Doctor Verified

हार्ट अटैक से मौत कैसे होती है? जानें डॉक्टर से

How Heart Attack Causes Death: हार्ट अटैक की वजह से होने वाली मौत के आंकड़े लगातार बढ़ रहे हैं, जानें हार्ट अटैक से मौत कैसे होती है?

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Aug 05, 2022Updated at: Aug 05, 2022
हार्ट अटैक से मौत कैसे होती है? जानें डॉक्टर से

How Heart Attack Causes Death: बीते कुछ सालों से हार्ट अटैक के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। हाल के कुछ महीनों में आपने कई ऐसे सलेब्स के बारे में भी सुना होगा जिनकी मौत हार्ट अटैक की वजह से हुई है। पहले हार्ट अटैक को उम्रदराज लोगों की बीमारी माना जाता था, लेकिन अब यह समस्या युवाओं में भी तेजी से देखने को मिल रही है। हार्ट अटैक के लिए असंतुलित खानपान, खराब लाइफस्टाइल और बहुत ज्यादा तनाव सबसे बड़ा कारण माना जाता है। हार्ट अटैक को मेडिकल की भाषा में मायोकार्डियल इनफार्क्शन (Myocardial Infarction) कहा जाता है। हार्ट अटैक के कारण लोगों की मौत सबसे ज्यादा हो रही है। सवाल यह उठता है कि हार्ट अटैक आने पर व्यक्ति की मौत कैसे (Heart Attack Se Maut Kaise Hoti Hai) होती है। दरअसल हार्ट अटैक आने पर हृदय की मांसपेशियों को नुकसान होता है और सही समय पर मरीज को इलाज न मिलने की वजह से स्थिति गंभीर हो जाती है। हार्ट अटैक के खतरे को कम करने के लिए डॉक्टर मरीजों को हेल्दी डाइट और लाइफस्टाइल में सुधार करने की सलाह देते हैं। हार्ट से मौत कैसे होती है, इस बारे में लोगों को जानकारी नहीं है। इस लेख में आइए जानते हैं हार्ट अटैक आने से मरीज की मौत कैसे होती है?

हार्ट अटैक से मौत कैसे होती है?- How Heart Attack Causes Death in Hindi

हार्ट अटैक दिल से जुड़ी एक गंभीर बीमारी है। मौजूदा समय में युवाओं में भी हार्ट अटैक के मामले ज्यादा देखने को मिल रहे हैं और इसकी वजह से मौत के आंकड़े भी बढ़ रहे हैं। बाबू ईश्वर शरण हॉस्पिटल के सीनियर कार्डियोलॉजिस्ट डॉ आर के यादव के मुताबिक हार्ट अटैक आने पर मरीज की मौत ब्लड क्लॉटिंग, ब्लड प्रेशर के बढ़ने से सबसे ज्यादा होती है। हार्ट अटैक आने पर नसों में ब्लड क्लॉट हो जाता है और इसकी वजह से हार्ट तक की सप्लाई सही ढंग से नहीं हो पाती है। जब हार्ट को ब्लड और ऑक्सीजन की सप्लाई सही ढंग से नहीं होती है तो मरीज की मौत हो जाती है। ज्यादातर लोगों में हार्ट अटैक अचानक आता है या साइलेंट हार्ट अटैक की समस्या होती है, साइलेंट हार्ट अटैक आने पर मरीज को पहले हल्के या न के बराबर लक्षण दिखते हैं। इसके अलावा यूरोपियन हार्ट जर्नल-क्वालिटी ऑफ केयर एंड क्लीनिकल आउटकम्स में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल और खराब डाइट का सेवन करने वाले लोगों में हार्ट अटैक आने से मौत का खतरा ज्यादा रहता है। इसके अलावा हार्ट अटैक में मौत का सबसे प्रमुख कारण एरिथमिया (Arrhythmia in Hindi) है, इस समस्या में आपके दिल की धड़कन अनियंत्रित हो जाती है।

How Heart Attack Causes Death

इसे भी पढ़ें: हार्ट अटैक क्यों और कैसे आता है? समझें दिल की ये समस्या कैसे ले लेती है इंसान की जान

क्यों बढ़ रहे हैं हार्ट अटैक के मामले?-  Why Heart Attack Became Common?

एक आंकड़े के मुताबिक शहरी इलाके के लोगों में हार्ट अटैक के मामले ज्यादा देखे जा रहे हैं। पहले शहरी इलाके के लोगों में हार्ट अटैक के मामले 2-3 प्रतिशत देखने को मिलते थे, ये मामले अब बढ़कर 6 फीसदी हो गए हैं। हार्ट अटैक की समस्या बढ़ने के पीछे अनियंत्रित जीवनशैली, खराब डाइट और स्ट्रेस है। हार्ट अटैक के कुछ प्रमुख कारण (Heart Attack Causes in Hindi) इस प्रकार से हैं-

खराब लाइफस्टाइल और डाइट- खराब डाइट और लाइफस्टाइल हार्ट अटैक के लिए बड़ा कारण है। शहरी इलाके में रहने वाले लोगों में हार्ट अटैक के मामले बढ़ने की वजह से भागदौड़ भरी जीवनशैली और असंतुलित डाइट है। फास्ट फूड्स के सेवन का चलन, मिलावटी भोजन और भागदौड़ भरी जीवनशैली की वजह से दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा ज्यादा रहता है।

मोटापे की समस्या- अनियंत्रित खानपान की वजह से मोटापे की बीमारी लोगों में तेजी से बढ़ रही है। मोटापे की वजह से मरीज को हाइपरटेंशन और डायबिटीज जैसी बीमारियां हो रही हैं। मोटापे की समस्या से ग्रसित लोगों में हार्ट अटैक का खतरा अन्य लोगों की तुलना में ज्यादा रहता है।

हाई ब्लड प्रेशर- हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों में भी हार्ट अटैक आने का खतरा अन्य लोगों की तुलना में ज्यादा रहता है।

आनुवांशिक कारणों की वजह से- ऐसे लोग जिनकी दिल की बीमारियों की फैमिली हिस्ट्री है, उनमें हार्ट अटैक के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। जेनेटिक कारणों से होने वाले हार्ट अटैक से बचने के लिए आपको बचपन से ही कुछ सावधानियों का ध्यान रखने की जरूरत होती है।

तनाव और मानसिक समस्या- आज के समय में हर व्यक्ति किसी न किसी कारण से तनाव झेल रहा है। तनाव की वजह से आपकी सेहत पर गंभीर प्रभाव पड़ता है। ऐसे लोग जो बहुत ज्यादा तनाव में रहते है उन्हें भी हार्ट अटैक का खतरा ज्यादा रहता है।

इसे भी पढ़ें: पहले हार्ट अटैक के बाद रखें डॉक्टर की बताई इन 6 बातों का ख्याल, कम होगी दूसरे अटैक की आशंका

हार्ट अटैक के लक्षण (Heart Attack Symptoms in Hindi) दिखने पर मरीजों को डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए और सही इलाज लेना चाहिए। हार्ट अटैक आने पर मरीज को समय पर इलाज न मिलने से मौत का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए हार्ट अटैक को मेडिकल इमरजेंसी माना जाता है। छाती में दर्द और दिल की धड़कन असामान्य होना हार्ट अटैक के शुरूआती लक्षण माने जाते हैं। अगर आपको भी ऐसे लक्षण दिखाई देते हैं, तो तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए। इसके अलावा हार्ट अटैक से बचने के लिए हेल्दी डाइट और सही लाइफस्टाइल अपनाना चाहिए।

(Image COurtesy: Freepik.com)

Disclaimer