वैरिकोज वेन्स (उभरी नीली नसें) नजर आने पर करें ये आयुर्वेदिक इलाज

Varicose Veins Ayurvedic Treatment in Hindi: वैरिकोज नसों से जुड़ी समस्या है। इसमें नसें फैली और उभरी नजर आती हैं। वैरिकोज वेन्स का आयुर्वेदिक इलाज

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Sep 14, 2022Updated at: Sep 14, 2022
वैरिकोज वेन्स (उभरी नीली नसें) नजर आने पर करें ये आयुर्वेदिक इलाज

Varicose Veins Ayurvedic Treatment in Hindi: वैरिकोज वेन्स या वैरिकोज नसें आजकल एक सामान्य समस्या बन गई है। वैरिकोज वेन्स काफी दर्दनाक और दिनचर्या को प्रभावित करने वाली समस्या हो सकती है। दरअसल, हमारे नसों में वॉल्व होते हैं, जो ब्लड को हृदय तक ले जाने का काम करते हैं। जब वॉल्व कमजोर हो जाते हैं तो ठीक से काम नहीं कर पाते हैं। इस स्थिति में रक्त का प्रवाह सही तरीके से नहीं हो पाता है और खून एक ही जगह पर जमा हो जाता है। जिस जगह पर रक्त जम जाता है, वहां पर नसें फूल जाती हैं और उभरी हुई नजर आती हैं। इसी स्थिति को वैरिकोज वेन्स के रूप में जाना जाता है। 

इसमें नसों में रक्त जम जाता है और नसें उभरी और नीली दिखाई देती हैं। वैरिकोज वेन्स में नसों में दर्द, सूजन और जलन महसूस हो सकती है। ऐसे में सभी लोग इसका जल्दी-से-जल्दी इलाज करना चाहते हैं। वैसे तो वैरिकोज वेन्स का इलाज डॉक्टर सर्जरी और दवाइयों के माध्यम से करते हैं। लेकिन आप चाहें तो कुछ आयुर्वेदिक उपायों की मदद से भी वैरिकोज वेन्स का इलाज (Vericose Veins ka ilaj) संभव हो सकता है। आइए, वैरिकोज वेन्स का आयुर्वेदिक इलाज (Varicose Veins Ayurvedic Treatment in Hindi) के बारे में जानें-

castor oil for vericose veins

वैरिकोज वेन्स का आयुर्वेदिक इलाज-Varicose Veins Ayurvedic Treatment in Hindi

कैस्टर ऑयल

कैस्टर ऑयल वैरिकोज वेन्स का इलाज करने में असरदार साबित हो सकता है। इसके लिए आप अपने वैरिकोज वेन्स पर कैस्टर ऑयल से मालिश कर सकते हैं। कैस्टर ऑयल सूजन को कम करने में मदद कर सकता है। साथ ही रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है और थक्कों को आराम देने का काम करता है। इस तेल से आप शरीर की 5-10 मिनट तक मसाज कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- वैरिकोज वेन्स (उभरी नीली नसों) को ठीक करने के लिए घरेलू उपचार, जानें डॉक्टर से

मंजिष्ठा

मंजिष्ठा एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है। इसका उपयोग वैरिकोज नसों को ठीक करने के लिए दवा के रूप में किया जाता है। मंजिष्ठा में हाई एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो पैरों की सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं और वैरिकोज वेन्स की स्थिति में सुधार कर सकता है। मंजिष्ठा नसों में रक्त से विषाक्त को हटाता है और ब्लड सर्कुलेशन में सुधार करता है। मंजिष्ठा नैचुरल होता है, इसलिए इसका कोई नुकसान भी नहीं होता है। यह डैमेज नसों और रक्त वाहिकाओं को भी ठीक करता है। आप मार्केट से मंजिष्ठा ले सकते हैं या फिर इसे खुद से बना सकते हैं। 

ऑलिव ऑयल

ऑलिव ऑयल यानी जैतून का तेल वैरिकोज वेन्स का इलाज करने में रामबाण हो सकता है। जैतून के तेल में कई ऐसे गुण पाए जाते हैं, तो नसों में रक्त प्रवाह को बढ़ाने में मदद करते हैं। ऐसे में जब रक्त प्रवाह सही रहता है, तो पैरों में जमा खून ऊपर की तरफ फ्लो करने लगता है। इससे नसों में जमा खून पूरे शरीर में प्रवाहित होने लगता है। इसके बाद उभरी या मोटी नीली नसें धीरे-धीरे अपने आकार में आने लगती हैं। जैतून का तेल वैरिकोन्ज वेन्स की वजह से होने वाली जलन और दर्द को भी कम कर सकता है। इसके लिए आप ऑलिव ऑयल लें और इसमें विटामिन ई का ते मिलाएं। अब इस तेल को हल्का गर्म कर लें। इसके बाद इस तेल से पैरों और वैरिकोज वेन्स की मालिश करें। इससे आपको काफी फर्क देखने को मिलेगा।

इसे भी पढ़ें- Exercises for Varicose Veins: वैरिकोज वेन्स (नीली नसें) में कौन सी एक्सरसाइज करनी चाहिए?

garlic for vericose veins

लहसुन

लहसुन का उपयोग अधिकतर भारतीय घरों में किया जाता है। यह खाने का स्वाद और पोषक तत्व बढ़ाने का काम करता है। इसके साथ ही वैरिकोज वेन्स की समस्या को ठीक करने के लिए भी लहसुन का इस्तेमाल किया जा सकता है। दरअसल, लहसुन में कई ऐसे गुण पाए जाते हैं, जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करते हैं। साथ ही ब्लड सर्कुलेशन को भी बेहतर बनाते हैं। इसके लिए आप लहसुन की कुछ कलियों को कूटकर तेल में गर्म कर लें। इसके बाद इस तेल से वैरिकोज वेन्स की हल्के हाथों से मालिश करें। रोजाना लहसुन के तेल से वैरिकोज वेन्स की मालिश करने से दर्द और सूजन में कमी देखने को मिलेगी।

Vericose Veins ka Ayurvedic Ilaj: अगर आपको वैरिकोज वेन्स की समस्या है, तो आप कैस्टर ऑयल, मंजिष्ठा, ऑलिव ऑयल और लहसुन जैसे आयुर्वेदिक उपायों का उपयोग कर सकते हैं। ये आयुर्वेदिक उपाय वैरिकोज वेन्स के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं।

Disclaimer