यूरिक एसिड के मरीजों के लिए क्‍या है ज्‍यादा बेहतर, ग्रीन टी या मिल्क टी?

सामन्य तौर पर यूरिक एसिड बढ़ने से जोड़ों में दर्द की शिकायत होने लगती है। जाने कैसे करें यूरिक एसिड की मात्रा को कम।

सम्‍पादकीय विभाग
घरेलू नुस्‍खWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Aug 13, 2020Updated at: Aug 13, 2020
यूरिक एसिड के मरीजों के लिए क्‍या है ज्‍यादा बेहतर, ग्रीन टी या मिल्क टी?

यूरिक एसिड (Uric Acid) हमारे शरीर में प्यूरिन युक्त खाने के पाचन से बना प्राकृतिक वेस्ट प्रोडक्ट होता है। हमारे शरीर में प्यूरिन का सबसे अधिक मात्रा में निर्माण मीट, बियर, बीन्स आदि के सेवन से होता है। यूरिक एसिड हमारे शरीर में यूरिन और किडनी के जरिये फिल्टर हो जाता है, लेकिन जब हम अपनी दैनिक जीवन प्यूरिन यूक्त चीजों का सेवन ज्यादा करने लगते है, तो इसे यूरिन और किडनी पूरी तरह से फिल्टर नहीं कर पाते है और यह हमारे रक्त में बढ़ने लगता है। जिसे चिकित्सीय भाषा में हाइपरयूरिसीमिया (Hyperuricemia) कहा जाता है। ये हमारे यूरिन को भी एसिडिक बना देता है। इसके बढ़ने से गठिया (Gout) की बीमारी तथा गुर्दे (Kidney) से जुड़ी समस्याएं हो सकती है। जिससे शरीर के जोड़ों में दर्द जैसे स्वास्थ्य समस्याएं उत्पन्न होने लगती है। आज हम आपको अपने इस लेख में बताएंगे की यूरिक एसिड के मरीजों के लिए कौन सी चाय है फायदेमंद। 

Uric Acid

मिल्क टी: 

यूरिक एसिड से पीड़ित मरीजों को मिल्क टी का सेवन नहीं करना चाहिए ये उनके लिए नुकसानदेह हो सकता है। क्योंकि दूध में वसा (Fat) की बहुत अधिक मात्रा में पायी जाती है। जिससे इसके सेवन से शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा काफी चढ़ाव होता है। इसके अलावा मिल्क टी में चीनी भी काफी मात्रा में मौजूद होती है  जिससे हमारे शरीर का वजन बढ़ने का खतरा होता है और यह किसी भी यूरिक एसिड के मरीजों के लिए घातक सिद्ध हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: वजन घटाने से लेकर शरीर के हर दर्द की दवा है धनिये का तेल, जानें इसके अद्भुत फायदे

ग्रीन टी: 

यूरिक एसिड  से पीड़ित मरीज के लिए ग्रीन टी काफी फायदेमंद साबित होती है। इसे पीने से हमारे शरीर के विषैले पदार्थ बाहर निकल जाते है जिससे जोड़ों के दर्द से भी राहत मिलती है। ग्रीन टी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट को यूरिक एसिड को नियंत्रित करने में काफी सक्षम माना गया है। अगर हम ग्रीन टी का सेवन नियमित रूप से करें, तो ये गठिया के होने वाले दर्द व सूजन को धीरे-धीरे ठीक कर सकते हैं। आप यूरिक एसिड से निपटने के लिए कीवी, नींबू, स्‍मूदी आदि का सेवन भी कर सकते हैं। 

Green Tea For Uric Acid

यूरिक एसिड को कम करने के अन्य उपाय

सेब का सिरका:

सेब का सिरका यूरिक एसिड में काफी लाभकारी माना गया है। दरअसल सेब का सिरका भी हमारे शरीर से विषैले पदार्थ को निकालता है। जिससे हमें जोड़ो के दर्द में राहत मिलती है।

पानी:

यूरिक एसिड को कम करने में पानी की भूमिका काफी अहम है, चिकित्सक भी यूरिक एसिड के मरीजों को एक दिन में 10 से 12 ग्लास पानी पीने की सलाह देते है।

Remedies For Uric Acid

इसे भी पढ़ें: स्‍वस्‍थ और तंदुरूस्‍त रहना है, तो इन 5 प्राकृतिक तरीको करें ब्‍लड प्यूरिफिकेशन

चैरी और स्ट्रॉबेरी:

चैरी और स्ट्रॉबेरी एंटी-इंफ्लामेटरी के गुण होते है। जो यूरिक एसिड के मरीजों के लिए काफी लाभकारी होता है। एंटी-इंफ्लामेटरी शरीर के जोड़ों में जमा यूरिक एसिड को तोड़ता है। जिससे हमें दर्द व सूजन में आराम मिलता है।

यूरिक एसिड से पीड़ित मरीज इस बीमारी से छुटकारा पा सकते हैं। इसके लिए आपको बस अपने दैनिक जीवन में कुछ बदलाव की करने होंगे। अगर आप अपनी डाइट का सही से ख्याल रखें व अपनी भोजन में पर्याप्त मात्रा में विटामिन-सी का प्रयोग करें तो आपको यूरिक एसिड से बहुत जल्द आराम मिलने लगेगा। इसके अतिरिक्त यूरिक एसिड से ग्रसित मरीज अगर नियमित रुप से व्यायाम करें। तो उन्हें बहुत जल्द जोड़ों के दर्द से राहत मिलने लगेगी। 

Read More Articles On Home Remedies In Hindi  

Disclaimer