महिलाओं में होने वाली व्हाइट डिस्चार्ज (सफेद पानी) की समस्या के लिए 5 देसी घरेलू इलाज

महिलाओं में 'सफेद पानी' या ल्यूकोरिया की समस्या का कारण यीस्ट इंफेक्शन हो सकता है। इसे ठीक करने के लिए जानें 5 देसी घरेलू नुस्खे जो फायदेमंद हैं।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Sep 28, 2020Updated at: Sep 28, 2020
महिलाओं में होने वाली व्हाइट डिस्चार्ज (सफेद पानी) की समस्या के लिए 5 देसी घरेलू इलाज

महिलाओं को उम्रभर कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है क्योंकि उनके शरीर में हार्मोनल बदलाव बहुत जल्दी-जल्दी होते रहते हैं। हर महीने आने वाली माहवारी के कारण तो उन्हें परेशानी होती ही है, साथ ही योनि से होने वाले कई तरह के स्राव (वजाइनल डिस्चार्ज) भी उन्हें परेशान करते रहते हैं। ऐसी ही एक समस्या है व्हाइट डिस्चार्ज (White Discharge) या ल्यूकोरिया (Leukorrhea), जिसे आम भाषा में लोग 'सफेद पानी' की समस्या कहते हैं। महिलाओं में पीरियड साइकिल के शुरुआती दिनों और अंतिम दिनों में थोड़ा बहुत व्हाइट डिस्चार्ज होना बहुत सामान्य है और इसमें कोई परेशानी की बात नहीं है। लेकिन अगर व्हाइट डिस्चार्ज गाढ़ा हो और ज्यादा मात्रा में निकले या इसके साथ खुजली की समस्या हो, तो ये सामान्य नहीं है इसलिए इसके इलाज की जरूरत पड़ती है। इस तरह का व्हाइट डिस्चार्ज यीस्ट इंफेक्शन के कारण हो सकता है। इसलिए इसे ठीक करने के लिए आप कुछ आसान घरेलू उपायों को भी अपना सकते हैं। आइए आपको बताते हैं ऐसे 5 घरेलू नुस्खे।

vaginal discharge home remedies

धनिया बीज

धनिया में एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं और इसके बीजों का पानी बहुत फायदेमंद होता है। अगर आपको व्हाइट डिस्चार्ज की समस्या होती है, तो आप रात में 2 चम्मच धनिया के बीजों को एक ग्लास पानी में भिगोकर रख दें। सुबह इस धनिया पानी से धनिया के बीजों को छानकर अलग कर लें और पानी पी लें। धनिया पानी बेहतरीन डिटॉक्स की तरह काम करता है और पेशाब के साथ मूत्रनली के बैक्टीरिया और यीस्ट आदि को बाहर निकाल देता है, जिससे सप्ताह भर में ही आपको आराम मिल जाता है।

इसे भी पढ़ें: ल्यूकोरिया (सफेद पानी) के हो सकते हैं ये 20 कारण, महिलाओं में बढ़ जाता है इंफेक्शन का खतरा

सेब का सिरका (एप्पल साइडर विनेगर)

सेब का सिरका यानी एप्पल साइडर विनेगर बहुत सारी समस्याओं में घरेलू नुस्खे के तौर पर प्रयोग किया जाता है। एप्पल विनेगर में एंटीबैक्टीरियल, एंटी-फंगल और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं, इसलिए ये यीस्ट इंफेक्शन और बैक्टीरियल इंफेक्शन को ठीक करने में मदद करता है। बैक्टीरियल इंफेक्शन के कारण योनि से डिस्चार्ज की समस्या अक्सर गर्भवती महिलाओं को ज्यादा होती है। वजाइना से व्हाइट डिस्चार्ज होने पर एक 20 लीटर के पानी की बाल्टी में आधा कप के लगभग एप्पल साइडर विनेगर मिलाएं और इससे नहाएं, खासकर अपने योनि के हिस्से में पानी ज्यादा डालें। इससे इंफेक्शन पैदा करने वाले बैक्टीरिया और यीस्ट खत्म हो जाएंगे। इसके अलावा दिन में 1 बार 1 ग्लास पानी में 1 चम्मच एप्पल साइडर विनेगर घोलकर भी पिएं।

ध्यान दें- एप्पल साइडर विनेगर को बिना पानी में मिलाए सीधे त्वचा पर लगाना खतरनाक हो सकता है। इसलिए इसे डायल्यूट जरूर करें। गर्भवती महिलाओं को एप्पल साइडर विनेगर का सेवन नहीं करना चाहिए।

मेथी की चाय

मेथी के दाने बहुत गुणकारी होते हैं, खासकर पेट और मूत्र की समस्याओं में इन्हें बहुत फायेदमंद माना जाता है। सफेद पानी या ल्यूकोरिया की समस्या होने पर आप मेथी की चाय बनाकर पी सकते हैं, जिससे आपको जल्द ही लाभ मिल जाएगा। इसके लिए एक पैन में आधा लीटर पानी लें और इसमें 3 चम्मच मेथी के दाने डालें। अब इस पानी को धीमी आंच पर लगभग 20 मिनट तक कपाएं। जब पानी लगभग आधा रह जाए, तो इसे छानकर रख लें और थोड़ा-थोड़ा करके दिन में 2-3 बार पिएं। मेथी की ये चाय आपके वजाइनल डिस्चार्ज की समस्या को कुछ दिनों में ही पूरी तरह खत्म कर देगी।

white discharge remedies in women

आंवला और शहद

ल्यूकोरिया के देसी घरेलू नुस्खों में आंवला और शहद भी बहुत पॉपुलर तरीके हैं। गांवों में महिलाओं को जब 'सफेद पानी' की समस्या होती है, तो वे इसी देसी इलाज की मदद लेती हैं। इसके लिए आंवले को सुखाकर बनाया गया पाउडर 2 चम्मच ले और इसमें 2 चम्मच शहद मिलाकर इसको पेस्ट जैसा बनाएं। इस पेस्ट को दिन में 2-3 बार थोड़ा-थोड़ा करके खाएं। आपको बहुत जल्दी लाभ मिलेगा। ध्यान रखें कि खाना खाने के तुरंत बाद इस पेस्ट को न खाएं। खाने और पेस्ट में कम से कम 1 घंटे का गैप रखें।

इसे भी पढ़ें: पेशाब की जलन और ल्यूकोरिया जैसी कई समस्याओं को ठीक करता है गोंद, जानें प्रयोग

लहसुन का सेवन ज्यादा करें

व्हाइट डिस्चार्ज की समस्या होने पर आपको लहसुन का सेवन ज्यादा बढ़ा देना चाहिए। रिसर्च के अनुसार लहसुन कैंडिडा को मारने में बहुत हद तक सक्षम है और बेहरतरीन एंटी-बैक्टीरियल फूड है। इसलिए अपने खाने में लहसुन ज्यादा खाएं। अगर खा सकें तो दिन में 1-2 कली कच्चा लहसुन कुचलकर या छोटे-छोटे टुकड़ों में काटकर खाएं। इससे आपको जल्दी आराम मिलेगा।

Read More Articles on Home Remedies in Hindi

Disclaimer