पीरियड्स पर कैसे असर डालता है थायराइड रोग? जानें इससे होने वाली समस्याएं और थायराइड कंट्रोल करने के 5 उपाय

अगर आपको थायराइड है और पीर‍ियड्स में गड़बड़ी चल रही है तो दोनों का आपस में कनेक्‍शन हो सकता है, आइए जानते हैं इसके बारे में

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Aug 20, 2021 12:47 IST
पीरियड्स पर कैसे असर डालता है थायराइड रोग? जानें इससे होने वाली समस्याएं और थायराइड कंट्रोल करने के 5 उपाय

थायराइड बढ़ने के कारण पीर‍ियड्स पर क्‍या असर पड़ता है? थायराइड बढ़ने पर पीर‍ियड्स में अन‍ियम‍ितता, पीर‍ियड्स के दौरान ज्‍यादा दर्द, च‍िड़च‍िड़ापन, बहुत कम या ज्‍यादा ब्‍लीड‍िंग होना, तनाव, ड‍िप्रेशन, कब्‍ज, चेहरे पर सूजन, चेहरे और पेट पर अनचाहे बाल, ज्‍यादा गर्मी लगने जैसे लक्षण सामने आ सकते हैं। थायराइड और पीर‍ियड्स दोनों पर ही हार्मोन्‍स के बदलने का असर होता है इसल‍िए इनमें समानता देखने को म‍िलती है। अगर पीर‍ियड्स से जुड़ी इन समस्‍याओं का न‍िपटारा न क‍िया जाए तो आगे चलकर इनफर्ट‍िल‍िटी की समस्‍या भी हो सकती है इसल‍िए थायराइड को कंट्रोल करना जरूरी है। इस लेख में हम थायराइड कंट्रोल करने के तरीके और इसका पीर‍ियड्स पर क्‍या असर पड़ता है इस पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के झलकारीबाई अस्‍पताल की गाइनोकॉलोजिस्‍ट डॉ दीपा शर्मा से बात की।

thyroid and periods

(image source:cloudinary.com)

थायराइड कंट्रोल करना र‍िप्रोडक्‍ट‍िव हेल्‍थ के ल‍िए जरूरी है 

गाइनोकॉलोज‍िस्‍ट डॉ दीपा शर्मा ने बताया क‍ि थायराइड ग्‍लैंड र‍िप्रोडक्‍ट‍िव ऑर्गन के ल‍िए जरूरी होती है। इससे ओवरी और हार्मोन्‍स पर सीधा असर पड़ता है। थायराइड के बढ़ने से गर्भधारण में भी परेशानी आ सकती है इसल‍िए थायराइड के दौरान पीर‍ियड्स की परेशान‍ियों को अनदेखा न करें। अगर ब्लीड‍िंग 7 द‍िनों से ज्‍यादा हो तो डॉक्‍टर को द‍िखाएं, अगर आपको हर आधे या एक घंटे में पैड बदलना पड़ रहा है तो भी आपको डॉक्‍टर को द‍िखाना चाह‍िए। अगर ब्‍लड क्‍लॉट बन रहा है तो भी डॉक्‍टर से संपर्क करें। 

इसे भी पढ़ें- पीरियड्स के दौरान चक्कर आने के पीछे हो सकते हैं ये 6 कारण, जानें इससे बचने के आसान उपाय

मह‍िलाओं में पीरियड्स पर कैसे असर डालता है थायराइड? (How thyroid affects periods)

periods problems

(image source:chandigarhayurvedcentre)

ज्‍यादा तनाव लेने से थायराइड का स्‍तर बढ़ जाता है और थायराइड बढ़ने से हार्मोन्‍स पर असर पड़ता है ज‍िसके चलते पीर‍ियड्स में गड़बड़ी जैसे हैवी ब्‍लीड‍िंग या अन‍ियम‍ित पीर‍ियड्स की समस्‍या शुरू हो जाती है। आपको तनाव दूर करने के ल‍िए मेड‍िटेशन और योगा करना चाह‍िए तभी आपके पीर‍ियड्स रेगुलर होंगे और थायराइड कंट्रोल रहेगा। डाइट में जरूरी तत्‍वों की कमी होने से भी थायराइड बढ़ता है ज‍िसका सीधा असर पीर‍ियड्स पर पड़ता है। अगर आप फ‍िज‍िकल एक्‍ट‍िव‍िटी जैसे कसरत या वॉक‍िंग नहीं करते हैं तो भी आपको थायराइड परेशान कर सकता है वहीं कुछ मह‍िलाओं को दवाओं के साइड इफेक्‍ट के चलते थायराइड स्‍तर बढ़ा हुआ नजर आता है ज‍िसके चलते पीर‍ियड्स भी अन‍ियम‍ित हो जाते हैं। कुछ मह‍िलाओं को अनुवांश‍िक कारणों के चलते ये समस्‍या होती है।

थायराइड कंट्रोल कैसे करें? (How to control thyroid)

affect of thyroid on periods

(image source:thesurgicalclinics)

थायराइड क‍ितने प्रकार के होते हैं थायराइड दो तरह के होते हैं पहला हाइपो थायराइड ज‍िसमें शरीर मोटापे का श‍िकार होता है और दूसरा ज‍िसमें शरीर सूख जाता है। दोनों ही थायराइड में अन‍ियम‍ित पीर‍ियड्स या पीर‍ियड्स से जुड़ी कोई अन्‍य समस्‍या हो सकती है। आप थायराइड को कंट्रोल रखें तो पीर‍ियड्स की समस्‍या नहीं होगी। थायराइड कंट्रोल करने के ल‍िए इन बातों का ध्‍यान रखें- 

