हार्ट में क्लॉटिंग (खून के थक्के जमने) के 5 कारण, एक्सपर्ट से जानें इसके लक्षण और इलाज

हार्ट में क्लॉटिंग (खून के थक्के जमने)  एक दुर्लभ समस्या है, एक्सपर्ट से जानें दिल में खून का थक्का जमने के कारण, लक्षण और इलाज।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Aug 05, 2021Updated at: Aug 05, 2021
हार्ट में क्लॉटिंग (खून के थक्के जमने) के 5 कारण, एक्सपर्ट से जानें इसके लक्षण और इलाज

शरीर में खून के थक्के जमना एक प्रक्रिया है जिसमें खून लिक्विड से ठोस या हल्के ठोस रूप में बदल जाता है। जिन लोगों को अक्सर शरीर में झुनझुनाहट, सुन्नता या दर्द की समस्या होती है उन्हें खून के थक्के (Blood Clotting) की समस्या हो सकती है। ज्यादातर मामलों में खून के थक्के पैरों और पैरों की नसों में बनते हैं लेकिन कुछ कारणों से यह शरीर के किसी भी अंग में बन सकते हैं। नसों में खून का थक्का जमने से ब्लड सर्कुलेशन रूक जाता है और मरीज को कई समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है। दिल में खून के थक्के जमने से मरीज को हार्ट अटैक और हार्ट फेलियर की स्थिति का सामना भी करना पड़ सकता है। हमारे प्लाज्मा में मौजूद प्लेटलेट्स और प्रोटीन, चोट की जगह पर रक्त के थक्के का निर्माण करके रक्त के बहाव को रोकते हैं। लेकिन जब ये थक्के खत्म नहीं होते हैं तो परेशानी बढ़ने लगती है। आइये दिल्ली के अपोलो हॉस्पिटल के सीनियर कार्डियोलॉजिस्ट डॉ के के कपूर से जानते हैं हार्ट में खून के थक्के बनने की समस्या के बारे में।

दिल में खून के थक्कों का निर्माण (Blood Clotting in Heart)

आमतौर पर शरीर में सबसे ज्यादा खून के थक्के बनने की समस्या पैरों की नसों में होती है। लेकिन कुछ कारणों से दिल यानि हार्ट में भी खून के थक्कों का निर्माण हो सकता है। हालांकि दिल में खून के थक्के बनने की स्थिति बहुत ही दुर्लभ है, बहुत कम लोगों में यह समस्या देखी जाती है। दिल में खून का थक्का बनने की समस्या में खून का प्रवाह रुक जाता है और इसकी वजह से मरीज को दिल का दौरा जैसी घातक स्थिति का सामना करना पड़ता है। दिल की धमनियों में ब्लड क्लॉटिंग होने से मरीज के शरीर का ब्लड सर्कुलेशन भी रुक सकता है और इसके गभीर होने पर मरीज की जान भी जा सकती है।

इसे भी पढ़ें : हार्ट (हृदय) वाल्व में लीकेज के क्या कारण हो सकते हैं? जानें इसके लक्षण और इलाज के तरीके

Blood-Clotting-in-Heart-Surgery

हार्ट में ब्लड क्लॉटिंग के कारण (Blood Clotting in Heart Causes)

हालांकि दिल में खून के थक्के जमने की घटना बहुत ही दुर्लभ होती है इसलिए अभी इसके सही कारण का पता भी नहीं चल पाया है। लेकिन कुछ लोगों में यह समस्या दिल से जुड़ी पुरानी बीमारी और खानपान की वजह से भी होती है। दिल में खून का थक्का जमने के कारण इस प्रकार हैं।

1. लगातार बैठकर काम करना।

2. अधिक धूम्रपान।

3. दिल से जुड़ी गंभीर बीमारियों में।

4. हॉर्मोन असंतुलन के कारण।

5. वैरिकॉज वेन्स (कुछ मामलों में)

इसे भी पढ़ें : हार्ट में इंफेक्शन के इन लक्षणों को नजरअंदाज करना है खतरनाक, डॉक्टर से जानें इससे बचाव के तरीके

Blood-Clotting-in-Heart-Surgery

दिल में खून का थक्का जमने के लक्षण (Blood Clotting in Heart Symptoms)

खून के थक्के बनने की समस्या कई कारणों से होती है और गंभीर होने पर यह स्थिति जानलेवा भी हो सकती है। दिल या फेफड़ों में खून का थक्का बनने की समस्या में मरीज में कई तरह के लक्षण देखे जाते हैं। ज्यादातर मामलों में दिल में खून का थक्का बनने की वजह से हार्ट अटैक की समस्या होती है। एक्सपर्ट के मुताबिक दिल में खून के थक्के बनने पर ये लक्षण देखे जा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : जानें हाई ब्लड प्रेशर और लो-ब्लड प्रेशर के लक्षणों में अंतर और इनसे बचाव के लिए जरूरी उपाय

  • सीने में दर्द।
  • सांस लेनें में तकलीफ
  • बांह, पीठ और गर्दन आदि में  दर्द।
  • हार्ट अटैक।
  • मस्तिष्‍क पर असर जैसे भम्र और समझने में परेशानी।
  • अचानक चक्कर आना।
  • चलने में समस्या।
  • संतुलन में नुकसान।
  • बिना कारण के अचानक तेज सिरदर्द

हार्ट में क्लॉटिंग (खून के थक्के जमने) का इलाज (Blood Clotting in Heart Treatment)

हार्ट में खून के थक्के जमने की समस्या में लक्षण दिखने के बाद तुरंत इलाज की जरूरत होती है। चिकित्सक इस समस्या में मरीज की स्थिति और खून के थक्के के अनुसार जांच के बाद इलाज करते हैं। दिल से जुड़ी गंभीर बीमारी और हार्ट डिजीज की फैमिली हिस्ट्री होने पर इस समस्या का इलाज अलग तरीके से भी किया जाता है। प्रारंभिक स्थिति में आपके खून में मौजूद प्लेटलेट्स और खून के बारे में विस्तृत जांच की जाती है। इसके बाद कुछ दवाओं से भी यह समस्या ठीक हो सकती है। जिन लोगों में यह समस्या गंभीर रूप ले लेती है उन्हें सर्जरी की भी आवश्यकता पड़ सकती है।  

Read More Articles on Heart Health in Hindi

Disclaimer