केसर के दूध (Kesar Milk) के 9 फायदे और 3 नुकसान

केसर का दूध सेहत के लिए बेहद उपयोगी है। लेकिन दूध में केसर की अधिकता सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकती है। जानें केसर के दूध के फायदे और नुकसान

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Jun 09, 2021
केसर के दूध (Kesar Milk) के 9 फायदे और 3 नुकसान

अक्सर आपने देखा होगा कि किसी मिठाई या स्वादिष्ट पकवान की साज सज्जा में हम केसर का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन क्या केवल केसर साज सज्जा के लिए ही प्रयोग किया जाता है? नहीं, केसर के अंदर कई महत्वपूर्ण पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं जो सेहत को तंदुरुस्त बना सकते हैं। बता दें कि केसर पोटेशियम, कैल्शियम, आयरन, विटामिन सी, विटामिन ए, एंटीऑक्सीडेंट आदि तत्वों से भरपूर है। हालांकि इसकी तासीर गर्म होती है परंतु ऐसा नहीं कि इसका इस्तेमाल गर्मी में नहीं कर सकते। लेकिन हां, इसका ज्यादा इस्तेमाल चाहे गर्मियों में हो या सर्दियों में, शरीर में कई समस्याओं को पैदा भी कर सकता है। ऐसे में एक्सपर्ट केसर का सेवन दूध (Saffron milk/kesar milk) के साथ करने की सलाह देते हैं। अगर दूध के साथ केसर का प्रयोग करते हैं तो सेहत को दोगुना फायदा होता है। आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि अगर केसर का प्रयोग दूध के साथ किया जाए तो यह सेहत को किस प्रकार से फायदा (Saffron milk or kesar milk benefits) पहुंचा सकता है? घर में केसर का दूध कैसे बना सकते हैं? इसके अधिक सेवन से सेहत को क्या नुकसान हो (Saffron milk or kesar milk side effects) सकते हैं? इन सभी सवालों के जवाब आपको आगे दिए जा रहे हैं। इसके लिए हमने आयुर्वेद संजीवनी हर्बल क्लिनिक शकरपुर, लक्ष्मी नगर के आयुर्वेदाचार्य डॉ एम मुफिक (Ayurvedacharya Dr. M Mufik) से भी बात की है। पढ़ते हैं आगे...

केसर का दूध कैसे बनाएं

  • घर पर केसर का दूध बनाने के लिए आपके पास चीनी, दूध और केसर का होना जरूरी है।
  • आप सबसे पहले दूध को छानकर गैस पर उबालने के लिए चढ़ा दें।
  • जब दूध अच्छे से उबल जाए तो उसमें चीनी और सात से आठ केसर के रेशे को मिलाएं। 
  • आप चाहे तो केसर के साथ कुछ ड्राई फ्रूट्स जैसे काजू, बदाम, किशमिश, चिरौंजी, इलायची आदि का इस्तेमाल कर सकते हैं।

नोट - हमने पहले भी बताया कि केसर की तासीर गर्म होती है ऐसे में ड्राई फ्रूट की अधिकता दूध में न करें। ऐसे में पहले केसर की सीमित मात्रा का ज्ञान होना जरूरी है। इसके अलावा जो लोग चीनी का सेवन नहीं करते हैं वह केवल केसर दूध या केसर दूध और गुड़ को मिलाकर सेवन कर सकते हैं। लेकिन इससे पहले गुड़ और केसर की सीमित मात्रा का पता होना जरूरी है।

इसे भी पढ़ें- Saffron Health Benefits: कैंसर, हार्ट अटैक और कमजोर आंखों से बचाता है केसर, जानें सेवन के 6 बड़े फायदे

