कम उम्र में गठिया (गाउट) होने के हो सकते हैं ये 5 कारण, डॉक्टर से जानें लक्षण और बचाव के उपाय

ज्यादा उम्र वाले ही नहीं बल्कि कम उम्र वाले भी गठिया की समस्या का शिकार हो सकते हैं। जानते हैं गठिया के लक्षण, कारण और बचाव

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Sep 17, 2021
कम उम्र में गठिया (गाउट) होने के हो सकते हैं ये 5 कारण, डॉक्टर से जानें लक्षण और बचाव के उपाय

गठिया की समस्या होना, इस समस्या को अंग्रेजी में गाउट (Gout) के नाम से भी जाना जाता है। वह व्यक्ति को काफी परेशान कर सकते हैं। इस समस्या के कारण व्यक्ति के जोड़ों में सूजन और ऐंठन हो सकती है। जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है वैसे-वैसे ये समस्या भी बढ़ती चली जाती है। 60 से 65 साल की उम्र के लोग इस समस्या से ज्यादा परेशान रहते हैं। लेकिन चल रहे समय में गलत जीवनशैली और खानपान की गलत आदतों के कारण युवा भी गाउट जैसी समस्या का शिकार हो रहे हैं। आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि युवाओं में गठिया के पीछे क्या कारण होते हैं। साथ ही लक्षण और बचाव के बारे में भी जानेंगे। इसके लिए हमने जॉव्इंट केयर फिजियोथेरेपी एंड रेहाब सेंटर ग्रेटर नोएडा के डॉक्टर अंकुर नागर (Physiotherapist Dr. Ankur Naagar) से बात की है। पढ़ते हैं आगे...

 

युवाओं में गठिया होने के लक्षण

जब युवाओं को गठिया की समस्या होती है तो निम्न लक्षण नजर आ सकते हैं-

1 - चलने फिरने या उठने बैठने में दिक्कत महसूस करना।

2 - जोड़ों में अकड़न हो जाना।

3 - व्यक्ति के जोड़ों में दर्द महसूस करना।

4 - व्यक्ति के जोड़ों में सूजन आ जाना।

5 - रोजमर्रा के काम ना कर पाना।

6 - हाथ पैरों की उंगलियों में जलन या दर्द महसूस करना।

इसे भी पढ़ें- गठिया (गाउट) के मरीज क्या खाएं और क्या नहीं? एक्सपर्ट से जानें पूरे दिन का डाइट प्लान

गठिया के लक्षण गंभीर हो जाते हैं तो युवा वजन कम हो जाना, बुखार महसूस करना, लिंफ्म नोड्स में सूजन महसूस करना, थकान, दिल की समस्या, किडनी की समस्या, फेफड़ों की समस्या आदि समस्याओं का सामना कर सकते हैं। हालांकि इन लक्षणों को महसूस करते ही व्यक्ति को डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

 

कम उम्र में गठिया होने के कारण

1 - यदि व्यक्ति का वजन ज्यादा है तब गठिया की समस्या हो सकती है। ऐसा इसलिए क्योंकि अधिक वजन के कारण रीढ़ की हड्डी पर ज्यादा तनाव बढ़ने लगता है, जिसके कारण गाउट का जोखिम बढ़ सकता है।

2 - जो युवा अधिक मोबाइल का इस्तेमाल करते हैं तो उन्हें भी गठिया की समस्या हो सकती है।

3 - जो युवा अपने मेटाबॉलिज्म पर ध्यान नहीं देते हैं उनका मेटाबॉलिज्म बिगड़ने लगता है तभी गाउट की समस्या हो सकती है।

4 - यदि परिवार में किसी व्यक्ति को गाउट हो रहा है तब भी यह समस्या हो सकती हैं।

5 - आजकल के युवा अत्यधिक स्मोकिंग करते हैं, जिसके कारण इनके शरीर में गठिया का विकास होने लगता है।

इसे भी पढ़ें-  गठिया की बीमारी को बढ़ा सकते हैं प्यूरीन से भरपूर ये 7 फूड्स, खाने में ना करें इनका सेवन

कम उम्र में गठिया से बचाव

1 - धूम्रपान या शराब का सेवन ना करें।

2 - एक ही स्थिति में बैठे रहने से बचें।

3 - 8 से 10 घंटे की नींद जरूर लें।

4 - वजन को नियंत्रित रखें।

5 - विटामिन ई और ओमेगा 3 फैटी एसिड युक्त खाद्य पदार्थों को अपनी डाइट में जोड़ें।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि युवाओं में गठिया की समस्या होने के कारण युवाओं को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में इसके लक्षणों को पहचानना जरूरी है। इस लेख में बताए गए बचावो को पहचानकर युवा गठिया की समस्या से बच सकते हैं।

इस लेख में फोटोज़ FREEPIK से ली गई हैं। 

Read More Articles on Other diseases in hindi

Disclaimer