क्या अपनी बात मनवाने के लिए इमोशनल ब्लैकमेल करता है आपका बच्चा? पेरेंट्स ऐसे सुधारें उसकी ये आदत

अगर आपका बच्चा अपनी बात मनवाने के लिए आपको ब्लैकमेल करता है तो उसकी ये आदत खतरनाक हो सकती है, जानें इस आदत को सुधारने के टिप्स।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Mar 30, 2022Updated at: Mar 30, 2022
क्या अपनी बात मनवाने के लिए इमोशनल ब्लैकमेल करता है आपका बच्चा? पेरेंट्स ऐसे सुधारें उसकी ये आदत

बचपन में हर बच्चा अपनी बात मनवाने के लिए नखरे करता है। छोटी उम्र में माता-पिता के सामने बच्चे अपनी बात मनवाने के लिए रोना-धोना भी शुरू कर देते हैं। लेकिन समय के साथ-साथ बच्चों की ये आदत अपने आप ही दूर हो जाती है। हर छोटी चीज पर नखरे दिखाने वाले बच्चों में ये आदत आगे चलकर काफी गंभीर हो सकती है। इसलिए माता-पिता को बचपन से ही बच्चों में इस आदत को दूर करने के प्रयास जरूर करने चाहिए। कई बच्चों में देखा गया है की उनकी हर बात पर माता-पिता को ब्लैकमेल करने की आदत होती है। बच्चे अपनी बात मनवाने के लिए पेरेंट्स को किसी भी हद तक ब्लैकमेल कर सकते हैं। ऐसे बच्चे अपनी बात मनवाने के लिए या अपनी जिद पूरी करने के लिए माता-पिता या परेंट्स के सामने रो सकते हैं या किसी अन्य बात के सहारे वो आपको ब्लैकमेल कर सकते हैं। बच्चों द्वारा अपनी बात को मनवाने के इस तरीके को मैनिपुलेशन कहा जाता है और इस स्थिति में बच्चे अपनी बात मनवाने के लिए आपसे झूठ भी बोल सकते हैं। इमोशनल ब्लैकमेल करने वाले बच्चों को सुधारने के लिए माता-पिता को ये टिप्स अपनाने चाहिए।

ब्लैकमेल करने वाले बच्चों की आदत सुधारने के टिप्स (Tips To Handle Manipulative Child in Hindi)

सामान्य तौर पर 1 से 5 के बच्चों में जिद करने और अपनी बात मनवाने की आदत होती ही है। लेकिन अगर 5 साल के बाद भी आपका बच्चा हर बात पर जिद करता है या अपनी बात मनवाने के लिए आपको इमोशनल ब्लैकमेल करता है तो आपको इसपर ध्यान जरूर देना चाहिए। ऐसी आदतें आगे चलकर बच्चे के लिए ठीक नहीं मानी जाती हैं। हर बात मनवाने के लिए अगर आपका बच्चा ब्लैकमेलिंग का सहारा लेता है तो उसकी ये आदत सुधारने के लिए आप इन टिप्स को अपना सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : बच्चों के लिए गुड मैनर्स: ऐसे सुधारें बच्चों के खाने-पीने की आदत, सिखाएं ये 7 बातें

Tips-To-Handle-Manipulative-Child

1. बच्चे के लिए नियम जरूर तय करें

ऐसे बच्चे जो हर बात को मनवाने के लिए पेरेंट्स को ब्लैकमेल करते रहते हैं या आपसे झूठ बोलते हैं उनकी इस आदत को सुधारने के लिए आपको बच्चे के लिए कुछ नियम और निर्देश जरूर बनाने चाहिए। हालांकि इस दौरान आपको ये ध्यान जरूर रखना चाहिए कि ये नियम बच्चे पर नकारात्मक प्रभाव न डालें। घर में बच्चे को अनुशासित करने के लिए नियम बहुत ज्यादा स्ट्रिक्ट नहीं होने चाहिए। आप बच्चे की ब्लैकमेल करने की आदत सुधारने के लिए ऐसे नियम बनाएं जिनका पालन आसानी से हो सके। घर में अपने बच्चे को नियम पालन करने के लिए प्रेरित करने का सबसे सही तरीका ये है की घर के सभी मेंबर नियम का पालन करें।

2. बच्चे के रोल मॉडल बनें

बच्चे ज्यादातर आदतें अपने माता-पिता से ही सीखते हैं। अगर आपका व्यवहार घर में ठीक नहीं है तो इसका सीधा असर आपके बच्चे पर पड़ता है। आप खुद की आदतों को सुधारकर बच्चे को प्रेरणा दे सकते हैं। बच्चों का रोल मॉडल बनने से आपका बच्चा भी आपकी आदतों को अडॉप्ट करेगा। बच्चों की ब्लैकमेल करने की आदत को दूर करने के लिए आपको जल्दबाजी में गलत कदम नहीं उठाने चाहिए।

इसे भी पढ़ें : अपने 7 साल तक के बच्चों को जरूर सिखाएं ये 7 सोशल स्किल्स, व्यक्तित्व का होगा विकास

3. बच्चे के लिए लक्ष्य तय करें

बच्चों की ब्लैकमेल करने की आदत को दूर करने के लिए आपको बच्चे के लिए लक्ष्य तय करना चाहिए। अगर आपका बच्चा अपनी जिद पूरा करवाने के लिए अगर आपको मैनिपुलेट कर रहा है तो उसके लिए कोई गोल सेट करें। मान लीजिये बच्चा किसी खिलौने या गेम के लिए जिद कर रहा है तो उसके लिए एक हफ्ते का कोई लक्ष्य तय करें और उसे पूरा करने के बाद ही उसकी मांग को पूरा करें।

4.  बच्चों को समय दें

ऐसे माता-पिता जो अपने बच्चे को पर्याप्त समय नहीं देते हैं उनमें ऐसी आदतों का खतरा ज्यादा रहता है। इसलिए बच्चों में ब्लैकमेल करने की आदत को दूर करने के लिए बच्चों को समय दें। उनकी बातों और जरूरतों को समझने का प्रयास करें। ऐसा करने से आपके और बच्चे के बीच में अच्छी बॉन्डिंग होगी और बच्चे की ब्लैकमेल करने की आदत दूर होगी।

5. बच्चों के साथ एक्टिविटीज करें

बच्चों के साथ अपने रिश्ते मजबूत करने के लिए समय-समय पर उनके साथ एक्टिविटीज जरूर करें। बच्चों को वीकएंड पर छोटे-छोटे कामों में शामिल करें। परिवार के साथ मजेदार एक्टिविटीज करने से बच्चे खुश होंगे और अपनी बात मनवाने के लिए आपको ब्लैकमेल करने की आदत नहीं अडॉप्ट करेंगे।

इसे भी पढ़ें : लड़कियों की परवरिश में इंडियन पेरेंट्स अक्सर कर बैठते हैं ये 5 गलतियां, जाने इनके बारे में

बच्चों की परवरिश के दौरान आपको ऊपर बताई गयी बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए। बच्चों को समय देने और उनकी जरूरतों के बारे में उनसे बात करने से आपका बच्चा ब्लैकमेल करने की आदत छोड़ सकता है।

(All Image Source - Freepik.com)

Disclaimer