लैपटॉप गोद में रखकर काम करने की आदत आपसे छीन सकती है संतान सुख, एक्सपर्ट से जानें कैसे घटती है फर्टिलिटी

वर्क फ्रॉम होम में लैपटॉप का इस्‍तेमाल बढ़ गया है पर लैपटॉप के रेड‍िएशन  से इंफर्टिल‍िटी की समस्‍या हो सकती है।  

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jan 14, 2021Updated at: Jan 14, 2021
लैपटॉप गोद में रखकर काम करने की आदत आपसे छीन सकती है संतान सुख, एक्सपर्ट से जानें कैसे घटती है फर्टिलिटी

वैश्‍व‍िक माहमारी में वर्क फ्रॉम होम कल्‍चर बढ़ गया है। सभी घर से काम कर रहे हैं ज‍िसके चलते लैपटॉप का इस्‍तेमाल बढ़ गया है। क्‍या आपको पता है लैपटॉप के ज्‍यादा इस्‍तेमाल से आपकी र‍िप्रोडक्‍टिव हेल्‍थ पर असर पड़ सकता है? घर से काम के चलते लैपटॉप का इस्‍तेमाल बढ़ गया है। द‍िन भर लैपटॉप के इस्‍तेमाल से शरीर में इसका बुरा असर पड़ता है। लैपटॉप से न‍िकलने वाली हीट हमारी स्‍क‍िन और अंदर के ट‍िशू डैमेज कर सकती है। इसे देर तक गोद में रखकर काम करने से इंफर्टिल‍िटी की समस्‍या भी बढ़ सकती है। हालांक‍ि लैपटॉप से ज्‍यादा नुकसान उससे जुड़े वाईफाई से है क्‍योंक‍ि रेड‍िएशन का संबंध इंटरनेट कनेक्‍शन से होता है। लैपटॉप का र‍िप्रोडक्‍ट‍िव हेल्‍थ पर असर और बचने के उपाय जानने के लिये हमने बात की लखनऊ में डॉ राम मनोहर लोहिया इंस्‍ट‍िट्यूट ऑफ मेड‍िकल साइंसेज के अस‍िसटेंट प्रोफेसर और यूरोलॉज‍िस्‍ट डॉ संजीत कुमार सिंह और समझा क‍ि ड‍िवाइस रेड‍िएशन का क्‍या असर हम पर पड़ता है।

laptop causing infertility

क्‍या इंफर्टिलिटी का कारण है लैपटॉप? (Laptop causing infertility)

कुछ स्‍टडीज़ में ऐसा कहा गया है क‍ि लैपटॉप के ज्‍यादा इस्तेमाल से इनफर्ट‍िल‍िटी की समस्‍या हो सकती है। इससे स्‍पर्म काउंट पर इफेक्ट पड़ता है। व‍िशेषज्ञों का कहना है क‍ि लैपटॉप को गोद में रखकर काम करने से पुरूषों के र‍िप्रोडक्‍ट‍िव ऑर्गन इफैक्‍ट होते हैं। कई र‍िसर्च में इस बात की पुष्‍ट‍ि की गई है क‍ि लैपटॉप के रेड‍िएशन से पुरूषों में शुक्राणुओं की संख्‍या में गिरावट होती है। इस समस्‍या से आपसे संतान का सुख छ‍िन सकता है। हालांक‍ि ज्यादातर कंप्‍यूटर बनाने वाली कंपन‍ियां इस बात की चेतावनी देती है क‍ि कंप्यूटर या लैपटॉप को गोद में रखकर काम नहीं करना चाह‍िये पर लोग इस बात पर ध्‍यान नहीं देते। डॉ संजीत ने बताया कि वैसे तो लैपटॉप के असर से इंफर्टिल‍िटी होना बहुत लंबा प्रोसेज है। इसके लंबे इस्‍तेमाल से स्‍पर्म काउंट में कमी, स्‍पर्म का असामान्‍य आकार, शुक्राणु बाहर न आने जैसी समस्‍या हो सकती है। द‍िन में 1-2 घंटे के इस्‍तेमाल से ऐसा नहीं होता पर फ‍िर भी अगर हमारे पास कोई केस आता है तो हम जांच से पता करते हैं क‍ि स्‍पर्म काउंट क‍ितना है। 15 म‍िल‍ियन से ज्‍यादा का स्‍पर्म काउंट सामान्‍य होता है पर उससे कम हो तो द‍िक्‍कत हो सकती है।  

