तलवों में जलन के साथ झनझनाहट होना शरीर में बढ़े यूरिक एसिड का हो सकता है संकेत, इन परहेज से रुक सकती है समस्या

शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने पर आपको सबसे पहले दिक्कत अपने पैरों में ही लगती है। इससे बचाव के लिए खानपान में कुछ परहेज जरूरी हैं।

 

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Sep 09, 2020Updated at: Dec 01, 2020
तलवों में जलन के साथ झनझनाहट होना शरीर में बढ़े यूरिक एसिड का हो सकता है संकेत, इन परहेज से रुक सकती है समस्या

कई बार कुछ लोगों को पैरों में जलन और झनझनाहट की समस्या होती है। लोग इसे सामान्य समस्या समझकर नजरअंदाज कर देते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ऐसे संकेत शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने के भी हो सकते हैं? यूरिक एसिड शरीर में बनने वाला एक खास एसिड है, जो अगर अधिक मात्रा में बने, तो शरीर को नुकसान पहुंचाने लगता है। यूरिक एसिड बढ़ने पर सबसे आम संकेत जोड़ों में दर्द, सूजन और लालपन है। मेडिकल भाषा में यूरिक एसिड बढ़ने की समस्या को हाइपरयूरीसीमिया कहते हैं। अगर आपको भी अपने पैरों में जलन और झनझनाहट जैसे संकेत दिखते हैं, तो आपको सावधान हो जाना चाहिए और डॉक्टर की सलाह लेकर यूरिक एसिड लेवल की जांच करानी चाहिए। अगर आप लंबे समय तक यूरिक एसिड बढ़ने के संकेतों को नजरअंदाज करते हैं, तो आपको गठिया और अर्थराइटिस जैसी बीमारियां हो सकती हैं।

uric

क्यों खतरनाक होता है यूरिक एसिड का बढ़ना?

खाने-पीने की बहुत सारी चीजों में प्यूरिन नामक तत्व होता है, जो शरीर में पहुंचकर टूटता है और इसके टूटने से यूरिक एसिड बनता है। आमतौर पर मांसाहारी भोजन और बीयर आदि में प्यूरिन ज्यादा होता है, इसलिए मांसाहारी लोगों को अक्सर ये समस्या होती है। सामान्यतः शरीर में बनने वाले यूरिक एसिड को शरीर अपशिष्ट पदार्थ मानकर पेशाब के साथ बाहर निकाल देता है। लेकिन जब यूरिक एसिड बहुत अधिक बनने लगता है, तो खून के साथ बहकर ये जोड़ों में जमा होने लगता है। इसी कारण से यूरिक एसिड बढ़ने की आम समस्याएं जोड़ों से ही शुरू होती हैं।

इसे भी पढ़ेंः यूरिक एसिड के मरीजों के लिए क्‍या है ज्‍यादा बेहतर, ग्रीन टी या मिल्क टी?

क्या हैं यूरिक एसिड बढ़ने के संकेत?

संभव है कि लंबे समय तक आपको यूरिक एसिड बढ़ने के कोई संकेत न मिलें, क्योंकि यूरिक एसिड जब जोड़ों में जमा होकर तकलीफ पैदा करता है, आमतौर पर तभी लोगों को इसका पता चलता है। ऐसे समय में आपको नीचे बताए कुछ लक्षण दिख सकते हैं-

  • तलवों में जलन
  • तलवों में झनझनाहट
  • पैरों में अकड़न और दर्द
  • जोड़ों में सूजन और लालपन (गठिया की समस्या)
  • जोड़ों में दर्द की समस्या
  • किडनी की पथरी की समस्या
  • अंगों को जोड़ से मोड़ने में परेशानी होना
  • पेशाब रूक-रुक कर आना
  • पेशाब करते समय दर्द होना

इन संकेतों के दिखने पर आपको सावधान हो जाना चाहिए और डॉक्टर से मिलकर सही जांच करानी चाहिए। शरीर में यूरिक एसिड की जांच के लिए ब्लड टेस्ट किया जाता है।

acid

इसे भी पढ़ेंः अजवाइन और अदरक है गठिया रोगियों के लिए वरदान, शरीर में बढ़े यूरिक एसिड को कम करने के लिए ऐसे करें प्रयोग

यूरिक एसिड की समस्या होने पर खानपान में करें ये परहेज

अगर आपके शरीर में यूरिक एसिड बढ़ गया है तो आपको खाने-पीने में कुछ चीजों का परहेज करना चाहिए, जिससे कि यूरिक एसिड बहुत अधिक बढ़कर गंभीर समस्याएं न पैदा कर दे। ये परहेज इस प्रकार हैं-

  • मांसाहारी भोजन, खासकर रेड मीट और सी फूड्स का सेवन कम करें।
  • ऑर्गन मीट जैसे- जानवरों का लिवर खाने से भी यूरिक एसिड बहुत अधिक बढ़ सकता है, इसलिए इसका सेवन बंद कर दें।
  • बाजार में मिलने वाले मीठे ड्रिंक्स, कोल्ड ड्रिंक्स, सोडा, पैकेटबंद मीठी चीजों का सेवन बंद कर दें क्योंकि इनमें हाई फ्रक्टोज कॉर्न सिरप होता है, जो यूरिक एसिड को बढ़ा सकता है।
  • ओट्स आमतौर पर हेल्दी माना जाता है, लेकिन यूरिक एसिड के मरीजों के लिए ये भी नुकसानदायक हो सकता है।
  • बीयर और एल्कोहल वाली दूसरी सभी ड्रिंक्स से परहेज करें क्योंकि इनमें बहुत ज्यादा प्यूरिन होता है, जो यूरिक एसिड की समस्या बढ़ा सकता है।
  • पालक, मटर और मशरूम जैसी सब्जियों को कम खाएं या बिल्कुल बंद कर दें, क्योंकि इन सभी चीजों के सेवन से भी यूरिक एसिड बढ़ता है।

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer