रेडिएशन थेरेपी से पहले एंटीबायोटिक लेना हो सकता है कैंसर से लड़ने में मददगार, शोध में हुआ खुलासा

Latest Health News: हाल में हुए शोध में खुलासा हुुुुआ कि रेडिएशन थेरेपी से पहले एंटीबायोटिक्‍स लेने से शरीर को कैंसर से लड़ने में मदद मिलती है।  

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtUpdated at: Dec 11, 2019 08:59 IST
रेडिएशन थेरेपी से पहले एंटीबायोटिक लेना हो सकता है कैंसर से लड़ने में मददगार, शोध में हुआ खुलासा

एंटीबायोटिक दवाओं को दवाओं के रूप में जाना जाता है, जो बैक्टीरिया के विकास को नष्ट या धीमा कर देते हैं। एंटीबायोटिक्स के सेवन से इंसान के स्वास्थ्य पर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों तरह के प्रभाव पड़ सकते हैं। लेकिन हाल में हुए एक अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ कि रेडिएशन थेरेपी से पहले सामान्य एंटीबायोटिक्स लेने से शरीर को कैंसर से लड़ने में मदद मिल सकती है।

जर्नल ऑफ क्लिनिकल इन्वेस्टिगेशन में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, एंटीबायोटिक्स कैंसर से लड़ने में मददगार हो सकती हैं। यह अध्ययन चूहों पर किया गया, जिसमें किअध्ययन में पाया गया कि आम एंटीबायोटिक्स की एक खुराक देने से न केवल इम्युन सेल्स यानि प्रतिरक्षा कोशिकाओं को ट्यूमर को मारने में मदद मिलती है, जो सीधे रेडिएशन के साथ इलाज में मदद करती है और कैंसर कोशिकाओं को भी नष्ट करने में सहायता मिलती है।

Giving Antibiotics help Fight With Cancer

खतरनक ट्यूमर वाले सभी रोगियों में से आधे से अधिक अपने उपचार के दौरान रेडिएशन थेरेपी से गुजरते हैं। हाल के वर्षों में, कई अध्ययनों से पता चला है कि रोगियों को उपचार के दौरान रेडिएशन के हाई डोज दिये जाते है, जिसे हाइपो-कैलिब्रेटेड रेडियोथेरेपी कहा जाता है। यह रोगियों में एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया खराब कर सकता है।

इसके अलावा, हाइपो-कैलिब्रेटेड खुराक में शरीर के अन्य ट्यूमर कोशिकाओं को प्रभावित करने की क्षमता होती है, जो सीधे रेडिएशन थेरेपी के साथ नहीं किया जाता।

इसे भी पढें: अब बिना सर्जरी के ठीक हो सकेगी मांसपेशियों की गहरी चोट, टेंडन स्टेम सेल्स से हीलिंग में मिलेगी मदद

एंड्रिया फेससिबेने अध्ययन के वरिष्ठ लेखक कहते हैं, "हमारा अध्ययन बताता है कि वैनकोमाइसिन हाइपो-कैलिब्रेटेड रेडिएशन की प्रभावशीलता को लक्षित ट्यूमर साइट पर ही बढ़ाता है, साथ ही यह एब्सकॉल प्रभाव का समर्थन करता है, जो कि प्रतिरक्षा प्रणाली को उपचार स्थल से दूर ट्यूमर से लड़ने में मदद करता है। जिससे प्रतिरक्षा प्रणाली को उपचार स्थल से दूर ट्यूमर से लड़ने में मदद मिलती है। कि वैनकोमाइसिन हाइपो-अंशित विकिर की प्रभावशीलता को लक्षित ट्यूमर साइट पर खुद को बढ़ावा देने के लिए लगता है, जबकि एब्सकॉल प्रभाव भी सहायता करता है, जिससे प्रतिरक्षा प्रणाली को ट्यूमर से लड़ने में मदद मिलती है। "

इस अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने वैनकोमाइसिन को विशेष रूप से डेंड्राइटिक कोशिकाओं के कार्य में सुधार पाया है, जो कि मैसेंजर कोशिकाएं हैं, जो टी-कोशिकाओं पर निर्भर करती है, क्या और कहां अटैक करना है।

Radiation Therapy

जबकि शोधकर्ताओं ने इस काम के लिए मेलेनोमा, फेफड़े, और सर्वाइकल कैंसर मॉडल का इस्तेमाल किया, वे ध्यान देते हैं कि कैंसर के विभिन्न प्रकारों के लिए ये निहितार्थ हो सकते हैं। यह अध्ययन टीम के पिछले शोध का भी निर्माण करता है, जिसने टी-सेल उपचारों में एक समान प्रभाव दिखाया है।

इसे भी पढें: रोजाना 14 घंटे तक भूखे रहकर डायबिटीज, मोटापे, हार्ट के रोगों से बचा जा सकता है, शोध में हुआ खुलासा

लेकिन फैसीबेन कहते हैं, "यह स्पष्ट है कि एंटीबायोटिक्स एक भूमिका निभाते हैं और कैंसर के रोगियों के लिए उपचार और परिणामों को संभावित रूप से प्रभावित कर सकती हैं," हालांकि शोधकर्ता क्लिनिक में इस दृष्टिकोण के अनुवाद करने के लिए एक चरण में एक अध्ययन की योजना बना रहे हैं।

Read More Article On Health News In Hindi

 
Disclaimer