Wisdom Tooth Pain: क्या हैं 'अकल दाढ़ दर्द' के लक्षण, जानें इसके कारण और उपचार

अगर अकल दाढ़ संक्रमित हो जाए तो वह आसपास के दांतों को क्षति पहुंचाने लगती है या अन्य दांत संबंधी समस्याएं पैदा कर सकती है। ऐसे में जानें लक्षण और कारण

Garima Garg
Written by: Garima GargUpdated at: Feb 19, 2021 18:07 IST
Wisdom Tooth Pain: क्या हैं 'अकल दाढ़ दर्द' के लक्षण, जानें इसके कारण और उपचार

अकल दाढ़ (Wisdom Tooth Pain) समान्यता 17 से 25 साल की उम्र में नजर आती है। लेकिन कई परिस्थितियों में यह बाद में भी दिखाई देती है। इसमें व्यक्ति के पीछे के दांत निकलने शुरू हो जाते हैं और वह उस दौरान संक्रमित भी हो सकते हैं, जिसके कारण अकल दाढ़ में अत्यधिक दर्द और तकलीफ महसूस होती है। इसके चलते साइनस, ऊतकों में सड़न, जबड़े में जलन, मसूड़े में सूजन, दांतों में दर्द आदि समस्या विकसित हो जाती हैं। बता दें कि अकल दाढ़ का दर्द आमतौर पर खुद ब खुद ठीक हो जाता है। लेकिन कई मामलों में अस्पताल का उपचार या डेंटल सर्जरी की जरूरत पड़ती है। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे की अकल दाढ़ के दर्द के लक्षण, कारण और उपचार क्या हैं। पढ़ते हैं आगे...

अकल दाढ़ दर्द के लक्षण (Symptoms of Wisdom Tooth Pain)

बता दें कि अकल दाढ़ जब संक्रमित हो जाती है तो वह अपने आसपास के दांतो को क्षतिग्रस्त करने लगती है, जिसके कारण निम्न समस्याएं पैदा हो सकती हैं

1- दर्द की समस्या - अकल दाढ़ का दर्द पीछे वाले दांतों के पीछे महसूस होता है। बता दें कि कभी-कभी ऐसा भी लगता है जैसे मानों अकल दाढ़ आपके मसूड़ो को प्रभावित कर रही है। इसके चलते सूजन, लालिमा, छूने पर दर्द आदि महसूस होने लगता है। कुछ लोग इस दर्द से पूरे वक्त परेशान रहते हैं तो कुछ लोगों को केवल छूने मात्र से तकलीफ होती है। वहीं कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो केवल मुंह खोलने पर दर्द महसूस करते हैं।

इसके अलावा निम्न लक्षण इस प्रकार हैं-

2 - मुंह के स्वाद में बदलाव लआना

3 - दांतों में दर्द महसूस करना

4 - सूजन आ जाना 

5 - ब्रश करते वक्त खून का आना 

6 - मुंह से बदबू का आना 

7 - भोजन का स्वाद ना आ पाना

इसे भी पढ़ें- जोड़ों में लगातार दर्द गठिया ही नहीं बल्कि 'आर्थ्राल्जिया' का भी हो सकता है संकेत, जानें क्या है ये बीमारी

अकल दाढ़ के दर्द के कारण (Causes of Wisdom Tooth Pain)

अकड़ दाल के पीछे निम्न कारण छिपे हैं

1 - दातों का टेढ़े मेढ़े आना

2 - दांतों की सतह पर संक्रमण होना

3 - जब अकड़ दाढ़ मसूड़ों के अंदर से निकलती है तो वह दबाव देकर अपना रास्ता बनाती है। जब दबाव अधिक पड़ता है तो मसूड़ों में दर्द शुरू हो जाता है।

4- जब अकड़ दाढ़ निकलने के लिए जगह नहीं बचती तो वह टेढ़ी-मेढ़ी रूप में निकलती है, जिससे और दर्द महसूस होता है।

5- अकड़ दांढ़ का लेट कर निकलना

6 - अन्य दांतों की तरह बढ़ना लेकिन जबड़े की हड्डी के साथ फस जाना

अकड़ दाढ़ कई समस्या पैदा कर सकती है। यह समस्या निम्न प्रकार है-

दांतों में सड़न पैदा करना अकड़ दाद के कारण सड़न होने की संभावना बढ़ जाती है क्योंकि साफ-सफाई ठीक से नहीं हो पाती।

अकड़ दाढ़ के कारण मसूड़ों का रोग pericoronitis जैसी स्थिति भी पैदा हो सकती है इस स्थिति में लालिमा, दर्द और सूजन पैदा हो जाती है।

इसे भी पढ़ें- फेफड़ों से जुड़े इन 5 संकेतों को भूलकर भी न करें नजरअंदाज, फेफडों के कैंसर का हो सकता है खतरा

अकड़ दाढ़ आसपास के दातों की जगह घेरनी शुरू कर देती है ऐसे में दांत टेढ़े मेढ़े हो जाते हैं।

अकड़ दाढ़ के दर्द से बचाव

1- पानी पीने से बैक्टीरिया और भोजन के कण दांतों में नहीं चिपकते हैं।

2- दो बार ब्रश करने से या माउथवॉश के प्रयोग से बैक्टीरिया को बढ़ने से रोका जा सकता है व संक्रमण का खतरा भी कम हो जाता है।

3- मीठे खाद पदार्थों का सेवन अगर आप कम करते हैं तो बैक्टीरिया कम विकसित होते हैं।

नोट  - अगर तेज दर्द है या दर्द लगातार हो रहा है तो कई बार इसके चलते सिर में दर्द और थूक में खून आ जाता है। ऐसे में मसूड़े के नीचे फोड़ा भी पैदा हो जाता है । ऐसे में डॉक्टर से मिलने में देरी न करें। बता दें कि हर 6 महीने में डेंटिस्ट से चेकअप करवाएं, जिससे समस्या का पहले ही पता लगाया जा सके। एक्स-रे करवाने से किसी भी प्रकार के लक्षण पैदा होने से पहले संक्रमण का पता लगाया जा सकता है।

Read More Articles on other diseaes in Hindi

Disclaimer