प्रेग्नेंसी के दौरान क्यों होती है खुजली? जानें कारण और उपाय

प्रेग्नेंसी के दौरान कई मह‍िलाओं को खुजली की समस्‍या होती है, चल‍िए डॉक्‍टर से जानते हैं इसका कारण और उपाय 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jun 03, 2021
प्रेग्नेंसी के दौरान क्यों होती है खुजली? जानें कारण और उपाय

प्रेग्नेंसी के दौरान खुजली क्‍यों होती है? प्रेग्नेंसी के दौरान मह‍िला के शरीर में बहुत से बदलाव आते हैं और कई समस्‍याओं का सामना करना पड़ता है ज‍िनमें से एक कॉमन समस्‍या है खुजली। प्रेग्नेंसी में हर मह‍िला को खुजली की समस्‍या नहीं होती पर कुछ को इससे काफी द‍िक्‍कत होती है। कुछ मह‍िलाओं में स्‍क‍िन ख‍िंचने से त्‍वचा रूखी हो जाती है, गर्भस्‍थ श‍िशु के बढ़ने के कारण पेट में खिंचाव होता है और लोअर एब्‍डॉम‍िनल में खुजली शुरू हो जाती है। कुछ मह‍िलाओं में पेट पर खुजली के साथ हाथ और पैर में खुजली, प्राइवेट पार्ट में भी खुजली की समस्‍या होती है। इसके पीछे हार्मोनल चेंज के साथ-साथ कई कारण शाम‍िल हैं। प्रेग्नेंसी में एस्‍ट्रोजन का लेवल बढ़ने के कारण हार्मोन में बदलाव होते हैं ज‍िससे ब्रेस्‍ट में भी खुजली हो सकती है। चल‍िए जानते हैं प्रेग्नेंसी के दौरान खुजली का कारण और इससे न‍िपटने के उपाय। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के झलकारीबाई अस्‍पताल की गाइनोकॉलोज‍िस्‍ट डॉ दीपा शर्मा से बात की। 

pregnancy problems

प्रेग्नेंसी में क्‍यों होती है खुजली की समस्‍या? (Causes of itching during pregnancy)

बॉडी में प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले बदलावों के चलते खुजली की समस्‍या होती है, जैसे- 

  • 1. प्रेग्नेंसी के दौरान स्‍क‍िन ख‍िंचती है ज‍िसके कारण खुजली होती है। 
  • 2. स्‍क‍िन में ब्‍लड सप्‍लाई बढ़ने के कारण प्रेग्नेंसी के दौरान खुजली हो सकती है। 
  • 3. बॉडी में स्‍ट्रेच मार्क्स आने के कारण गर्भावस्‍था में खुजली हो सकती है। 
  • 4. प्रेग्नेंसी में हार्मोनल चेंज के चलते भी खुजली की समस्‍या होती है। 
  • 5. प्रेग्नेंसी में कुछ मह‍िलाओं की स्‍कि‍न ड्राय हो जाती है इसल‍िए भी खुजली हो सकती है। 
  • 6. प्रेग्नेंसी में इंफेक्‍शन जल्‍दी हो जाता है ज‍िसके कारण दाने होते हैं और उनमें खुजली होने लगती है। 

प्रेग्नेंसी के दौरान बॉडी में कहां खुजली होती है? (Itching in different body parts during pregnancy)

pregnancy itching

  • 1. प्रेग्नेंसी के दौरान ज्‍यादातर मह‍िलाओं को पेट पर खुजली होती है। जैसे-जैसे बच्‍चा बढ़ता है, यूट्रस का साइज बढ़ता है और पेट ख‍िंचता है ज‍िससे स्‍क‍िन में खुजली होती है। कुछ मह‍िलाओं को पेट पर खुजली से रैशेज भी हो जाते हैं। हल्‍की खुजली होना नॉमल है पर ज्‍यादा खुजली होने से स्‍क‍िन डैमेज हो सकती है ज‍िससे इंफेक्‍शन और बैक्‍टीर‍िया आपकी बॉडी में आसानी से प्रवेश कर जाएंगे, इसल‍िए लक्षणों का ध्‍यान रखें। 
  • 2. हार्मोनल चेंज के कारण प्रेग्नेंसी में कुछ मह‍िलाओं को ब्रेस्‍ट पर भी खुजली होती है। प्रेग्नेंसी में खून का फ्लो, एस्‍ट्रोजन हार्मोन और ब्रेस्‍ट का साइज बढ़ने के कारण न‍िप्‍पल और ब्रेस्‍ट पर तेज खुजली हो सकती है, ऐसे में आप तेल की माल‍िश से खुजली से न‍िजात पा सकती हैं। 
  • 3. प्रेग्नेंसी के दौरान ब्‍लड फ्लो बढ़ने के साथ पैरों में खुजली होती है। जब आपके पैर में कुछ सेकेंड के लि‍ए ब्‍लड फ्लो रुकता है तो पैर सुन्‍न हो जाता है और जब ब्‍लड फ्लो नॉर्मल होता है तो खुजली महसूस होती है, ठीक वैसा ही प्रेग्नेंसी के दौरान भी होता है। इसल‍िए हाथ और पैरों में खुजली हो सकती है।
  • 4. यीस्‍ट इंफेक्‍शन के कारण प्रेग्नेंसी के दौरान प्राइवेट पार्ट में खुजली की समस्‍या हो सकती है, इससे बचने के ल‍िए आप प्रोबायोट‍िक्‍स जैसे दही, छाछ का सेवन करें और साफ-सफाई का ध्‍यान रखें, ज्‍यादा परेशानी हो तो डॉक्‍टर की सलाह पर दवा लें। 

