फेफड़ों से जुड़े इन 5 संकेतों को भूलकर भी न करें नजरअंदाज, फेफडों के कैंसर का हो सकता है खतरा

बढ़ते प्रदूषण के बीच अपने फेफड़ों को स्वस्थ रखना बहुत जरूरी है, ऐसे में फेफड़ों के लक्षणों को जानना और उन्हें समझना महत्वपूर्ण हो जाता है। 

Vishal Singh
अन्य़ बीमारियांWritten by: Vishal SinghPublished at: Aug 11, 2020Updated at: Feb 12, 2021
फेफड़ों से जुड़े इन 5 संकेतों को भूलकर भी न करें नजरअंदाज, फेफडों के कैंसर का हो सकता है खतरा

बढ़ते प्रदूषण के बीच ताजी हवा को तलाशना बहुत मुश्किल हो गया है। ऐसे में हमे पहले से कहीं ज्यादा अपने फेफड़ों और उसके संकेतों पर ध्यान देना होता है। फेफड़ों के कुछ हल्के या बड़े लक्षण आपको फेफड़ों के स्वास्थ्य के बारे में बताते हैं। लेकिन इस संकेतों को ध्यान देना इसलिए भी जरूरी हो जाता है क्योंकि ये आपके आने वाली किसी भी गंभीर स्थिति के बारे में आपको पहले ही जानकारी देने का काम करता है। यही वजह है कि आपको फेफड़ों की ओर से आने वाले सभी संकेतों तो ध्यान में रखकर उनको समझना चाहिए। हम आपको इस लेख में फेफड़ों के कुछ ऐसे लक्षण बताने जा रहे हैं जो आपको स्वास्थ्य के बारे में बहुत कुछ बताते हैं। 

lungs cancer

पीठ और कंधे में दर्द

पीठ और कंधे का दर्द एक दुर्लभ लक्षण है, ऐसा इसलिए क्योंकि पीठ, कंधे, या यहां तक कि सीने में दर्द फेफड़ों के कैंसर की शुरुआत लक्षण हो सकते हैं। अगर इन संकेतों को ध्यान में रखते हुए आप इन्हें गंभीरता से लेते हैं तो ये आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकता है। पीठ और कंधे में ज्यादा समय तक दर्द रहने से आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क कर संबंधित जांच करानी चाहिए। जैसा कि आपको पहले बताया ये फेफड़ों के कैंसर के शुरुआती लक्षण होते हैं, तो अगर जांच में कैंसर की पुष्टि होती है तो आप समय रहते इसका अच्छे से इलाज करा सकते हैं। 

कफ और खांसी

खांसी, जुकाम या कफ होने पर आमतौर पर ज्यादातर लोग इसे एक आम समस्या समझते हैं, लेकिन कई मामलों में यह पुरानी बीमारियों का लक्षण भी हो सकती है। इसलिए जरूरी है ये जानना कि खांसी या कफ किस तरह का है। तीव्र और उप-तीव्र खांसी फेफड़े के कैंसर का गंभीर संकेत हो सकते हैं, खासकर अगर रक्त में खांसी जैसे अन्य लक्षणों के साथ संयुक्त है। इसलिए आप लंबे समय तक रहने वाली खांसी या कफ को नजरअंदाज न करें बल्कि इसे पहचान कर डॉक्टर से संपर्क करने की कोशिश करें। 

इसे भी पढ़ें: फेफड़ों के कैंसर से अपना बचाव करने के लिए अपनाएं ये 4 आसान तरीके

सांस लेने में परेशानी

सांस लेने में परेशानी होना अक्सर फेफड़ों की स्थिति बिगड़ने के कारण होती है, जैसे अस्थमा या एलर्जी। अगर आप अपने साथ सांस लेने में समस्या महसूस कर रहे हैं तो आप अपने वातावरण को बदलें और ज्यादा दिन तक परेशानी होने पर डॉक्टर से संपर्क करें। इसके अलावा आप कुछ दिन तक सांस लेने की प्रक्रिया को ठीक करने के लिए एक्सरसाइज कर सकते हैं जो आपके फेफड़ों के स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छी होती है। 

त्वचा और आंखों का पीला होना

त्वचा और आंखों में पीलापन फैलना एक गंभीर स्थिति का संकेत होता है जिसे आम भाषा में पीलिया भी कहा जाता है। पीलिया एक ऐसी स्थिति है जो आपकी त्वचा को पीला कर देती है। यह आपकी आंख के सफेद हिस्से को भी बुरी तरह से प्रभावित करता है, यह पीला पीला और तीव्र रोगों में, गहरे पीले रंग में बदल जाता है।

इसे भी पढ़ें: इन 5 तरह के लोगों को हो सकता है फेफड़ों का कैंसर, जानिए कब कराएं फेफड़ों की जांच

कमजोरी महसूस होना

पूरे दिन कामकाज करने के बाद अक्सर लोग खुद को थका हुआ महसूस करते हैं लेकिन अगर आप पूरा दिन ही खुद को थका हुआ महसूस कर रहे हैं तो ये आपके लिए अच्छे संकेत नहीं है। नींद की कमी या तनाव आपकी थकान का कारण हो सकता है, लेकिन असामान्य रूप से थका हुआ महसूस करना, आपकी खांसी दूर नहीं होती है और भूख में कमी आना एक चिकित्सा स्थिति हो सकती है।

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer