मॉनसून में बढ़ जाता है इन 7 बीमारियों का खतरा, जानें कैसे करें बचाव

Monsoon Diseases: मानसून में कई तरह की बीमारियां किसी भी व्यक्ति को चपेट में ले सकता है। जानें मानसून में होने वाली बीमारियों के बारे में-

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Jul 09, 2022Updated at: Jul 09, 2022
मॉनसून में बढ़ जाता है इन 7 बीमारियों का खतरा, जानें कैसे करें बचाव

Monsoon Diseases in Hindi: मानसून भले ही गर्मी से राहत दिलाता है, लेकिन अपने साथ कई बीमारियों को भी लेकर आता है। बारिश के मौसम में मच्छर जनित बीमारियों के मामले अधिक सामने आते हैं। इस दौरान अधिकतर लोगों को सर्दी, खांसी और जुकाम से परेशान होना पड़ता है। इसके साथ ही डेंगू, मलेरिया समेत कई बीमारियां होने का भी खतरा बना रहता है।

तो चलिए जानते हैं मानसून में कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती हैं-

1. डेंगू-Dengue

डेंगू मानसून के दौरान होने वाली सबसे आम बीमारी है। यह एडीज इजिप्टी मच्छर के काटने से फैलती है। इस स्थिति में आपको तेज बुखार महसूस हो सकता है। इसके साथ ही सूजी हुई लसिका ग्रंथियां, चकत्ते, सिरदर्द और शरीर में दर्द होना भी डेंगू के लक्षण होते हैं।

dengue fever

2. चिकनगुनिया-Chikungunya

चिकनगुनिया ठहरे हुए पानी में पैदा होने वाले मच्छरों के कारण होता है। ये मच्छर टैंक, कूलर, प्लांट, बर्तन और पानी के पाइप में पाए जाते हैं। मानसून में चिकनगुनिया भी एक आम बीमारी है। जोड़ों में दर्द, तेज बुखार, थकान और ठंड लगना चिकनगुनिया के लक्षणों में शामिल हैं।

3. मलेरिया-Malaria

बरसात के मौसम में मलेरिया भी बेहद सामान्य है। यह बीमारी भी मच्छर के काटने से ही फैलती है। यह एक गंभीर बीमारी हो सकती है। इस स्थिति में आपको तेज बुखार, शरीर में दर्द, ठंड लगना, पसीना आना और शरीर में खून की कमी जैसे लक्षण महसूस हो सकते हैं। ये लक्षण नजर आने पर डॉक्टर से कंसल्ट करें।

इसे भी पढ़ें- क्या एक बार ठीक हाेने के बाद दाेबारा भी हाे सकता है डेंगू बुखार? डॉक्टर से जानें बचाव टिप्स

4. टाइफाइड-Thyroid

टाइफाइड एक अत्यधिक संक्रामक मानसून संबंधी बीमारी है। यह रोग आमतौर पर दूषित भोजन खाने और पानी पीने की वजह से होता है। लंबे समय तक तेज बुखार, कमजोरी, पेट में दर्द, कब्ज, सिरदर्द और उल्टी टाइफाइड के लक्षण हैं।

5. वायरल बुखार-Viral Fever

वैसे तो वायरल फीवर किसी भी मौसम में हो सकता है। लेकिन मानसून में वायरल बुखार के मामले अधिक देखने को मिलते हैं। वायरल फीवर में बुखार, थकान, चक्कर आना, कमजोरी, ठंड लगना, मांसपेशियों में दर्द, शरीर और जोड़ों का दर्द जैसे लक्षण महसूस हो सकते हैं।

viral fever in monsoon

6. डायरिया-Diarrhea

डायरिया की समस्या भी अकसर ही मानसून में देखने को मिलती है। अधिकतर बच्चों की इस समस्या का सामना करना पड़ता है। बार-बार मल निकलना, पेट में ऐंठन, बुखार, सूजन, जी मिचलाना, मल में खून और पतला मल निकलना डायरिया के लक्षण होते हैं।

7. पेट में इंफेक्शन-Stomach Infection

पेट में संक्रमण तब होता है, जब आप अनहेल्दी चीजों का सेवन करते हैं। गैस्ट्रोएंटेराइटिस पेट का एक सामान्य संक्रमण है, जो इस मौसम में होता है। बुखार, मतली, उल्टी, पेट में ऐंठन, डायरिया और पेट में दर्द इंफेक्शन के लक्षण होते हैं। 

इसे भी पढ़ें- डेंगू में फायदेमंद हो सकता है गिलोय, जानें सेवन के तरीके

मानसून की बीमारियों से कैसे बचें?

  • मानसून की बीमारियों से बचने के लिए सबसे पहले अपनी डाइट का खास ख्याल रखें।
  • मसालेदार, अधिक तला और ऑयली खाने से परहेज करें।
  • अनहेल्दी फूड्स जैसे बर्गर, पिज्जा आदि खाने से बचें।
  • घर के बने खाने को ही महत्व दें। बाहर के खाने से पूरी तरह से परहेज करें।
  • खुद को हाइड्रेट रखें। इसके लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।
  • मानसून में अधिकतर बीमारियां मच्छरों के काटने से फैलती है। इसलिए अपने घर और उसके आस-पास सफाई करें। मच्छरों को पनपने न दें।

मानसून अपने साथ बीमारियों को लेकर आता है। इसलिए इस मौसम में अपना खास ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है। मानसून में होने वाले बुखार, डायरिया जा उल्टी जैसे लक्षणों को बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें।

Disclaimer