दिल में अचानक घबराहट महसूस होने के हैं ये 15 कारण, जानें कौन-कौनी सी हो सकती हैं बीमारियां

आप रोजाना की जिंदगी में ऐसे कई काम करते हैं, जिनके कारण आपको दिल में घबराहट की समस्या होने लगती है।   

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Jan 23, 2020Updated at: Jan 23, 2020
दिल में अचानक घबराहट महसूस होने के हैं ये 15 कारण, जानें कौन-कौनी सी हो सकती हैं बीमारियां

आपने घबराहट के बारे में काफी सुना होगा लेकिन दिल में अचानक घबराहट (heart palpitations) महसूस होना दिल की धड़कन रुक-रुक कर आना या फिर दिल का तेज धड़कना हो सकता है। आपको ऐसा महसूस हो सकता है कि आपका दिल बहुत तेजी से धड़क रहा है। आप अपने दिल की धड़कन को लेकर बहुत ज्यादा सतर्क हो सकते हैं। ऐसा कुछ आपको अपनी गर्दन, गले या फिर सीने में भी महसूस हो सकता है। इसके अलावा आपके दिल की धड़कन घबराहट के दौरान बदलती रहती है। लेकिन आपने कभी सोचा है कि ऐसा आपके साथ क्यों होता है। आखिर क्यों आपके दिल की धड़कन अचानक इतनी तेज होती है। अगर नहीं तो इस लेख में हम आपको इसके पीछे छिपे ऐसे 15 कारणों के बारे में आपको बताने जा रहे हैं , जिनपर आप यकीन भी नहीं करते होंगे।

Palpitations

दिल की घबराहट के कारणों का पता लगाना बहुत मुश्किल होता है हालांकि दिल की धड़कन के कारण अलग-अलग हो सकते हैं। ये कारण आमतौर पर नुकसानदेह हो सकते हैं। कुछ मामलों में ये लक्षण गंभीर ह्रदय स्थितियों का संकेत हो सकते हैं जैसेः अनियमित दिल की धड़कन  (arrhythmia), सामान्य रूप से दिल की धड़कन रहना (bradycardia), arrhythmia के कारण दिल की धड़कन बहुत तेज हो सकती है, जिसे tachycardia कहते हैं। इस स्थिति में उपचार की जरूरत होती है।

इसे भी पढ़ेंः नसों में खून ठंडा होकर जम जाने से आता है हार्ट अटैक, जानें खून गर्म रखने के 5 टिप्स

दिल की घबराहट के 15 कारण

डिप्रेशन और कठोर एक्सरसाइज। 

मजबूत भावनाओं, डर और तनाव से हुई चिंता। ये आमतौर पर तब होती है जब पैनिक एटैक होता है। 

कठोर शारीरिक गतिविधियां। 

निकोटिन, शराब, कैफीन या फिर कोकोन डैसे नशीले पदार्थ। 

थायराइड रोग, डिहाइड्रेशन, लो ब्लड शुगर, एनीमिया, लो ब्लड प्रेशर और बुखार जैसी स्थिति में। 

गर्भावस्था या फिर मेनोपॉज से पहले और मासिक धर्म के दौरान हार्मोनल बदलाव। कभी-कभार गर्भावस्था के दौरान दिल की घबराहट एनीमिया के संकेत हो सकती है। 

डाइट के साथ दवाएं, जोरदार पिटाई, सांस संबंधी समस्याओं के कारण भी ऐसा होता है। 

कुछ हर्बल और न्यूट्रिशनल सप्लीमेंट। 

आसामान्य इलेक्ट्रोलेट लेवल। 

बहुत ज्यादा या बहुत कम थायराइड।  

पहले कोई हार्ट अटैक आया हुआ हो।

कोरोनेरी आर्टरी रोग। 

हार्ट फेल्योर।

हार्ट वाल्व समस्या। 

हार्ट मांसपेशियों की समस्या।

इसे भी पढ़ेंः दिल की सेहत का रखना है ख्याल तो खाएं ये 14 सुपरफूड्स, एक्सपर्ट से जानें कौन सा फूड है फायदेमंद

Palpitations

अनचाहे में दिल की घबराहट से कैसे बचें?

अगर आपका डॉक्टर आपसे कहता है कि उपचार की जरूरत नहीं है तो आप घर पर ही कुछ दिल संबंधी गतिविधियों को कर इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। ये तरीके आपकी घबराहट की संभावना को कम करते हैं और उन कारणों को पता लगाने में आपकी मदद करते हैं ताकि आप उन्हें पहचान कर उनसे बच सकें। आप बहुत सी गतिविधियां कर के ऐसा कर सकते हैं। इसके साथ ही ऐसे खाद्य पदार्थों व पेय पदार्थों पर भी ध्यान दें, जिन्हें खाने के बाद अक्सर आपके दिल में घबराहट होने लगती है।

इस तरह रखें दिल को फिट

सप्ताह में तीन से  चार बार 40 मिनट की वॉक या जॉगिंग करें । इसके अलावा आप 25 मिनट की हार्ड एक्सरसाइज भी कर सकते हैं।  ऐसा करने से ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल और शरीर के वजन को कम करने में भी मदद मिलती है।

एक शोध में सामने आया है कि अकेले रहना या अकेले महसूस करना आपके लिए धूम्रपान, मोटापे जैसा ही खतरनाक है। इसलिए किसी पुराने दोस्त के साथ कुछ नया करने का प्लान बनाएं। इसके अलावा आप जहां बहुत सारे लोगों से मिल सकते हैं या नए दोस्त बना सकते हैं।

पोषक तत्व और फाइबर वाले फल और सब्जियां दिल को स्वस्थ बनाते हैं। इसलिए ये डायबिटीज और हृदय रोग के खतरे को कम कर सकते हैं।

वर्कआउट करना चाहते हैं लेकिन बिस्तर पर पड़े-पड़े पूरा निकाल देते हैं तो ये आपके स्वास्थ्य और दिल के लिए हानिकारक हो सकता है। बच्चों के साथ खेलना, घूमना और घर की सफाई जैसे काम कर आप खुद को सक्रिय रख सकते हैं।

Read more articles on Heart in Hindi

Disclaimer