वजाइना में एलर्जिक रिएक्शन क्यों होता है? जानें 5 कारण और लक्षण

वजाइना एक बेहद संवेदनशील बॉडी पार्ट है। आपकी छोटी-छोटी गलतियों के कारण वजाइना में खुलजी, दाने, रैशेज और जलन जैसे एलर्जिक रिएक्शन के लक्षण दिख सकते हैं

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Feb 14, 2020
वजाइना में एलर्जिक रिएक्शन क्यों होता है? जानें 5 कारण और लक्षण

वजाइना बेहद सेंसिटिव बॉडी पार्ट है। महिलाओं के शरीर में सबसे ज्यादा सेंसिटिव और मुलायम स्किन वजाइना में ही होती है। इसलिए अक्सर छोटी-छोटी गलतियां भी महिलाओं के इस बॉडी पार्ट में बड़ी परेशानी की वजह बन जाती हैं। वजाइनल एलर्जिक रिएक्शन एक ऐसी ही समस्या है, जिसके कारण आपको खुजली, दर्द जैसी कई समस्याएं हो सकती हैं। इसके कई कारण हो सकते हैं, जिसके बारे में हम आगे बताएंगे। वजाइना में बैक्टीरियल इंफेक्शन और एलर्जिक रिएक्शन के लक्षण तो लगभग एक से होते हैं, मगर इनमें थोड़ा अंतर होता है। आमतौर पर बैक्टीरियल इंफेक्शन के लक्षण कुछ दिनों बाद दिखने शुरू होते हैं, मगर एलर्जिक रिएक्शन के कारण आपको तुरंत उसी समय परेशानी हो सकती है, जब आपकी वजाइना एलर्जी वाली चीज संपर्क में आती है। आइए आपको बताते हैं इसके लक्षण और कारण।

वजाइना में एलर्जिक रिएक्शन के लक्षण

  • लगातार तेज खुजली
  • जलन जैसा महसूस होना
  • किसी तरह का डिस्चार्ड होना (सफेद, पीला या हरा)
  • स्किन का लाल हो जाना
  • छोटे-छोटे दाने उभर आना
  • बेचैनी होना

वजाइनल एलर्जिक रिएक्शन के कारण

महिलाओं में वजाइनल एलर्जिक रिएक्शन का कारण पर गलत तत्वों के संपर्क के कारण होता है। आमतौर पर इन 5 कारणों से वजाइना में एलर्जी और रिएक्शन की समस्या हो सकती है-

इसे भी पढ़ें: वजाइना से ब्लीडिंग होने के हो सकते हैं ये 10 कारण, गर्भाशय को हो सकता है नुकसान

स्पर्म

जी हां, स्पर्म के कारण भी वजाइना में रिएक्शन हो सकता है। इसे 'सेमिनल प्लाजमा हाइपरसेंस्टिविटी' (seminal plasma hypersensitivity) कहते हैं। इस तरह के रिएक्शन में जब पुरुष का स्पर्म महिला के वजाइना के संपर्क में आता है, तो उसमें खुजली और सूजन की समस्या होने लगती है। हालांकि ये बहुत रेयर मामला है, मगर फिर भी अगर ऐसा अक्सर होता है, तो आपको महिला रोग विशेषज्ञ से मिलकर इसके बारे में पूछना चाहिए।

लैटेक्स कंडोम

लैटेक्स एक तरह का रबर होता है, जिसका इस्तेमाल कंडोम बनाने में किया जाता है। ये रबर पेड़ से प्राप्त होता है और इसमें कुछ ऐसे प्रोटीन्स होते हैं, जो किसी-किसी के इम्यून सिस्टम के साथ रिएक्शन कर जाते हैं। इसके कारण कंडोम के संपर्क में आते ही वजाइना में खुजली, रैशेज और कई बार लाल चकत्ते भी होने लगते हैं। हालांकि लैटेक्स रिएक्शन 1% से भी कम लोगों में होता है, मगर अगर आपके साथ ऐसा होता है, तो बाजार में लैटेक्स फ्री कंडोम्स भी मौजूद हैं, आप अपने पार्टनर को उनका इस्तेमाल करने के लिए कह सकती हैं।

खुश्बूदार प्रोडक्ट्स

आजकल वजाइना की साफ-सफाई और देखभाल के लिए बहुत सारे प्रोडक्ट्स आ गए हैं। वजाइना को हेल्दी रखने और अच्छी साफ-सफाई के लिए कई तरह की क्रीम, स्प्रे, वाइप्स और पैड्स आदि मौजूद हैं। आमतौर पर ये प्रोडक्ट्स वजाइना के भीतरी और बाहरी त्वचा से बैक्टीरिया को दूर रखने के लिए बनाए जाते हैं। मगर कई बार इन्हें ज्यादा आकर्षक बनाने के लिए इनमें तेज खुश्बू का इस्तेमाल किया जाता है। किसी-किसी की त्वचा इस तरह की खुश्बू को बर्दाश्त नहीं कर पाती है और इसके कारण उन्हें एलर्जी हो जाती है। एलर्जी के लक्षण वही हैं, जो ऊपर बताए गए हैं। ऐसा होने पर आप बिना खुश्बू वाले प्रोडक्ट्स को चुन सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: महिलाओं में वजाइनल समस्याओं का कारण बनता है यीस्ट इंफेक्शन, जानें लक्षण और इलाज

सिंथेटिक कपड़े

कई बार महिलाओं में नए अंडर गारमेंट्स के कारण भी भी एलर्जिक रिएक्शन हो सकता है। दरअसल कुछ कपड़े सिंथेटिक होते हैं, जिसके कारण ये त्वचा पर एलर्जिक रिएक्शन शुरू कर देते हैं। इसके अलावा कई बार कुछ कपड़ों को बनाने में इस्तेमाल डाई या रंगों के कारण भी एलर्जी हो सकती है। इसलिए कोशिश करें कि नए अंडर गारमेंट्स को बिना धोए कभी भी न पहनें। इसके अलावा वजाइना की त्वचा की अच्छी साफ-सफाई रखें।

केमिकलयुक्त प्रोडक्ट्स

कई बार हाई केमिकलयुक्त प्रोडक्ट्स के इस्तेमाल से भी वजाइना में एलर्जिक रिएक्शन हो सकता है। जैसे- गलत साबुन का इस्तेमाल, केमिकलयुक्त हेयर रिमूवर और गंदे टॉयलेट पेपर आदि के इस्तेमाल से त्वचा में खुजली, दाने और रैशेज हो सकते हैं। इसलिए किसी भी प्रोडक्ट को इस्तेमाल करने से पहले अपनी त्वचा पर टेस्ट जरूर कर लें। नए टॉवेल का इस्तेमाल बिना धोएं न करें। कोशिश करें कि वजाइना केयर के लिए आप जो भी प्रोडक्ट्स खरीदते हैं, वो या तो नैचुरल या ऑर्गेनिक हों।

Read more articles on Women's Health in Hindi

Disclaimer