केसर की चाय कैसे बनाएं

  • इसके अलावा आप केसर के दूध की चाय भी बना सकते हैं। 
  • इसके लिए सबसे पहले एक कप पानी में थोड़ा सा केसर मिलाएं।
  • अब उसे उबालें।
  • उबालने के बाद उसमें शहद मिलाएं। 
  • दूध विकल्प के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। आप चाहे तो दूध मिला सकते हैं और बिना दूध मिलाएं भी इस चाय का सेवन कर सकते हैं। आमतौर पर केसर के 4 से 5 रेशे का प्रयोग आप इस चाय में कर सकते हैं।

केसर के दूध से होने वाले फायदे (benefits of Kesar Milk)

1 - प्रेगनेंसी में फायदेमंद (Kesar milk for pregnancy)

अक्सर आपने देखा होगा कि गर्भवती महिलाओं के पेट में सूजन की समस्या या गैस बनने की समस्या नजर आती है, ऐसे में केसर का दूध इस समस्या को दूर करने में फायदेमंद है। इसके अलावा जिन महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान मूड स्विंग होता है या वे मूड स्विंग के कारण चिंता और डिप्रेशन का शिकार हो जाती हैं तो वे भी केसर के दूध से अपनी समस्या को दूर कर सकती हैं। केसर का दूध न केवल पाचन तंत्र को ठीक रखता है बल्कि अनिद्रा की समस्या को भी दूर करता है। लेकिन सबसे पहले केसर की सीमित मात्रा की जानकारी लें। एक्सपर्ट के अनुसार, केसर दूध को बनाते वक्त केवल दो या तीन केसर रेशे की प्रयोग किए जाने चाहिए।

2 - स्मरण शक्ति को सुधारे (Kesar milk for memory)

हमारे ब्रेन में amyloid beta (एमिलॉइड बीटा) बनने लगता है, जिसके कारण अल्जाइमर, स्मरण शक्ति से संबंधित समस्याएं आदि हो सकती हैं। बता दें कि केसर का दूध इस समस्या को रोकने में मददगार है। यह न केवल स्मरण शक्ति की समस्या को दूर करता है बल्कि सोचने, समझने, सीखने और याद करने की क्षमता को भी बढ़ाने में सहायक है। इसके लिए नियमित रूप से केसर की दूध का सेवन किया जाना जरूरी है। हालांकि जो लोग केसर का दूध नहीं पी सकते वह केसर की चाय का सेवन भी कर सकते हैं। केसर बढ़ती उम्र के साथ होने वाले अल्जाइमर रोग जैसे मानसिक विकारों को रोक सकता है।

इसे भी पढ़ें- केसर का पानी पीने से दूर हो जाते हैं ये 10 गंभीर रोग, महिला और पुरुष दोनों के लिए है फायदेमंद

3 - मासिक धर्म के दौरान केसर का दूध (Kesar milk for menstrual cramps)

जो महिलाएं प्री मेंस्ट्रूअल सिंड्रोम यानी पीएमएस (Pre Menstrual Syndrome - PMS)की समस्या से परेशान रहती हैं उन्हें बता दें कि इसके लक्षणों को कम करने के लिए वे केसर के दूध का उपयोग कर सकती हैं। यह नसों की सूजन, पेट में ऐंठन, मूड स्विंग की समस्या, थकान, सुस्ती, मुंहासे आदि को दूर कर सकता है। इसके अलावा मासिक धर्म के दौरान जो महिलाएं पेट दर्द, ज्यादा ब्लीडिंग आदि समस्याओं से परेशान रहती हैं वह भी केसर के दूध की चाय पी कर इस समस्या को दूर कर सकते हैं। हालांकि इसका सेवन करने से पहले महिलाओं को डॉक्टर से संपर्क करना जरूरी है ताकि वे इसकी सीमित मात्रा का पता लगा सकें।

4 - दिल की सेहत के लिए केसर का दूध (Kesar milk good for heart)

