चेहरे पर दर्द भी हो सकता है दिल (हार्ट) की बीमारी का संकेत, जानें अन्य लक्षण और बचाव के उपाय

द‍िल की बीमारी होने पर कुछ लोगों को चेहरे पर दर्द का अहसास होता है, चल‍िए जानते हैं इसका कारण और द‍िल की बीमारी से बचने के उपाय 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Aug 16, 2021 15:31 IST
चेहरे पर दर्द भी हो सकता है दिल (हार्ट) की बीमारी का संकेत, जानें अन्य लक्षण और बचाव के उपाय

द‍िल की बीमारी के मरीज आपको ज्‍यादातर घरों में म‍िल जाएंगे। सीने में दर्द के अलावा जबड़े में दर्द होना या फेश‍ियल पेन भी हार्ट अटैक का संकेत हो सकता है। व‍हीं स्‍ट्रोक आने पर भी फेशियल पेन होता है। ब्रेन में ऑक्‍सीजन और ब्‍लड फ्लो कम होने को या बंद होने को स्‍ट्रोक या ब्रेन अटैक कहते हैं। स्‍ट्रोक होने पर आपको चेहरे के साथ-साथ पैर और हाथों में भी कमजोरी या सुन्‍नपन का अहसास होता है, अचानक से कन्‍फ्यूजन का अहसास होना, बोलने में परेशानी होना, देखने में परेशानी होना, तेज स‍िर दर्द होना, बैलेंस न कर पाना, जी म‍िचलाना आद‍ि समस्‍या होती है। इस लेख में हम हार्ट ड‍िसीज और फेश‍ियल पेन का कनेक्‍शन, हार्ट ड‍िसीज से बचने के उपायों पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के लि‍ए हमने लखनऊ के पल्‍स हॉर्ट सेंटर के कॉर्ड‍ियोलॉज‍िस्‍ट डॉ अभ‍िषेक शुक्‍ला से बात की।

facial pain and heart disease

(image source:somersmilesdental)

हार्ट ड‍िसीज के कारण ही चेहरे पर दर्द है, ये कैसे पता लगाएं?

अगर हार्ट की बीमारी के कारण चेहरे पर दर्द हो रहा है तो इसका पता डॉक्‍टर को ईसीजी टेस्‍ट के जर‍िए चल जाएगा, अगर द‍िल की धड़कन अन‍ियम‍ित होगी तो गड़बड़ी का पता चल जाएगा। द‍िल में दर्द होने पर चेहरे, गर्दन, दांत आद‍ि में दर्द का अहसास हो सकता है। ये दर्द बढ़ने के साथ कंधे, हाथ और पैर में भी हो सकता है। अगर आपके चेहरे पर दर्द है तो आप डॉक्‍टर के पास जाकर उन्‍हें बताएं क‍ि दर्द क‍िस जगह है, कब से हो रहा है, क‍ितना तेज दर्द है आद‍ि। ईसीजी के अलावा डॉक्‍टर एमआरआई और एक्‍सरे के जर‍िए भी डॉक्‍टर फेश‍ियल पेन का कारण पता करते हैं। कुछ केस में ब्‍लड टेस्‍ट भी क‍िया जाता है।

इसे भी पढ़ें- दिल की अनियमित धड़कन (Arrhythmia) से हैं परेशान तो अपनाएं ये 7 हेल्दी आदतें 

हार्ट ड‍िसीज होने पर चेहरे पर दर्द क्‍यों होता है? (Why facial pain is a cause of heart disease)

हार्ट अटैक एक गंभीर मेड‍िकल कंडीशन है ज‍िसमें मरीज को तुरंत अस्‍पताल लेकर जाएं नहीं तो मरीज की जान खतरे में पड़ सकती है। जबड़े या चेहरे पर दर्द होना हार्ट से जुड़ी बीमारी के संकेत हो सकते हैं। जब हार्ट में कोई परेशानी होती है उस जग‍ह की नसों पर असर पड़ता है जो आपको बाक‍ि अंगों में भी महसूस हो सकता है। ज‍ब आपके द‍िल तक खून नहीं पहुंच पाता या ब्‍लॉक हो जाता है तब हार्ट अटैक आ सकता है। हार्ट अटैक आने पर छाती में दर्द होता है कुछ लोगों को अन्‍य लक्षणों में जबड़े में दर्द, गर्दन में दर्द, या दांत में दर्द होने जैसा अहसास होता है। ज्‍यादातर केस में जबड़े के न‍िचले ह‍िस्‍से में बाईं ओर दर्द उठता है। 

फेश‍ियल पेन के अलावा हार्ट ड‍िसीज के अन्‍य लक्षण (Symptoms of heart disease) 

symptoms of heart disease

(image source:secondscount)

ऐसा जरूरी नहीं है क‍ि ये फेश‍ियल पेन के लक्षण केवल हार्ट अटैक का ही संकेत होगा पर इन लक्षणों के नजर आने पर आपको सर्तक जरूर हो जाना चाह‍िए। चेहरे के अलावा आपकी गर्दन, पीठ पर भी दर्द का अहसास हो सकता है। दर्द कभी भी महसूस हो सकता है, अगर चेहरे की बात करें तो ज्‍यादातर लोगों को दर्द जबड़े के न‍िचले ह‍िस्‍से में चेहरे के बाईं ओर होता है। हार्ट ड‍िसीज या हार्ट अटैक आने पर आपको ये लक्षण नजर आएंगे- 

