क्या रोजाना दिल की असामान्य धड़कन (पल्पिटेशन) महसूस होना नॉर्मल है? जानें डॉक्टर की राय

क्‍या आपको भी रोजाना द‍िल की असामान्‍य धड़कन महसूस होती है? अगर हां तो पढ़ें पूरा लेख और जानें कारण और उपाय 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jun 28, 2021Updated at: Jun 28, 2021
क्या रोजाना दिल की असामान्य धड़कन (पल्पिटेशन) महसूस होना नॉर्मल है? जानें डॉक्टर की राय

क्‍या आपको असामान्‍य धड़कन महसूस होती है? स्‍ट्रेस, एनीम‍िया, द‍िल की बीमार‍ियां, हाइपर थॉयराइड आद‍ि समस्‍याओं के कारण द‍िल की धड़कन असामान्‍य होती है। इस सेंसेशन को हार्ट पल्पिटेशन कहते हैं। कुछ लोगों को हल्‍की तो कुछ को ये पल्‍प‍िटेशन ज्‍यादा महसूस होती है। द‍िल की धड़कन में जब असामान्‍य पैटर्न बनने लगे तो समझ जाइए ये क‍िसी बीमारी का कारण हो सकता है। जरूरी नहीं है क‍ि बीमारी द‍िल में बल्‍कि आपका कोई अंग भी प्रभाव‍ित हो सकता है इसल‍िए द‍िल का ख्‍याल रखना जरूरी है। दिल को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के ल‍िए आपको रोजाना कसरत करनी चाह‍िए, खुद को हाइड्रेट रखें, कोलेस्‍ट्रॉल को कंट्रोल रखें, ब्रीथिंग एक्‍सरसाइज पर ध्‍यान दें। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के पल्‍स हॉर्ट सेंटर के कॉर्ड‍ियोलॉज‍िस्‍ट डॉ अभ‍िषेक शुक्‍ला से बात की।

heart beat abnormal causes

हार्ट पल्‍प‍िटेशन का अहसास कैसे होता है? (Symptoms of heart palpitations)

द‍िल की असामान्‍य धड़कन या हार्ट पल्‍प‍िटेशन होने पर आपको घबराहट महसूस हो सकती है। हर व्‍यक्‍त‍ि में हार्ट पल्‍प‍िटेशन का अहसास अलग होता है। द‍िल की असामान्‍य धड़कन होने पर आपको लगेगा जैसे द‍िल की बीट छूट रही है या द‍िल की जगह में आपको भारीपन महसूस हो सकता है। आप चेस्‍ट या गर्दन से ये पल्‍प‍िटेशन महसूस कर सकते हैं।

द‍िल की असामान्‍य धड़कन का पता लगने पर क्‍या करें? (What to do if heart beats abnormal)

अगर आपकी द‍िल की धड़कन असामान्‍य महसूस हो तो ये करें-

  • अगर आपको लग रहा है क‍ि द‍िल की धड़कन असामान्‍य हो रही है तो आप सबसे पहले डॉक्‍टर के पास जाएं। 
  • द‍िल की असामान्‍य धड़कन का पता लगाने के ल‍िए डॉक्‍टर आपका ब्‍लड टेस्‍ट करवा सकते हैं। 
  • ईसीजी की मदद से भी द‍िल की असामान्‍य धड़कन या हार्ट पल्‍प‍िटेशन की समस्‍या का पता लगाया जाता है।
  • आपको 24 घंटे आपनी असामान्‍य हार्ट बीट को र‍िकॉर्ड करना चाह‍िए, ये र‍िकार्ड आप डॉक्‍टर के साथ शेयर कर सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- मेडिकल टेस्ट रिपोर्ट में इन 5 तरह के 'नंबर्स' का बढ़ना बताता है दिल की बीमारी का खतरा

द‍िल की असामान्‍य धड़कन का पता लगाने के ल‍िए कौनसे टेस्‍ट क‍िए जाते हैं? (Tests performed to know heart palpitations)

tests done for heart palpitation

द‍िल की असामान्‍य धड़कन का पता लगाने के ल‍िए ये टेस्‍ट क‍िए जाते हैं-

  • डॉक्‍टर आपके द‍िल, छाती की हड्ड‍ियां या फेफड़ों का एक्‍सरे भी कर सकते हैं।
  • स्‍ट्रेस का पता लगाने के ल‍िए स्‍ट्रेस टेस्‍ट भी क‍िया जाता है।
  • इलेक्ट्रोफिजियोलॉजी टेस्ट टेस्‍ट के जर‍िए भी द‍िल की असामान्‍य धड़कन का पता लगाया जाता है। 
  • कुछ केस में सीटी स्‍कैन की जरूरत भी पड़ सकती है।
  • द‍िल की बीमारी का पता लगाने के ल‍िए मायोकार्डियल बायॉप्सी भी की जाती है। 

हार्ट पल्‍प‍िटेशन के क्‍या कारण हैं? (Causes of heart palpitations)

symptoms of abnormal heart beats

द‍िल की असामान्‍य धड़कन या हार्ट पल्‍प‍िटेशन के कई कारण हो सकते हैं जैसे- 

  • अचानक से सोकर उठना या अचानक से कोई काम करना।
  • स्‍ट्रेस, पैन‍िक होना या एंग्‍जाइटी के कारण भी हार्ट पल्‍प‍िटेशन की समस्‍या होती है।
  • अगर आपको ज्‍यादा कैफीन जैसे चाय या काफी पीने की आदत है तो भी आपको द‍िल की असामान्‍य धड़कन महसूस हो सकती है। 
  • एल्‍कोहॉल का ज्‍यादा सेवन करते हैं तो हार्ट पल्‍प‍िटेशन महसूस हो सकती है। 
  • अगर आप पानी कम पीते हैं यानी ड‍िहाइड्रेशन की समस्‍या है तो भी आपको द‍िल की असामान्‍य धड़कन महसूस हो सकती है। 
  • ब्‍लड शुगर सामान्‍य से कम होने पर हार्ट पल्‍प‍िटेशन की समस्‍या हो सकती है। 
  • मेनोपॉज या गर्भावस्‍था में हार्मोन में बदलाव होने के कारण भी हार्ट बीट असामान्‍य हो जाती है, पर ठीक भी हो जाती है। अगर ये समस्‍या ठीक न हो तो डॉक्‍टर को द‍िखाएं।

