इन 6 कारणों से नहीं बढ़ता है स्तनों का आकार (ब्रेस्ट साइज), जानें कुछ महिलाओं में क्यों होती है ये समस्या

कई लड़कियां अपने ब्रेस्ट के छोटे साइज से परेशान रहती हैं। अगर आपके ब्रेस्ट भी छोटे हैं, तो इसके पीछे के कारणों को जान लें। 

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Jul 02, 2021Updated at: Jul 02, 2021
इन 6 कारणों से नहीं बढ़ता है स्तनों का आकार (ब्रेस्ट साइज), जानें कुछ महिलाओं में क्यों होती है ये समस्या

हर लड़की एक परफेक्ट फिगर की चाहत रखती है। इसके लिए लड़कियों के ब्रेस्ट साइज का सही आकार और शेप होना बहुत जरूरी होता है। लेकिन कई लड़कियां अपने ब्रेस्ट साइज न बढ़ने की वजह से परेशान रहती हैं। अच्छे ब्रेस्ट लड़कियों, महिलाओं की बॉडी को सुडौल, सही और आकर्षक बनाने में मदद करते है।

लड़कियों में ब्रेस्ट का विकास 10 साल की उम्र से होना शुरू हो जाता है, कुछ लड़कियों में 12-13 साल की उम्र में ब्रेस्ट का विकास होना शुरू होता है। लेकिन कई ऐसी लड़कियां हैं, जिनके बढ़ी उम्र में ब्रेस्ट का आकार छोटा ही रह जाता है। इसके लिए कई कारण जिम्मेदार होते हैं। आकाश हेल्थकेयर की स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर शिल्पा घोष (Dr Shilpa Ghosh, Gynaecologist, Aakash Healthcare) से जानिए ब्रेस्ट साइज छोटे रह जाने के कारण-

healthy diet to increase breast size

1. पोषक तत्वों से भरपूर डाइट न लेना

ब्रेस्ट साइज न बढ़ने के पीछे एक सबसे अहम कारण है, डाइट में पोषक तत्वों की कमी। सही आहार और पोषक तत्वों को डाइट में शामिल न करने की वजह से कई लड़कियों के ब्रेस्ट साइज छोटे रह जाते हैं। जब शरीर को सही मात्रा में पोषक तत्व नहीं मिलते हैं, तो ब्रेस्ट का सही से विकास नहीं हो पाता है। ब्रेस्ट को विकसित करने के लिए आपको अच्छी डाइट लेना बहुत जरूरी होता है। स्वस्थ आहार के सेवन से ब्रेस्ट के आकार को बढ़ाया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें - Breastfeeding Week 2020: इस्तेमाल करें रसोई की ये 3 चीजें, ब्रेस्ट में बढ़ेगा नेचुरली दूध

2. असंतुलित हार्मान

ब्रेस्ट साइज न बढ़ने के पीछे हॉर्मोन का असंतुलित होना भी एक कारण है। स्तनों या ब्रेस्ट साइज का विकास करने के लिए एस्ट्रोजन हॉर्मोन जिम्मेदार होता है। ऐसे में शरीर में एस्ट्रोजन हॉर्मोन की कमी होने के कारण भी ब्रेस्ट साइज छोटे रह जाते हैं। कई लड़कियों में एस्ट्रोजन हॉर्मोन की कमी और टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन की अधिकता के कारण भी ब्रेस्ट साइज नहीं बढ़ पाते हैं। शरीर में एस्ट्रोजन हॉर्मोन के लेवल को बढ़ाने के लिए आपको प्रॉपर डाइट लेनी चाहिए। ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करें, जो शरीर में एस्ट्रोजन लेवल को बढ़ाने में सहायक होते हैं। एस्ट्रोजन रिच फूड्स खाने से ब्रेस्ट साइज बढ़ने लगता है। साथ ही आप एक्सरसाइज और योगासन भी करके भी अपने ब्रेस्ट को बढ़ा सकती हैं। ब्रेस्ट साइज बढ़ाने के लिए वॉल प्रेस एक्सरसाइज करना काफी फायदेमंद होता है।

3. वजन कम होना

अकसर देखने को मिलता है कि जिन लड़कियों या महिलाओं का वजन कम होता है, उनके ब्रेस्ट साइज का आकार भी छोटा होता है। इसलिए काफी हद तक आपके ब्रेस्ट साइज का आकार वजन पर भी निर्भर होता है। दुबली-पतली लड़कियों के ब्रेस्ट का साइज अकसर ही छोटे रहते हैं। अगर आप अपने स्तनों के आकार को बढ़ाना चाहती हैं, तो अपने वजन को बढ़ाना या मेंटेन करना शुरू कर दें। वजन बढ़ाकर आपके ब्रेस्ट साइज का आकार भी खुद-ब-खुद बढ़ने लगेंगे।

4. अनुवांशिक कारण

कई मामलों में ब्रेस्ट साइज का आकार बढ़ने या छोटे होने का कारण अनुवांशिक भी होता है। कुछ लड़कियों में स्तनों का आकार या ब्रेस्ट साइज छोटे रहना जेनेटिक भी हो सकता है। अगर आपकी मम्मी या परिवार के किसी सदस्य के ब्रेस्ट का साइज छोटा होता है, तो यह समस्या अगली पीढ़ी में भी देखने को मिल सकती है। इसलिए अगर आपके परिवार के सदस्यों में किसी के भी ब्रेस्ट साइज छोटे हैं, तो आपको छोटी उम्र से ही अपनी डाइट पर ध्यान देना शुरू कर देना चाहिए।

इसे भी पढ़े - Women Health: ब्रेस्‍ट को हेल्‍दी रखने के लिए महिलाओं को जरूर पता होनी चाहिए ये 10 बातें

5. ब्लड सर्कुलेशन की कमी

ब्रेस्ट की मांसपेशियों में ब्लड सर्कुलेशन की कमी होने पर भी इनका आकार नहीं बढ़ पाता है। इसके आपको अपने शरीर में रक्त के संचार या ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर रखना बहुत जरूरी होता है। ऐसे में आप ब्लड सर्कुलेशन बढ़ाने वाले किसी ऑयल से अपने स्तनों की मालिश कर सकती हैं। इसके लिए आप गोलाई में अपने स्तनों की मालिश करें। आप दिन में 10-15 मिनट स्तनों की मसाज कर सकती हैं। इससे ब्रेस्ट की मासंपेशियों में रक्त संचार बेहतर होगा और इनका आकार बढ़ेगा।

stress cause of small breast size

6. अधिक तनाव लेना

तनाव कई समस्याओं का कारण बनता है। स्तनों का आकार छोटा होने के पीछे भी तनाव एक अहम वजह हो सकती है। अकसर जो लड़कियां ज्यादा तनाव में रहती हैं, उनके ब्रेस्ट साइज सही तरीके से विकसित नहीं हो पाते हैं। अधिक तनाव, चिंता और अवसाद स्तनों के विकास में बांधा डालते हैं। इसलिए स्वस्थ रहने और अपने स्तनों का विकास करने के लिए आपको हमेशा तनावमुक्त रहना चाहिए। तनावमुक्त रहने के लिए अरामो थेरेपी एक कारगर विकल्प है।

Read More Articles on Womens Health in Hindi

Disclaimer