  • फेश‍ियल पेन या जबड़े में दर्द होना 
  • सीने के बीच में दर्द या दबाव महसूस होना 
  • एब्‍डॉम‍िनल पेन या पेट में दर्द 
  • जी म‍िचलाना 
  • ज्‍यादा पसीना आना 
  • सांस लेने में परेशानी होना 
  • गर्दन, हाथ या पैर में भी दर्द महसूस हो सकता है 
  • थकान महसूस होना आद‍ि।

इसे भी पढ़ें- हार्ट (हृदय) वाल्व में लीकेज के क्या कारण हो सकते हैं? जानें इसके लक्षण और इलाज के तरीके

हार्ट की बीमारी से बचने के लि‍ए किन बातों का ध्‍यान रखें? (Prevention tips to avoid heart disease)

1. ओवरईट‍िंग न करें (Avoid overeating)

overeating

(image source:unitedpharmacies)

ढेर सारा खाना या ओवरईट‍िंग के कारण आपको कई बीमार‍ियां हो सकती हैं ज‍िनमें से एक है हार्ट ड‍िसीज। ओवरईटिंग की समस्‍या से बचने के ल‍िए आप डॉक्‍टर और साइकोलॉज‍िस्‍ट से संपर्क कर सकते हैं। आपको हार्ट ड‍िसीज से बचने के ल‍िए सोड‍ियम युक्‍त भोजन को खाने से बचना चाह‍िए। आपको तला हुआ भोजन या पनीर, अंडे को कम खाना चाह‍िए तभी आप हार्ट ड‍िसीज से बच सकते हैं इसके अलावा छोटे-छोटे मील्‍स प्‍लान करें। आपको ज्‍यादा भूख लगती है तो 5 बार खाएं पर एक बार में ज्‍यादा खाने से बचें।

2. वजन कंट्रोल रखें (Control weight)

control weight

(image source:ruralhealthinfo)

हार्ट की बीमारी से बचना है तो वजन कम करने के तरीके पर गौर करें। वजन कंट्रोल करने के ल‍िए आपको अपनी डाइट में ढेर सारे फल और सब्‍ज‍ियों को एड करना चाह‍िए। ताजे फल और सब्‍ज‍ियों में फाइबर की अच्‍छी मात्रा होती है और फाइबर युक्‍त भोजन खाने से वजन कम होता है। आपको कम फैट वाले डेयरी प्रोडक्‍ट्स जैसे दही, छाछ आद‍ि का सेवन करना चाह‍िए।

3. मेड‍िटेशन करें (Start meditation)

meditation and heart health

(image source:destinationdeluxe)

मेड‍िटेशन की मदद से आप हार्ट की बीमारियों से बच सकते हैं। मेड‍िटेशन के ल‍िए एकांत जगह का चुनाव करें और सांस को अंदर-बाहर करते हुए मेड‍िटेशन करें। मेड‍िटेशन के फायदे द‍िल को भी म‍िलते हैं, मेड‍िटेशन करने से शरीर में ब्‍लड फ्लो बेहतर होता है ज‍िससे हार्ट हेल्‍दी रहता है, शरीर भी तनाव मुक्‍त रहता है ज‍िससे अन्‍य बीमार‍ियां नहीं होती।

4. कसरत करें (Exercise)

हार्ट की बीमारी से बचने के ल‍िए आपको कसरत करना चाह‍िए। कम से कम आपको 40 म‍िनट वॉक करना चाह‍िए। वॉक करने के ल‍िए सही तरीके को अपनाएं ज‍िससे आपको वॉक‍िंग का पूरा लाभ म‍िले। इसके बाद आधे घंटे योगा करें, डांस करें या एरोब‍िक्‍स को चुन सकते हैं।

5. धूम्रपान का सेवन न करें (Avoid smoking)

धूम्रपान का सेवन ब‍िल्‍कुल न करें, धूम्रपान करने से द‍िल की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। धूम्रपान का सेवन आपके हार्ट के ल‍िए हर हाल में नुकसानदायक है इसल‍िए स्‍मोकिंग और एल्‍कोहॉल का सेवन पूरी तरह से अवॉइड करें। स्‍मोक‍िंग से स्‍ट्रोक का खतरा बढ़ता है, हार्ट बीट असामान्‍य हो सकती है, द‍िल का दौरा पड़ सकता है इसल‍िए इस लत को छोड़ दें। 

वैसे तो चेहरे पर दर्द होना क‍िसी तरह की गंभीर मेड‍िकल कंडीशन नहीं है पर ये दर्द हार्ट में दर्द, स्‍ट्रोक या हार्ट अटैक का लक्षण भी हो सकता है इसल‍िए इस पर गौर करने की जरूरत है।

(main image source:cloudfront, avitahealth)

Read more on Heart Health in Hindi 

Disclaimer