इसे भी पढ़ें- क्या कोलेस्ट्रॉल के कारण पेट की धमनियां ब्लॉक होने से भी बढ़ जाता है हार्ट की बीमारियों का खतरा?

क‍िन बीमार‍ियों में द‍िल की धड़कन असामान्‍य होती है? (Diseases related to heart palpitations)

कई बीमार‍ियों के कारण द‍िल की धड़कन असामान्‍य हो सकती है जैसे- 

  • द‍िल की धड़कन असामान्‍य होने का कारण हार्ट अटैक भी हो सकता है।
  • अगर आपको क‍िसी भी प्रकार की द‍िल से जुड़ी बीमारी है तो आपको असामन्‍य हार्ट बीट्स महसूस हो सकती है। 
  • जिन लोगों को एनीम‍िया यानी खून की कमी होती है उन्‍हें भी हार्ट पल्‍प‍िटेशन की श‍िकायत होती है। 
  • गर्भवती मह‍िलाओं में ये समस्‍या ज्‍यादा देखने को म‍िलती है क्‍योंक‍ि उनमें से कई मह‍िलाएं एनीम‍िया का श‍िकार होती हैं। 
  • हाइपर थॉयराइड में भी द‍िल की असामान्‍य धड़कन या हार्ट पल्‍प‍िटेशन की श‍िकायत हो सकती है।
  • आप अगर सर्दी या खांसी के ल‍िए एंटीबायोट‍िक्‍स ले रहे हैं तो दवाओं के असर से आपको हार्ट पल्‍प‍िटेशन की श‍िकायत हो सकती है।
  • जो लोग डाइट प‍िल्‍स लेते हैं उन्‍हें भी हार्ट पल्‍प‍िटेशन की श‍िकायत हो सकती है। 

हार्ट पल्‍प‍िटेशन की समस्‍या को दूर करने के ल‍िए इन चीजों को अवॉइड करें (Habits that cause heart palpitations) 

हार्ट पल्‍प‍िटेशन या द‍िल की असामान्‍य धड़कन के पीछे ये कारण हो सकते हैं-

  • हार्ट पल्‍प‍िटेशन की समस्‍या से ग्रस‍ित हैं तो धूम्रपान बंद कर दें नहीं तो आपकी समस्‍या बढ़ सकती है। 
  • अगर आप एल्‍कोहॉल का सेवन करते हैं तो आपको उसे भी बंद कर देना चाह‍िए।
  • अन‍िद्रा की समस्‍या से बचें, अगर आप नींद पूरी नहीं करेंगे तो आपको हार्ट पल्‍प‍िटेशन की श‍िकायत हो सकती है।
  • द‍िल की असामान्‍य धड़कन को ठीक करने के ल‍िए स्‍ट्रेस या तनाव को पूरी तरह से अवॉइड करना चाह‍िए।

हार्ट पल्‍प‍िटेशन की समस्‍या को कैसे दूर करें? (How to cure heart palpitations) 

heart palpitation treatment

हार्ट पल्‍प‍िटेशन की समस्‍या को दूर करने के ल‍िए आप कुछ आसान उपाय अपना सकते हैं-

  • द‍िल की असामान्‍य धड़कन को ठीक करने के ल‍िए आपको रोजाना ब्रीथिंग एक्‍सरसाइज करनी चाह‍िए, शांत जगह पर बैठ जाएं और गहरी सांस लें। 
  • मेड‍िटेशन और ब्रीथिंग एक्‍सरसाइज हार्ट की अन्‍य समस्‍याओं के ल‍िए भी फायदेमंद है इसल‍िए आपको रोजाना 40 म‍िनट एक्‍सरसाइज करनी चाह‍िए।
  • ढेर सारा पानी प‍िएं, ड‍िहाइड्रेशन के कारण भी हार्ट पल्‍प‍िटेशन की समस्‍या हो सकती है इसल‍िए रोजाना दो से तीन लीटर पानी प‍िएं।
  • कोलेस्‍ट्रॉल को न‍ियंत्र‍ित रखें। द‍िल की सेहत के ल‍िए कोलेस्‍ट्रॉल मुख्‍य भूम‍िका न‍िभाता है। 
  • द‍िल को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के ल‍िए आपको हर साल अपनी कोलेस्‍ट्रॉल जांच करवानी चाह‍िए। 
  • आपका कोलेस्‍ट्रॉल 200 एमजी या डीएल से ज्‍यादा नहीं होनी चाह‍िए। 
  • आपका गुड कोलेस्‍ट्रॉल 40 एमजी या डीएल से कम है तो आपको हार्ट स्‍ट्रोक की समस्‍या हो सकती है। 

अगर हार्ट पल्‍प‍िटेशन के साथ आपको चेस्‍ट पेन, सांस लेने में परेशानी, बेहोशी महसूस हो तो आप डॉक्‍टर से तुरंत संपर्क करें, ये कोई गंभीर समस्‍या का लक्षण हो सकता है।

Read more on Heart Health in Hindi  

Disclaimer