कैसे चुनें एक सही व सुरक्षित बैकपैक जो आप की पीठ को भी नुकसान न पहुंचाए, जानें बैकपैक चुनने का सही तरीका

गलत बैकपैक का चुनाव आपकी पीठ को नुकसान पहुंचा सकता है। तो सही बैकपैक का चुनाव कैसे करें, जानते हैं विस्तार से।

Monika Agarwal
विविधWritten by: Monika AgarwalPublished at: Sep 08, 2020Updated at: Oct 19, 2020
कैसे चुनें एक सही व सुरक्षित बैकपैक जो आप की पीठ को भी नुकसान न पहुंचाए, जानें बैकपैक चुनने का सही तरीका

गलत तरीके से बैकपैक का उपयोग करने से आपका पोश्चर खराब हो सकता है और आप भयानक कमर दर्द से पीड़ित भी हो सकते हैं। नर्सरी स्कूल के छात्रों से लेकर वयस्कों तक, हरेक को इन दिनों एक बैक पैक की आवश्यकता पड़ती है। लेकिन जब सही ढंग से पहना जाता है, तब तो ठीक है और आपके काम, स्कूल या खेलने से संबंधित आवश्यक सभी चीजों को लेकर चलने का आरामदायक तरीका भी हो सकता है।

लेकिन गलत तरीके से बैकपैक पहनना, या बहुत अधिक भारी, बैकपैक  ले जाने से रीढ़ पर हानिकारक प्रभाव पड़ सकता है। गलत बैकपैक का उपयोग पीठ दर्द, गर्दन में दर्द, खराब पोश्चर और स्लिप डिस्क आदि का कारण बन सकता है।

pain

क्षमता अनुसार सामान रखें

अपनी जरूरत या बच्चे की जरूरत के मुताबिक एक अच्छा बैकपैक चुनें और उसमें क्षमता से अधिक भार न डालें। आप को बैग खरीदते समय यह ध्यान रखना है कि वह आप की पीठ के लिए बहुत आरामदायक हो और उससे आप के शरीर के किसी भी हिस्से को कोई तकलीफ न पहुंचे। साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि आपके या बच्चे का बैग पीठ से ज्यादा बड़ा न हो। यह वरना अन चाहा भार बन सकता है। जिस की वजह से पीठ या रीढ़ में प्रेशर या दर्द  होने लगेगा।

बैग को उठाने का तरीका

आप को अपना बैग अपनी पीठ पर लेते समय बहुत सावधानी बरतनी होगी। अपने बैग को अच्छे से उठाएं ताकि बैग उठाते समय आप की रीढ़ की हड्डी न मुड़े और उस में किसी तरह की तकलीफ न हो। बैग उठाते समय आप को अपने दोनों हाथों का प्रयोग करना चाहिए और बिल्कुल सीधे खड़े रहें। यदि आप इस प्रकार की सावधानियां बरत कर अपने बैग को उठाते हैं तो आप को रीढ़ को किसी तरह की भी तकलीफ नहीं पहुंचेगी।

इसे भी पढ़ेंः कैसे आप एक डायरी की मदद से कमर दर्द से राहत पा सकते हैं, जानें डेयरी से राहत पाने का आसान तरीका

spinal

दोनों कंधों पर बैग उठाएं 

हम कई बार अपने बैग को एक ही कंधे पर उठाने की गलती करते हैं, यह गलती हमें नहीं करनी चाहिए। आप के बैग का भार आप के दोनों कंधो पर आना चाहिए। ध्यान रखें कि आप के बैग का निचला हिस्सा आपके कूल्हों के ठीक उपर हो, इधर उधर न हो। एक कंधे पर बैग उठाने से आप के कंधे एक ओर झुकेंगे। 

तब उनमें दर्द की समस्या हो सकती है। यदि आप एक कंधे पर बैग उठाते हैं तो आप की बाजुओं में भी एक दवाब बनने लगता है। तब आप या बच्चे दर्द की शिकायत करते हैं और हाथ से पूरी तरह काम नहीं कर पाते। अतः दोनों कंधों पर एक सा भार हो।

इसे भी पढ़ेंः बैठे-बैठे अकड़ गई कमर या गर्दन? मलाइका अरोड़ा से सीखे चंद मिनटों में इसे दूर करने का आसन, मिलेंगे ये फायदे भी

बैग की तनियां ढीली न हों 

कई बार हम अपने बैग की तनियों (streps) को इतना ढीला कर लेते हैं कि वह हमारी कमर से नीचे लटकने लगता है। खासकर स्कूली बच्चों में तो ऐसा अक्सर देखा जाता है। आप को अपने बैग की स्ट्रैप को थोड़ा कस कर रखना चाहिए। ताकि वह ज्यादा नीचे तक न जाए। 

ज्यादा नीचे तक जाने पर यह आप की गर्दन व पीठ पर बिना काम का एक प्रेशर बनता है जो आप के लिए बिल्कुल भी ठीक नहीं है। अतः अपने बैग को न ज्यादा ढीला रखें और न ही ज्यादा कसा हुआ बैग को एक साधारण आकार में लें ताकि आप के कंधों, गरदन व पीठ में किसी तरह की परेशानी न हो।

Read More Article On Miscellenous In Hindi

Disclaimer