जो लोग नियमित रूप से केसर के दूध का सेवन करता है उनके शरीर में हानिकारक कोलेस्ट्रोल का स्तर कम होता है और रक्त धमनियों को जरूरी पोषण मिलता है। यह हृदय रोग को ठीक करने में भी फायदेमंद है। बता दें कि केसर के अंदर एक ऐसा केमिकल होता है जो रक्त प्रभाव को बढ़ा सकता है। साथ ही रक्तचाप को नियंत्रित भी कर सकता है। हालांकि केसर के दूध में केसर की मात्रा की जानकारी लेने के लिए सबसे पहले दिल के रोगी डॉक्टर की सलाह जरूर लें उसके बाद ही अपनी डाइट में केसर के दूध को जोड़ें।

5 - पाचन प्रणाली के लिए केसर का दूध (Kesar milk for digestive system)

केसर के दूध के सेवन से एसिडिटी, पेट में गैस, पेट में दर्द, पेट की सूजन आदि पाचन संबंधित समस्याएं दूर हो सकती हैं। ऐसे में केसर का दूध या केसर के दूध से बनी चाय नियमित रूप से सुबह के समय सेवन करें। ऐसा करने से पाचन तंत्र मजबूत हो सकता है। इसके अलावा जो लोग कब्ज और अपच की समस्या से ग्रस्त हैं या पेट में किसी प्रकार की जलन रहती है तो वे भी अपनी इस समस्या को दूर करने के लिए केसर के दूध कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- सेहत बनाने के लिए बाजार से खरीदी केसर कहीं नकली तो नहीं? इन 3 तरीकों से पता लगाएं केसर असली है या नकली

कुछ अन्य फायदे (Other Benefits of Kesar milk)

6 - केसर का दूध पीने से इम्युनिटी बढ़ती है। ऐसे में व्यक्ति न केवल सर्दी खांसी से दूर रहता है बल्कि वे किसी भी प्रकार के संक्रमण से बचा रह सकता है।

7 - केसर के दूध के उपयोग से थकानस सुस्ती और कमजोरी दूर हो सकती है।

8 - केसर का दूध प्रोटीन और कैल्शियम से भरपूर होता है ऐसे में हड्डियों को मजबूत रखता है और गठिया या हड्डियों की कमजोरी  को बढ़ने से भी रोक सकता है।

9 - केसर का दूध विषैले पदार्थों को दूर कर त्वचा को हेल्दी बनाता है। इसके अलावा केसर के दूध को पीने से चेहरे पर निखार भी आता है।

चेहरे के लिए दूध और केसर का उपयोग

बता दें कि केसर के दूध का सेवन ही नहीं बल्कि त्वचा पर इस दूध का उपयोग करने में भी बेहद फायदा होता है। ऐसे करें केसर के दूध का उपयोग-

1 - सबसे पहले केसर को दूध में भिगोएं।

2 - तकरीबन 15 से 20 मिनट बाद मिश्रण में शहद मिलाएं। 

3 - अब इसे रूई के माध्यम से चेहरे पर लगाएं। 

4 - अब इस मिश्रण को आधे घंटे के लिए ऐसे ही चेहरे पर लगा छोड़ दें।

5 - अब सादे पानी से इस मिश्रण को धो लें।

6 - अगर आप चमकदार और गोरी त्वचा पाना चाहते हैं तो रोज इस मिश्रण को अपने चेहरे पर लगाएं। एक हफ्ते में फर्क नजर आएगा। ‌

रंगत सुधारने के लिए दूध और केसर का मास्क

1 - इस मास्क को बनाने के लिए आपके पास बेसन, केसर और दूध होना जरूरी है।

2 - अब सबसे पहले दूध में केसर के रेशों के भिगोएं।

3 - थोड़ी देर बाद बेसन को मिलाएं और चेहरे पर लगाएं।

4 - अगर आपको कोई स्किन से संबंधित समस्या है तो इस पैक को लगाने से पहले एक बार एकस्पर्ट की सलाह जरूर लें।

इसे भी पढ़ें- तनाव को कम करने और पीरियड्स के दिनों में दर्द से राहत पाने में मददगार है केसर की चाय, जानें इसे बनाने का तरीका

