गठिया की बीमारी को बढ़ा सकते हैं प्यूरीन से भरपूर ये 7 फूड्स, खाने में ना करें इनका सेवन

अगर आप ऐसी चीजों का सेवन ज्यादा करते हैं जिनमें प्यूरिन (Purine) होता है तो, आपके शरीर में यूरिक एसिड बढ़ सकता है और आपको गठिया हो सकता है।

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: Aug 14, 2021 13:30 IST
गठिया की बीमारी को बढ़ा सकते हैं प्यूरीन से भरपूर ये 7 फूड्स, खाने में ना करें इनका सेवन

प्यूरिन (Purine) एक ऑर्गेनिक कंपाउंड है जो मानव शरीर की हर सेल में पाया जाता है। यह कंपाउंड एनिमल बेस खाद्य पदार्थों जैसे मीट आदि में अधिक पाया जाता है। प्लांट बेस फूड में इसकी मात्रा कम होती है। आपके शरीर में पाचन के दौरान यह ब्रेक डाउन हो कर यूरिक एसिड में तब्दील हो जाता है। जिससे आपका गाउट या अन्य बीमारियां होने का खतरा अधिक बढ़ जाता है। इसलिए आपको ऐसी चीजों का सेवन कम ही करना चाहिए जिनमें प्यूरीन अधिक होता है। तो आज हम कुछ ऐसे ही खाद्य पदार्थों के बारे में जानेंगे जिनमें अधिक प्यूरिन (Purine) होता है और जो आपको खाने से बचना चाहिए। आइए जानते हैं इनके बारे में विस्तार से। 

Insidegout

Image Credit:eHow

ना खाएं प्यूरीन से भरपूर ये फूड्स-Purine rich foods to avoid

1. चिकन (Chicken) 

चिकन प्रोटीन का एक बहुत ही अच्छा स्रोत होता है और इसमें आपको अमीनो एसिड और विटामिन बी 3 जैसे तत्त्व भी मिलते हैं जो आपके शरीर के लिए बहुत लाभदायक होते हैं। यह आपके शरीर के कार्ब्स को एनर्जी में बदलने में भी मदद करता है। लेकिन इसमें प्यूरीन की मात्रा भी अधिक होती है। 100 ग्राम चिकन में लगभग 175 एमजी प्यूरीन पाई जाती है इसलिए अगर आपको गाउट या यूरिक एसिड से जुड़ी समस्या है तो इसका सेवन न करें।

2. बीफ (Beef)

बीफ भी आपको वह सब पौष्टिक पदार्थ उपलब्ध करवाता है जो अधिकतर अन्य मीट प्रोडक्ट्स करवाते हैं। इसमें जिंक, सेलेनियम, आयरन, विटामिन बी 6 जैसे पोषण मौजूद होते हैं लेकिन इसमें भी प्यूरिन की मात्रा अधिक होती है। 100 ग्राम बीफ में पूरा 130 एमजी प्यूरीन होता है। इसलिए अगर आपको प्यूरीन से परहेज है तो इसे नहीं खाना सही है।

इसे भी पढ़ें: मीठी डिश में इस्तेमाल होने वाला मेपल सिरप सेहत के लिए हो सकता है नुकसानदायक, जानें इसके 5 नुकसान

3. किशमिश (Raisins)

डिहाइड्रेट हुए अंगूरों को ही हम किशमिश कहते हैं और किशमिश से आपको विटामिन बी, पोटेशियम और आयरन आदि पोषण मिलते हैं। यह आपके शरीर के लिए हेल्दी तो होती है लेकिन उन लोगों के लिए नहीं जिन्हें यूरिक एसिड से समस्या होती है क्योंकि 100 ग्राम किशमिश में लगभग 105 एमजी प्यूरीन होता है। इसलिए इसे न खाएं ।

4. सी फूड (Sea Food)

सी फूड भी वैसे तो आपकी सेहत के लिए काफी लाभदायक होता है क्योंकि अधिकतर मछलियों और सी फूड में ओमेगा 3 और फैटी एसिड्स मौजूद होते हैं जो आपके शरीर को पर्याप्त पोषण प्रदान करते हैं लेकिन सी फूड प्यूरीन से भी युक्त होता है इसलिए प्यूरिन का सेवन न करने वाले लोगों को सी फूड से भी परहेज ही रखना चाहिए।

Inside2seafoods

Image Credit:Sandra Rose

5. पीनट्स( Peanut)

सर्दियों के मौसम में मूंगफलियों या पीनट का सेवन अधिक किया जाता है और आपको जान कर हैरानी होगी की इनमें प्रोटीन होता है और यह आपको बायोटिन की भी प्रयाप्त मात्रा उपलब्ध करवाते हैं जोकि प्रेगनेंट महिलाओं के लिए बहुत लाभदायक रहता है। लेकिन पीनट में प्यूरिन की मात्रा भी अधिक होती है यह भी आपको जान लेना चाहिए। 100 ग्राम पीनट में 75 एमजी प्यूरीन होता है जो गर्भवती महिलाओं के लिए सही नहीं होता है।

इसे भी पढ़ें: 13 से 19 साल के बच्चों को जरूर दें डोपामाइन और सेरोटोनिन हॉर्मोन्स बढ़ाने वाले ये 7 फूड्स, जानें इसके फायदे

6. रैबिट (Rabbit)

100 ग्राम रैबिट में 132 एमजी प्यूरीन की मात्रा पाई जाती है जोकि अधिक है। लेकिन रैबिट में चिकन और अन्य मीट के स्रोत आदि के मुकाबले प्रोटीन की मात्रा भी बहुत अधिक पाई जाती है। अगर आपको प्यूरीन से होने वाली कोई समस्या है केवल तब ही इसे खाना बंद करें। अन्यथा आप इससे पोषण प्राप्त कर सकते हैं।

7. शराब (Alcohol)

शराब का सेवन करना तो वैसे भी आपकी सेहत के लिए हानिकारक होता है और इससे भी अधिक बुरा आपको यह जान कर लगेगा कि शराब में प्यूरिन की मात्रा भी अधिक होती है इसलिए अब आपके पास इसे अवॉइड करने का एक और भी कारण आपको मिल चुका है।

तो यह थे कुछ खाद्य पदार्थ जिनमें प्यूरीन की मात्रा अधिक होती है और अगर आपको गाउट या यूरिक एसिड से जुड़ी समस्या हैं तो आपको यह सब चीजें नहीं खानी चाहिए। इसके अलावा आपको बेकन, ओटमील आदि चीजें भी नहीं खानी चाहिए। पर  लो फैट दूध, दही आदि खा लेना चाहिए। आप फल और सब्जियां आदि भी खा सकते हैं। कॉफी का सेवन करना चाहें तो आप सीमित मात्रा में कर सकते हैं।

Main Image Credit:Food Navigator

Read more articles on Healthy-Diet in Hindi

Disclaimer