इसे भी पढ़ें- पुरुषों में इंफर्टिलिटी (बच्चा न होने) के हो सकते हैं कई कारण, डॉक्टर से जानें आयुर्वेद में इसका इलाज

पुरूषों में इंफर्टिल‍िटी का खतरा ज्‍यादा (Infertility in men)

infertility in men is more then women

डॉक्‍टरों का मानना है क‍ि मह‍िलाओं के बदले पुरूषों को लैपटॉप हीट ज्‍यादा नुकसान पहुंचा सकती है। इसका कारण है शरीर की बनावट। मह‍िलाओं के शरीर में यूटरस शरीर के अंदर होता है जबक‍ि पुरूषों में टेस्‍ट‍िकल शरीर के बाहरी ह‍िस्‍से में होता है ज‍िससे हीट रेड‍िएशन ज्‍यादा करीब रहती है। इसल‍िये पुरूषों को लैपटॉप इस्‍तेमाल करते समय खास ख्‍याल रखना चाह‍िये। ज्‍यादा तापमान से स्‍पर्म क्‍वॉलिटी ग‍िरती है और फर्ट‍िलि‍टी में समस्‍या आ सकती है। लैपटॉप के दुष्‍प्रभाव धीरे-धीरे बढ़ते हैं इसल‍िये आपको अचानक से इसका असर देखने को नहीं म‍िलेगा।  

पैर या गोद में न रखें लैपटॉप (Never place laptop on lap)

लैपटॉप को पैरों पर या गोद में रखने के बजाय आप उसे टेबल पर रखकर इस्‍तेमाल करें। कुछ लोग लैपटॉप के इस्‍तेमाल के वक्‍त पैरों को च‍िपकाकर बैठते हैं ज‍िससे लैपटॉप की रेड‍िएशन सीधे शरीर पर पड़ती है। ड‍िवाइस से न‍िकलने वाली हीट आपको बीमार कर सकती है। लैपटॉप को लगातार यूज करने से बचें। इससे हमारी मसल्‍स में दर्द उठ सकता है। लंबे समय तक बैठे रहने से मांस-पेश‍ियों में खिंचाव हो सकता है। इसल‍िये लैपटॉप इस्‍तेमाल करने की एक जगह बना लें और वहीं पर काम करें। 

इसे भी पढ़ें- पुरुष अक्सर करते हैं ये 3 गलतियां, जानें क्या हैं ये और क्यों है स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह

वाईफाई से फैलता है रेड‍िएशन (Wifi causing radiation)

laptop radiation is harmful

डॉ संजीत ने बताया क‍ि लैपटॉप का इस्‍तेमाल उतना खतरनाक नहीं है पर उससे जुड़ा वाईफाई कनेक्‍शन हान‍िकारक है। देर तक लैपटॉप पर काम करने से ज्‍यादा बुरा है जब आप उसे खुद पर रखकर इस्‍तेमाल करें। सभी इंटरनेट ड‍िवाइस रेड‍ियोफ्र‍ीक्‍वेंसी का इस्‍तेमाल करते हैं जो क‍ि हमारे शरीर को बीमार कर सकता है। हॉर्डड्राइव से लो फ्र‍ीक्‍वेंसी रेड‍िएशन छोड़ते हैं वहीं ब्‍लूटूथ कनेक्‍शन से हाई रेड‍िएशन बाहर आती है। लैपटॉप को हीट से बचाने के ल‍िये उसमें कूल‍िंग सिस्‍टम भी होता है पर उससे सेहत और ज्‍यादा ब‍िगड़ सकती है। इससे ये बात साफ है क‍ि लैपटॉप आपकी सेहत ब‍िगाड़ सकता है। रेड‍िएशन के असर से शुरू में आपको नींद न आना, स‍िर में तेज दर्द जैसी परेशानी हो सकती है।  

