महिलाओं और पुरुषों में हार्मोन असंतुलित के होते हैं अलग लक्षण, जानें इनके कारण भी

महिलाओं और पुरुषों में हॉर्मोन असंतुलन के अलग-अलग लक्षण देखने को मिलते हैं। जानते हैं हॉर्मोन असंतुलन के कारण और बचाव भी।

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Jan 25, 2021Updated at: Jan 25, 2021
महिलाओं और पुरुषों में हार्मोन असंतुलित के होते हैं अलग लक्षण, जानें इनके कारण भी

हार्मोन खून के जरिए पूरे शरीर में फैलते हैं इनके जरिए शरीर में कई ग्रंथियां बनती हैं और इससे अंदरूनी अंगों को काम करने में सहायता मिलती है। मेटाबॉलिज्म, प्रजनन जैसी महत्वपूर्ण प्रतिक्रियाओं को कंट्रोल करने में हार्मोन बेहद मददगार है। ऐसे में अगर यह असंतुलित हो जाए तो शरीर कई तरीकों से प्रभावित हो सकता है। हार्मोन के असंतुलन के पीछे कोई बीमारी, तनाव, एक्सरसाइज, खराब आहार आदि हो सकते हैं। ऐसे में आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि हार्मोन असंतुलन के लक्षण, कारण और बचाव क्या हैं। पढ़ते ही आगे...

 

हॉर्मोन संतुलन के लक्षण (Hormone Imbalance Symptoms)

महिलाओं में हार्मोन असंतुलन के लक्षण-

आवाज का गहरा होना, वजन बढ़ना या कम होना, बालों का झड़ना या कमजोर हो जाना, कब्ज की परेशानी का दस्त होना, हड्डियों में कमजोरी यानि ऑस्टियोपोरोसिस, गर्भाशय से खून बहना, 

मासिक धर्म का अनियमित होना, मासिक धर्म के दौरान हेवी ब्लीडिंग और पीरियड्स में गंभीर दर्द का अनुभव करना, मासिक धर्म के दौरान मुंहासे या उससे पहले मुहासे होना, बदहजमी आपस की परेशानी होना, ब्रेस्ट में दर्द महसूस करना यानी ब्रेस्ट टेंडर्नेस, योनी में सूखापन महसूस करना, रात में पसीने का आना, अचानक से गर्दन छाती पीट या चेहरे पर बाल आना, स्किन टैग्स या त्वचा में असामान्य ग्रोथ होना। 

पुरुषों में हार्मोनल बदलाव के लक्षण-

शरीर के बाल उगने में कमी होना, सेक्स ड्राइव का कम हो जाना, ऑस्टियोपोरोसिस, मांसपेशियों की क्षमता का कम हो जाना, सीने में दर्द होना, सीने के ऊतकों का बढ़ जाना आदि।

महिलाओं और पुरुषों में हार्मोन असंतुलन के लक्षण-

डिप्रेशन का शिकार हो जाना, वजन बढ़ना पसीना आना, चिंता, बाल कमजोर होना, थकान होना, मांसपेशी में कमजोरी आ जाना, जोड़ों में दर्द महसूस करना, अधिक प्यास लगना, बार बार पेशाब आना, धुंधलापन दिखाई देना, अचानक से वजन घटना या चेहरे पर सूजन या रूखापन महसूस करना।

इसे भी पढ़ें- क्या आप जानते हैं सर्दियों में ज्यादा नमक खाना आपको नुकसान पहुंचा सकता है?  

 हार्मोन असंतुलन के कारण (Hormone imbalance causes)

हार्मोन असंतुलन कई कारणों के कारण हो सकता है यह कारण निम्न प्रकार है

1- डायबिटीज के मरीजों में हार्मोन असंतुलन होना सामान्य है

2- थायरॉइड की सामान्य कम होने पर

3- दवाओं के कारण

4- तनाव के कारण

5- हार्मोन थेरेपी के

6- ट्यूमर के कारण

7- कैंसर के उपचार के कारण

8- आहार संतुलित ना होने के कारण

महिलाओं में हार्मोन असंतुलन के कारण- 

1- पीसीओएस यानी पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम के कारण

2- दवाई लेने के कारण

3- गर्भावस्था के दौरान

4- समय से पहले मोनोपॉज के कारण

5- स्तनपान कराने के कारण

पुरुषों में हार्मोन असंतुलन के कारण-

1- प्रोस्टेट कैंसर के कारण

2- पुरुष हाइपोगोनेडिज्म यानी टेस्टोस्टरोन केसर की कमी के कारण

3- वृद्धावस्था के कारण

4- दवाओं के कारण

इसे भी पढ़ें- सूंघने की क्षमता न होना या एनोस्मिया (Anosmia) से छुटकारा है संभव, जानें क्या है इसका इलाज

हार्मोन असंतुलन से बचाव (hormonal imbalance prevention)

1- एक्सरसाइज और योग हार्मोन असंतुलन को संतुलित करने में बेहद मददगार है।

2- स्वस्थ आहार खाने से आप अपने हार्मोन असंतुलन की समस्या को दूर कर सकते हैं।

3- जो लोग पर्याप्त मात्रा में नहीं लेते हैं उनके हार्मोन समस्या संतुलित रहते हैं क्योंकि पर्याप्त मात्रा में नींद लेने से व्यक्ति तनाव चिंता डिप्रेशन से दूर रहता है ऐसे में हार्मोन असंतुलन की समस्या भी दूर हो जाती है।

4- हार्मोन असंतुलन एक कारण रिफाइंड शुगर का अधिक उपयोग भी है ऐसे में अगर आप मीठा ज्यादा खाते हैं तो अग्नाशय अधिक इंसुलिन निकालता है। इसीलिए अगर आप हां मन को संतुलित बनाए रखना चाहते हैं तो चीनी का सेवन कम मात्रा में करें।

Read More Articles on miscellaneous In hindi

Disclaimer