  • आपको थायराइड कंट्रोल करना है तो तला हुआ भोजन ब‍िल्‍कुल न करें, बाहर के खाने में तेल की मात्रा ज्‍यादा होती है ज‍िससे थायराइड बढ़ जाता है इसल‍िए तेल की मात्रा कम करें। 
  • थायराइड में ज्‍यादा मीठा खाना भी नुकसानदायक होता है आप चीनी तो पूरी तरह से अवॉइड करें क्‍योंक‍ि वो र‍िफाइंड होती है, चीनी के व‍िकल्‍प आप ढूंढ सकते हैं जैसे फलों का रस या गुड़ आद‍ि।
  • थायराइड कंट्रोल करने के ल‍िए आपको ऐसी चीजों का सेवन भी नहीं करना है जो पैकेट में आता हो यानी पैक्‍ड फूड हो, इनमें सोड‍ियम की मात्रा ज्‍यादा होती है इसल‍िए पैकेज्‍ड फूड्स अवॉइड करें।
  • भारतीय घरों में हर द‍िन चाय या कॉफी का सेवन होता है पर ज्‍यादा कैफीन सेहत को नुकसान पहुंचाता है खासकर उन लोगों को ज‍िन्‍हें थायराइड है इसल‍िए कैफीन का सेवन कम करें। 
  • आपको थायराइड कंट्रोल करना है तो सोया प्रोडक्‍ट्स से भी दूर रहें, अपना डाइट चार्ट डॉक्‍टर से बनवा लें ताक‍ि आपको डाइट तय करने में द‍िक्‍कत न हो।
  • थायराइड से बचने के ल‍िए आपको कपालभात‍ि के फायदे जान लेने चाहि‍ए, इसके अलावा आप स‍िम्‍हासन, हलासन आद‍ि भी कर सकते हैं, इनसे थायराइड कंट्रोल होता है।

थायराइड कंट्रोल करने के ल‍िए क्‍या खाएं? (Diet tips to control thyroid) 

थायराइड में क्‍या खाएं? अगर आप थायराइड कंट्रोल करना चाहते हैं तो आपको आयोडीन युक्‍त चीजें, अदरक, हल्‍दी, ब्राउन ब्रेड, साबुत अनाज, ग्रीन टी, स‍िट्स फ्रूट्स, नट्स, दही, पंपक‍िन सीड्स, कैरेट, हरी मिर्च, बादाम, शहद, नींबू, ऑल‍िव ऑयल, नार‍ियल तेल आद‍ि चीजों का सेवन करना चाह‍िए। थायराइड ग्रंथ‍ि आपके मेटाबॉलिज्‍म को कंट्रोल करने का काम करती है इसल‍िए आपको मेटाबॉल‍िज्‍म को मजबूत रखने वाली डाइट लेनी है। थायराइड ग्रंथ‍ि से शरीर के कई जरूरी काम होते हैं इसल‍िए थायराइड का असर पीर‍ियड्स पर भी पड़ता है। अगर खून के थक्‍के बन रहे हैं या अन‍ियम‍ित महावारी हो तो डॉक्‍टर से तुरंत सलाह लें। देरी होने पर समस्‍या बढ़ सकती है।

इसे भी पढ़ें- क्या वजाइना से ज्यादा मात्रा में डिसचार्ज (पानी निकलना) होना सामान्य है? जानें इसके क्या कारण हो सकते हैं

थायराइड कंट्रोल करने के ल‍िए अदरक की चाय प‍िएं (Benefits of ginger tea to control thyroid)

ginger tea

(image source:selecthealth)

अदरक से कई बीमार‍ियां दूर होती हैं। थायराइड कंट्रोल करने के ल‍िए अदरक भी फायदेमंद माना जाता है। आप अदरक की चाय पी सकते हैं उससे बढ़े हुए थायराइड का स्‍तर कंट्रोल रहता है इसके अलावा आप अदरक को कच्‍चा भी चबा सकते हैं। अदरक में मौजूद तत्‍व से थायराइड कंट्रोल होता है। अदरक के अलावा आप प्‍याज का इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं। प्‍याज को दो ह‍िस्‍सों में काट लें फ‍िर रात को थायराइड ग्‍लैंड के आसपास वाले ह‍िस्‍से में मसाज करें और सुबह तक के ल‍िए छोड़ दें, सुबह ही आपको फर्क महसूस होगा, आप प्‍याज का रस भी गुनगुने पानी के साथ म‍िलाकर पी सकते हैं।

थायराइड कंट्रोल करने के ल‍िए प‍िएं हल्‍दी वाला दूध (Benefits of haldi milk to control thyroid)

haldi milk

(image source:foodfitnessnfun)

अगर आप थायराइड कंट्रोल करने के उपाय ढूंढ रहे हैं तो हल्‍दी वाला दूध प‍िएं। हल्‍दी वाला दूध पीने से थायराइड कंट्रोल रहता है। आप हल्‍दी को क‍िसी और फॉर्म में भी ले सकते हैं। हल्‍दी को भूनकर आप लड्डू बनाकर भी खा सकते हैं। थायराइड कंट्रोल करने के ल‍िए आप मुलेठी का इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं। मुलेठी के इस्‍तेमाल से थायराइड ग्रंथी कंट्रोल होता है आप मुलेठी पाउडर को शहद के साथ म‍िलाकर गुनगुने पानी के साथ ले सकते हैं। 

कई मह‍िलाएं लक्षणों का पता समय पर नहीं लगा पाती ज‍िसके कारण समस्‍या बढ़ जाती है, अगर आप समय रहते इलाज करवाएंगे तो बीमारी नहीं बढ़ेगी।

(main image source:tatahealth.com)

Read more on Women Health in Hindi 

Disclaimer