ऐसे इस्‍तेमाल करें लैपटॉप तो नहीं होंगे बीमार (How to use laptop)

  • 1. लैपटॉप पर लगातर बैठकर काम न करें, थोड़ी-थोड़ी देर का ब्रेक लेते रहें। आपके ल‍िये बीच में वॉक करना जरूरी है। इससे मांसपेश‍ियों में अकड़न का अहसास नहीं होगा। 
  • 2. लैपटॉप या कंप्‍यूटर पर ब्‍लू लाइट फ‍िल्‍टर का इस्‍तेमाल करें। फ‍िल्‍टर आंखों को रेड‍िएशन से बचाता है। 
  • 3. काम हो जाने के बाद वाईफाई बंद कर दें। उससे न‍िकलने वाली हीट भी आपके ल‍िये हान‍िकारक हो सकती है। 
  • 4. अगर आपको स्‍पोंडलाइट‍िस की समस्‍या है तो आरामदायक कुर्सी का ही चयन करें। इससे पीठ, कमर और गर्दन पर जोर नहीं पड़ेगा। 
  • 5. काम के साथ स्‍वस्‍थ्‍य आहार का भी खास ख्‍याल रखें। हल्‍की कसरत करें। इससे शरीर लचीला रहता है और बीमार‍ियां दूर भागती हैं। 
  • 6. लैपटॉप पर शील्‍ड का इस्‍तेमाल करें। इससे रेड‍िएशन से थोड़ा बचाव हो सकता है। लैपटॉप के कवर मॉर्केट और ऑनलाइन दोनों जगहों पर म‍िलते हैं। आप लैपटॉप को ढककर रखें। 
  • 7. बहुत ज्‍यादा झुककर काम करने से बचें। इससे आपकी स्‍पाइन में परेशानी हो सकती है। ज्‍यादा झुकने से गर्दन में भी असर पड़ता है इसल‍िये लैपटॉप को सही द‍िशा में रखकर काम करें। 
  • 8. लैपटॉप से एक उच‍ित दूरी बनाकर काम करें। कोश‍िश करें क‍ि उसे टेबल पर रखकर ही आप काम करें। सीधे हाथों का इस्‍तेमाल करने से अच्‍छा है आप एक्‍सटर्नल कीबोर्ड या माउस का इस्‍तेमाल करें। 
  • 9. थोड़े-थोड़े समय में अपनी पोज‍िशन बदलते रहें इससे क‍िसी एक अंग पर ज्‍यादा इफैक्‍ट नहीं पड़ेगा। कोश‍िश करें क‍ि लैपटॉप क‍िसी ऐसी जगह न रखा हो जहां आप अपनी पोज‍िशन न बदल पायें। 
  • 10. लैपटॉप के साइड से ज्‍यादा हीट न‍िकल रही हो या तेज आवाज आ रही हो तो उसका इस्‍तेमाल बंद कर दें। कुछ लोग ऐसा होने के बाद भी लंबे समय तक ड‍िवाइस यूज करते रहते हैं। ऐसा करने से बचें। 

इंफर्टिल‍िटी दंपत्‍त‍ियों में होने वाली बड़ी समस्‍या है इसल‍िये इसके इलाज के ल‍िये सही समय पर डॉक्‍टर से सलाह लें। समय रहते बीमारी को दूर क‍िया जा सकता है।

Read more on Men's Health Tips in Hindi

Disclaimer