इसे भी पढ़ें- Causes of Itching: इन 11 कारणों से हो सकती है शरीर में खुजली, जानें लक्षण और बचाव

ज्‍यादा खुजली होने पर क्‍या करें? (Severe itching during pregnancy)

अगर आपको हल्‍की खुजली है तो आप उसे घर पर ही ठीक कर सकती हैं, ये आपके और होने वाले बच्‍चे के लि‍ए कोई परेशानी की बात नहीं है पर अगर खुजली के साथ दर्द भी हो तो डॉक्‍टर से सलाह लें। खुजली की समस्‍या आपकी डेली लाइफ में खलल न डाले इस बात का ध्‍यान रखें। अगर खुजली इतनी ज्‍यादा है क‍ि आपकी नींद खराब हो रही है तो आपको डॉक्‍टर को द‍िखाना चाह‍िए। खुजली ज्‍यादा होने पर त्‍वचा और आंखें पीली होने लगती हैं। ज्‍यादा खुजली की समस्‍या को देखते हुए डॉक्‍टर ब्‍लड टेस्‍ट करके परेशानी का कारण पता करते हैं। कुछ केस में जब खुजली असहनीय हो जाती है तो वो आईसीपी का लक्षण हो सकती है जो प्रेग्नेंसी के दौरान मां और बच्‍चे के ल‍िए परेशानी का कारण बन सकती है।

प्रेग्नेंसी के दौरान खुजली होने पर क्‍या करें? (Treatment of itching during pregnancy)

 coconut oil

प्रेग्नेंसी के दौरान खुजली होने पर डॉक्‍टर से सलाह लें। वो आपको दवा या जेल दे सकते हैं। जब खुजली की समस्‍या रोज होने लगती है तो परेशानी बढ़ सकती है, इसल‍िए आप कुछ आसान उपायों की मदद से भी इसे ठीक कर सकती हैं- 

  • 1. प्रेग्नेंसी के दौरान खुजली होने पर आप नार‍ियल का तेल लगा सकती हैं, कोकोनट ऑयल को आप बॉडी के क‍िसी भी ह‍िस्‍से में खुजली होने पर इस्‍तेमाल कर सकती हैं।
  • 2. खुजली की समस्‍या से बचने के ल‍िए आप एप्‍पल साइडर व‍िनेगर भी प्रभाव‍ित ह‍िस्‍से में लगा सकती हैं। 
  • 3. गुनगुने पानी में बेकिंग पाउडर डालकर नहाने से भी खुजली की समस्‍या दूर हो जाती है। 
  • 4. प्रेग्नेंसी के दौरान खुजली होने पर एलोवेरा जैल का इस्‍तेमाल करें।
  • 5. प्राइवेट पार्ट में खुजली होने पर नीम की पत्‍त‍ियों को पानी में उबाल लें, पानी ठंडा होने पर नीम के पानी से वॉश करें।
  • 6. टी ट्री ऑयल में एंटी-बैक्‍टीर‍ियल गुण होते हैं, आप उसका इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- वजाइना में एलर्जिक रिएक्शन क्यों होता है? जानें 5 कारण और लक्षण

प्रेग्नेंसी के दौरान खुजली की समस्‍या से बचने के ल‍िए क्‍या करें? (Prevention tips to cure itching during pregnancy)

प्रेग्नेंसी के दौरान खुजली की समस्‍या से बचने के लि‍ए इन बातों का रखें ध्‍यान-

  • 1. खुजली की समस्‍या से बचने के ल‍िए साफ-सफाई का ध्‍यान रखें।
  • 2. प्रेग्नेंसी के दौरान परफ्यूम या ड‍ियो इस्‍तेमाल करने से बचें। 
  • 3. आप प्रेग्नेंसी के दौरान कॉटन के ढीले कपड़े पहनें। 
  • 4. खुजली होने पर नाखून से स्‍कि‍न को रगड़ें नहीं बल्‍क‍ि हाथ से सहलाएं।
  • 5. प्रेग्नेंसी के दौरान अपनी स्‍क‍िन को हाइड्रेट रखें, त्‍वचा पर लोशन या क्रीम रोज लगाएं। 
  • 6. प्रेग्नेंसी के दौरान अपने कपड़े या बॉडी पर कोई भी हार्श कैमिकल इस्‍तेमाल करने से बचें। 
  • 7. प्रेग्नेंसी के दौरान खुजली की समस्‍या से बचने के ल‍िए आप कैलेम्‍लाइन लोशन लगा सकती हैं। 
  • 8. प्रेग्नेंसी के दौरान ऐसी कोई पैंट या बॉटम न पहनें ज‍िसमें इलास्‍ट‍िक हो, धागे वाले बॉटम पहनें तो खुजली नहीं होगी। 

प्रेग्नेंसी के दौरान अपनी हाइजीन का ध्‍यान रखें, रोजाना स्‍नान करें और कपड़ों को द‍िन में कम से कम दो बार बदलें। लीवर ड‍िस्‍ऑर्डर के कारण भी खुजली हो सकती है इसलि‍ए च‍िकि‍त्‍सा सलाह पर लीवर फंक्‍शन टेस्‍ट करवाएं।

Read more on Women Health in Hindi 

Disclaimer