आपके मेंटल हेल्थ पर 'लव एडिक्शन' का इस तरह पड़ता है प्रभाव, जानें इसके लक्षण और बचाव का तरीका

अन्य नशे के समान ही लव एडिक्शन भी स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है, इसकी वजह से आप कई मानसिक समस्याओं के शिकार हो सकते हैं।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Sep 03, 2021Updated at: Sep 03, 2021
आपके मेंटल हेल्थ पर 'लव एडिक्शन' का इस तरह पड़ता है प्रभाव, जानें इसके लक्षण और बचाव का तरीका

जिंदगी को अच्छी तरह से जीने के लिए प्यार जरूरी है, ऐसा लोगों का मानना है। आपमें से बहुत से लोगों ने मशहूर सिंगर लता मंगेशकर का गाना 'छोटी सी उमर में लग गया रोग, कहते हैं लोग कि मैं मर जाऊँगी' जरूर सुना होगा। इसे ही इश्क का रोग कहा जाता है। लेकिन जब इश्क लत बन जाए तो यह आपके मेंटल हेल्थ के लिए बहुत खतरनाक साबित हो सकता है। लत या एडिक्शन किसी भी चीज की हो अच्छी नहीं होती है। इसी प्रकार लव एडिक्शन (Love Addiction) भी चिंता, तनाव, अवसाद, डिप्रेशन जैसे तमाम मानसिक समस्याओं का कारण बन सकता है। प्यार जब एडिक्शन में बदल जाए तो यह मानसिक और शारीरिक दोनों रूप से आपको परेशान करता है। आइये जानते हैं लव एडिक्शन का मानसिक सेहत पर पड़ने वाले नकारात्मक प्रभावों को और इससे बचाव के तरीके के बारे में।

मानसिक स्वास्थ्य पर लव एडिक्शन का प्रभाव (Love Addiction Effects on Mental Health)

प्यार की लत या लव एडिक्शन सीधे तौर पर मानसिक स्वास्थ्य पर असर डालता है। लव एडिक्शन को पैथोलॉजिकल लव के नाम से भी जाना जाता है। इस समस्या में इंसान मूड डिसऑर्डर से लेकर तनाव, डिप्रेशन और एंग्जायटी जैसी गंभीर मानसिक समस्याओं की चपेट में आ सकता है। इस समस्या से ग्रसित होने पर प्यार में लत डालने वाला रसायन 'डोपामाइन' दिमाग के 'रिवार्ड सेंटर' को स्टिम्युलेट करता है जो आपको व्यसनों की तरफ भी ले जा सकता है। लव एडिक्शन से ग्रसित व्यक्ति जल्दी ही शराब और नशे की चपेट में आ सकते हैं। लव एडिक्शन से मानसिक सेहत पर पड़ने वाले प्रभाव इस प्रकार से हैं। 

इसे भी पढ़ें : मन में पछतावे की भावना को दूर करने के 7 तरीके, जानें एक्सपर्ट से

  • लव एडिक्शन के कारण मूड डिसऑर्डर। 
  • पैथोलॉजिकल लव की वजह से तनाव की समस्या से ग्रसित होना। 
  • इसकी वजह से एंग्जायटी का शिकार होना। 
  • लव एडिक्शन के कारण चिंता। 
  • नशे की लत लगना। 
  • पर्सनालिटी डिसऑर्डर। 
Love-Addiction-Effects-on-Mental-Health

लव एडिक्शन या पैथोलॉजिकल लव के लक्षण (Love Addiction Symptoms)

जिस प्रकार से नशे की लत के लक्षण हर व्यक्ति में अलग-अलग होते हैं ठीक उसी प्रकार लव एडिक्शन के भी लक्षण हर व्यक्ति में अलग-अलग हो सकते हैं। स्थिति की गंभीरता के अनुसार ही लव एडिक्शन या पैथोलॉजिकल लव के लक्षण देखे जाते हैं। ये माना जाता है कि जितने ज्यादा समय के लिए यह समस्या किसी भी इंसान में बनी रहती है इसके लक्षण भी उतने ही ज्यादा बढ़ते जाते हैं। लव एडिक्शन के कुछ प्रमुख लक्षण इस प्रकार से हैं।

  • प्यार यानी लव को जूनून बनाना या जरूरत से ज्यादा महत्व देना।
  • प्यार में सभी दूसरी चीजों का ध्यान न रखना।
  • अस्वीकार किए जाने के बाद मानसिक रूप से विक्षिप्त रहना।
  • किसी भी रिश्ते में तमाम दिक्कतों के बाद भी छोड़ने से डरना।
  • प्यार में परिवार, मित्र और अपने लोगों को नजरअंदाज करना।
  • ब्रेकअप के बाद नशे की लत लगना।
  • अपनी वास्तविक जिम्मेदारी से दूर भागना।

लव एडिक्शन से बचाव के टिप्स (Tips To Prevent Love Addiction)

लव एडिक्शन के कारण इंसान को भावनात्मक और मानसिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इस समस्या के कारण 'डोपामाइन' दिमाग के 'रिवार्ड सेंटर' को स्टिम्युलेट करने लगता है और इंसान नशे की लत अपना सकता है। इस समस्या के लक्षण दिखते ही आपको सावधान हो जाना चाहिए अन्यथा आप अनजाने में ही सही अपना बहुत बड़ा नुकसान कर सकते हैं। नशे आदि की लत में जाना आपके लिए बहुत खतरनाक हो सकता है। इसलिए हर इंसान को लव एडिक्शन के लक्षणों को पहचानते हुए अपने आप पर नियंत्रण जरूर रखना चाहिए। लव एडिक्शन से बचने के लिए आप इन बातों को ध्यान में जरूर रखें।

  • इस समस्या से ग्रसित होने पर आप मनोचिकित्सक की सलाह लें।
  • थेरेपी और दवाओं का सेवन इस समस्या में फायदेमंद होता है।
  • खुद पर नियंत्रण रखें।
  • जीवन की वास्तविकता और अपनी जिम्मेदारियों को समझे।
  • सच्चाई को स्वीकारें और जिंदगी में आगे बढ़ें।
Love-Addiction-Effects-on-Mental-Health

इस तरह से ऊपर बताई गयी बातों को ध्यान में रखकर आप इस समस्या से बच सकते हैं। हमें उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा। अगर आपके पास इस विषय से जुड़े कुछ सवाल हैं तो उसे आप हम तक भेज सकते हैं, हम आपके सवाल का जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे।

(All Image Source - Shutterstock.com)

Read More Articles on Mind and Body in Hindi

Disclaimer