रूखे बालों के लिए केसर दूध

1 - सबसे पहले केसर के कुछ रेशों को नारियल या तिल के तेल के साथ गर्म करें। 

2 - अब बने तेल को जड़ों में लगाएं। 

3 - रात भर इस मिश्रण को लगा रहने दें।

4 - अब अगली सुबह शैंपू कर लें। 

बालों में मजबूती लाने के लिए केसर दूध

1 - बेसन में आटा को मिस्क करें और उसमें केसर के दो रेशे मिलाएं।

2 - अब कच्चा दूध, नींबू का रस और एलोवेरा जेल मिलाएं।

3 - मिश्रण को पांच मिनट रखने के बाद बालों पर लगाएं। 

4 - उसके बाद शैंपू कर लें।

5 - ध्यान दें कि केसर के रेशों का उपयोग 2 से 3 करें।

इसे भी पढ़ें- केसर के अंदर छिपे हैं ये 9 फायदे, जानें इसके नुकसान भी

काले होंठों के लिए केसर दूध

1 - इस पैक को बनाने के लिए आपके पास चंदन, दूध और 3 केसर के रेशे होने जरूरी है। 

2 - अब सबसे पहले दूध में केसर के रेशे को भिगोएं। 

3 - लगभग 15 मिनट बाद जब केसर का रंग आ जाए तो उसमें चंदन पाउडर मिलाएं।

4 - बने पेस्ट को होंठों पर लगाएं।

5 - आप चाहें तो इस पेस्ट को चेहरे और गर्दन पर भी लगा सकते हैं।

6 - ऐसा करने से होंठों का कालापन दूर हो जाएगा। 

केसर के दूध के नुकसान (Side Effects of Kesar Milk)

दूध में केसर का उपयोग सही मात्रा में करना जरूरी है नहीं तो यह सेहत को कई समस्याओं का सामना करा सकता है। जानते हैं केसर के दूध के नुकसान-

1 - दिल के रोगी सीमित मात्रा में दूध में केसर का उपयोग करें। नहीं तो गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

2 - गर्भवती महिलाएं भी इसका सेवन करने से पहले केसर की सीमित मात्रा का ज्ञान ले लें। वरना केसरिया दूध सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है।

3 - दूध में अगर केसर की मात्रा ज्यादा हो जाए तो व्यक्ति को एलर्जी जैसे- उल्टी, मतली, भूख की कमी, सिरदर्द आदि समस्याओं को पैदा कर सकता है। इसकी अधिकता माइग्रेन और अनिद्रा की समस्या पैदा कर सकती है।

 इसे भी पढ़ें- Saffron Oil Health Benefits : बालों और त्‍वचा के साथ इन 5 स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं में फायदेमंद है केसर का तेल

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि केसर का दूध सेहत के लिए फायदेमंद हैं। लेकिन अगर दूध में केसर की मात्रा ज्यादा हो जाए तो यह सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकता है। ऐसे में सबसे पहले केसर की सीमित मात्रा की जानकारी होनी जरूरी है। गर्भवती महिलाएं और स्तनपान कराने वाली महिलाएं भी अपनी डाइट में केसर के दूध को जोड़ने से पहले एक बार एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें। अगर कोई व्यक्ति स्पेशल डाइट फॉलो कर रहा है या किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त है तो वे भी अपनी डाइट में बदलाव करने से पहले या केसर के दूध को जोड़ने से पहले एक बार एक्सपर्ट की राय जरूर लें।

ये लेख आयुर्वेद संजीवनी हर्बल क्लिनिक शकरपुर, लक्ष्मी नगर के आयुर्वेदाचार्य डॉ एम मुफिक (Ayurvedacharya Dr. M Mufik) द्वारा दिए गए इनपुट्स पर बनाया गया है।

Read More Articles on ayurveda in hindi

Disclaimer