रमित हैं या उनमें सक्रिय लक्षण देखे गए हैं उन लोगों को भी ये टीका नहीं लगेगा।

8- जिन लोगों को एनफ्लेक्सिस या एलर्जी, खाद्य पदार्थ, वैक्सीन या इंजेक्टेबल थेरेपी के माध्यम से हुई है उन लोगों को भी वैक्सीन नहीं लगेगी।

9- सार्स-कोव-2 से ग्रस्त मरीज जिन्हें सार्स-कोव-2 मोनोक्लोनल एंटीबॉडी दिया गया है और उनके लिए भी इस वैक्सीन को लगवाने की अस्थाई मनाही है।

इसे भी पढें- सार्वजनिक टॉयलेट को इस्तेमाल करने में रहें थोड़ा सावधान, कोरोना संक्रमण का खतरा है ज्यादा

वैक्सीन लगवाने के बाद दिख सकते हैं कुछ साइड-इफैक्ट्स

  • स्वास्थ्य मंत्रालय ने गाइडलाइंस के साथ-साथ कुछ ऐसे साइड इफेक्ट्स भी बताए हैं जो टीकाकरण के बाद नजर आ सकते हैं। कोविशील्ड के मामले में हल्का सर दर्द, थकान, ठंड लगना, उल्टी आना, इंजेक्ट साइड दर्द आदि साइड इफेक्ट्स देखने को मिल सकते हैं। वही कोवैक्सीन के मामले में बुखार, शरीर में दर्द, पेट में दर्द, सर दर्द, इंजेक्ट साइड दर्द, उल्टी, शरीर का कांपना, सर्दी, पसीना, खांसी, चक्कर आना, इंजेक्ट के स्थान पर सूजन आना आदि साइड इफेक्ट्स देखने को मिल सकते हैं।
  • जिस व्यक्ति को वैक्सीन की पहली खुराक दी गई है उसे अन्य टीका या वैक्सीन की दूसरी खुराक 14 दिन के बाद ही दी जाएगी।

क्या है Co-WIN एप (what is Co-WIN App) 

बता दें कि टीकाकरण के लिए सरकार ने एक एप तैयार की है, जिसका नाम है Co-WIN एप। सरकार ने कहा है कि टीकाकरण की पूरी प्रक्रिया इसी एप के माध्यम से होगी। लेकिन इसका अभी वेब वर्जन ही लोगों के सामने आया है। इस ऐप में वैक्सीन सेंटर से लेकर वैक्सीन को लेने वाले लोगों की पूरी लिस्ट शामिल होगी। अगर आप भी कोरोनावायरस का टीका लेना चाहते हैं तो आपको पहले इसे एप पर अप्लाई करना होगा। इस ऐप पर वैक्सीन की पूरी जानकारी उपलब्ध रहेगी। इसके अलावा इस ऐप के जरिये लोगों को यह भी बताया जाएगा कि व्यक्ति को कब, कहां और कैसे वैक्सीन दी गई है। 

इसे भी पढ़ें- सरकार ने लगाई पोलियो टीकाकरण पर रोक और स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताई वैक्सीन की सटीक कीमत

ऐप के माध्यम से टीकाकरण की पूरी प्रक्रिया (How to Apply for Co-win app in hindi)

चरण 1- सबसे पहले व्यक्ति को एप या वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करना होगा। 

चरण 2- उसके बाद व्यक्ति को स्थान और तारीख को लेकर एक मैसेज मिलेगा।

चरण 3- इस मैसेज को व्यक्ति को केंद्र पर जाकर दिखाना होगा।

चरण 4- उसके बाद व्यक्ति की पहचान पत्र की जांच की जाएगी।

चरण 5- ओटीपी के माध्यम से एप पर वेरिफिकेशन भी किया जाएगा।

चरण 6- इस सभी जांच के बाद व्यक्ति को टीका लगेगा और उसका डाटा एप पर अपलोड होगा।

चरण 7- उसके बाद व्यक्ति को खुद ब खुद सेकंड डोज के लिए मैसेज मिलेगा।

चरण 8- व्यक्ति को साइड इफेक्ट्स की जांच के लिए तकरीबन आधा घंटा केंद्र पर ही रहना होगा।

नोट- ध्यान दें कि ये सुविधा फिलहाल सक्रिय नहीं है। अभी कोई व्यक्ति इस ऐप को न डाउनलोड कर सकता है और ना ही रजिस्ट्रेशन। पर भविष्य में इस एप का लाभ लिया जा सकता है। बता दें कि व्यक्ति का रजिस्ट्रेशन पैन कार्ड, आधार कार्ड और ड्राइविंग लाइसेंस के जरिए होगा।

Read More Articles on health News in hindi

Disclaimer