क्या वजाइना से ज्यादा मात्रा में डिसचार्ज (पानी निकलना) होना सामान्य है? जानें इसके क्या कारण हो सकते हैं

हेल्दी वेजाइनल डिस्चार्ज क्या होता है? कितनी मात्रा में वेजाइनल डिस्चार्ज को नॉर्मल और हेल्दी मान सकते हैं?

Monika Agarwal
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: Monika AgarwalPublished at: Jul 21, 2021Updated at: Jul 21, 2021
क्या वजाइना से ज्यादा मात्रा में डिसचार्ज (पानी निकलना) होना सामान्य है? जानें इसके क्या कारण हो सकते हैं

क्या आप जानती हैं कि हर महिला को रोजाना एक चम्मच वेजाइनल डिस्चार्ज (Vaginal Discharge) होना नॉर्मल माना जाता है। यह आपके प्राइवेट भाग के लिए जरूरी भी होता है। एक्सपर्ट डॉक्टर मनीषा रंजन, गायनोकोलॉजिस्ट, मदरहुड हॉस्पिटल के अनुसार ये वेजाइनल डिस्चार्ज (Vaginal Discharge)  आपकी योनि के अंदर मृत त्वचा कोशिकाओं को हटाकर वहां का pH बैलेंस संतुलित करने के लिए , साथ योनी की स्किन को अंदर से हाइड्रेटेड रखने और वेजाइना के अंदर एसिडिक रियेक्शन को कम कर, थ्रश जैसे संक्रमण को रोकने का काम करता है। यानी वेजाइनल डिस्चार्ज आपके स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। आप कह सकती हैं कि एक महिला के स्वस्थ होने के लिए वेजाइनल डिस्चार्ज (Vaginal Discharge) होना भी जरूरी है। लेकिन हर समय आपको नॉर्मल डिस्चार्ज देखने को नहीं मिलेगा। कभी न कभी आपकी जिंदगी में एक ऐसी स्थिति जरूर आती है जब आपको एब्नॉर्मल या थोड़ा अधिक मात्रा में डिस्चार्ज देखने को मिल सकता है। 

 Inside1causesofvaginaldischarge

हेल्दी वेजिनल डिस्चार्ज कैसा होता है?

इस बात को केवल आप ही तय कर सकती हैं कि यह आपके लिए हेल्दी है या नहीं। क्योंकि बहुत सी महिलाओं में वैजाइनल डिस्चार्ज अलग अलग होता है और हो सकता है जो आपकी सहेली के लिए नॉर्मल हो वह आपके लिए न हो। इसलिए अपना रोजाना का डिस्चार्ज देखें और जिस दिन आपको उसमें कोई अलग बात महसूस हो समझ जाएं कि वह अब नॉर्मल नहीं है।

28 दिनों के दौरान डिस्चार्ज में बदलाव

पहले दिन से पांचवे दिन तक 

महीने के इस समय में आपको ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं है क्योंकि इस समय आपको अधिक वेजाइनल डिस्चार्ज (Vaginal Discharge)  देखने को नहीं मिलता।

इसे भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी के लिए क्यों जरूरी है प्रोजेस्ट्रॉन हार्मोन? जानें इसे बढ़ाने के 4 नेचुरल उपाय

6वें दिन से 8वें दिन तक 

यह वह समय होता है जब आपके पीरियड्स खत्म होने वाले होते हैं और इस समय कुछ दिनों तक हो सकता है आपको बिलकुल ही डिस्चार्ज न देखने को मिले। इसलिए ऐसा होने पर चिंता न करें। जैसे जैसे आपके एस्ट्रोजन लेवल ड्रॉप होंगे और एग फॉलिकल ग्रो होगा तो आपका डिस्चार्ज दुबारा से शुरू होने लगेगा। इन दिनों में आपका वेजाइनल डिस्चार्ज (Vaginal Discharge)  सफेद, थोड़ा स्टिकी और थोड़ा थिक हो सकता है।

9वें दिन से 12वें दिन तक 

जैसे जैसे आप ओवुलेशन के करीब जाने लगेंगी वैसे वैसे ही आपके एस्ट्रोजन लेवल बढ़ने लगेगा। तब इस दौरान आपके डिस्चार्ज की कंसिस्टेंसी में भी एक बदलाव देखने को मिल सकता है। ओस्ट्रोजन हार्मोन वेजाइनल डिस्चार्ज (Vaginal Discharge)  के पतला होने का एक कारण होता है। इसलिए आपका डिस्चार्ज थोड़ा पतला हो सकता है।

13 और 14वें दिन 

इन दो दिनों आपका डिस्चार्ज एग व्हाइट जैसा क्लीयर, स्ट्रैची और थोड़ा गीला गीला हो सकता है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक इस क्लीयर और स्ट्रैची डिस्चार्ज के बिना प्रेगनेंट होना असम्भव होता है। यह वेजाइनल डिस्चार्ज (Vaginal Discharge)  स्पर्म को सर्विक्स के अंदर पहुंचाने का रास्ता आसान बनाता है।

इसे भी पढ़ें : स्तनपान (ब्रेस्टफीडिंग) कराने वाली महिलाओं को व्रत रखना चाहिए या नहीं? जानें न्यूट्रीशनिस्ट से

15वें दिन से 28वें दिन तक 

जैसे जैसे आपके प्रोजेस्ट्रॉन लेवल बढ़ने लगेंगे तो आपके डिस्चार्ज की कंसिस्टेंसी भी थोड़ी मोटी हो जायेगी। इस दौरान यह सफेद, थिक और स्पर्म अन फ्रेंडली हो जाता है। 21वे दिन से प्रोजेस्ट्रॉन लेवल सबसे अधिक होने लगते हैं और इस दौरान वेजाइनल डिस्चार्ज (Vaginal Discharge) भी सबसे अधिक मोटा यानी गाढ़ा प्रतीत होता है।

इस पूरी साइकिल के बाद अगर फर्टिलाइजेशन नहीं हुआ होता तो, यही साइकिल फिर से शुरू हो जाती है। इसके अलावा अगर आपको कुछ असामान्य दिख रहा है तो उसका कारण वेजाइनल बैक्टीरिया, एलर्जी,  कंडोम की ज्यादा अंदर पहुंच या टैंपोन आदि हो सकते हैं।

आपका वेजाइनल डिस्चार्ज (Vaginal Discharge)  महीने में किस किस प्रकार अपना रूप बदल सकता है यह अब आफ समझ गई होंगी। अगर इसके अलावा आपको अन्य किसी कारण जैसे एलर्जी, सेक्सुअल ट्रांसमिट बीमारियों या वैजाइनल इन्फेक्शन के कारण डिस्चार्ज थोड़ा बदला हुआ लगे या बिल्कुल ही असामान्य महसूस हो तो आपको डॉक्टर से राय लेनी चाहिए।

Read more articles on Women's Health in Hindi

Disclaimer