निमोनिया, अर्थराइटिस जैसी इन 6 बीमारियों में फायदेमंद है इन्द्रायण फल, जानें प्रयोग का तरीका

इंद्रायण का फल फायदेमंद होता है इससे अर्थराइट‍िस, मोटापा, डायब‍िटीज जैसी बीमार‍ियां दूर होती हैं, अन्‍य फायदे जानने के लि‍ए पूरा लेख पढ़ें

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Aug 05, 2021 09:50 IST
निमोनिया, अर्थराइटिस जैसी इन 6 बीमारियों में फायदेमंद है इन्द्रायण फल, जानें प्रयोग का तरीका

इंद्रायण का फल क्‍यों फायदेमंद है? इंद्रायण के फल के सेवन से डायब‍िटीज कंट्रोल होती है, वजन कम होता है, पीर‍ियड्स की अन‍ियम‍ितता दूर होती है, न‍िमोन‍िया ठीक होता है, अर्थराइट‍िस का दर्द दूर होता है आद‍ि। इंद्रायण एक तरह की बेल है ज‍िसमें लगने वाला फल, उसका बीज, पत्‍ते, जड़ सभी में औषधीय गुण होते हैं। स्‍क‍िन और बालों के ल‍िए भी इंद्रायण का फल फायदेमंद माना जाता है। इंद्रायण का फल बाहर से द‍िखने में तरबूज जैसा होता है। इस लेख में हम इंद्रायण के फल के फायदे और उसे इस्‍तेमाल करने के तरीकों पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के व‍िकास नगर में स्‍थित प्रांजल आयुर्वेद‍िक क्‍लीन‍िक के डॉ मनीष स‍िंह से बात की। 

indrayan fruit

1. डायब‍िटीज कंट्रोल करता है इंद्रायण का फल (Indrayan fruit treats diabetes)

इंद्रायण का फल, बीज, जड़ सभी डायब‍िटीज को कंट्रोल करने में मदद करते हैं। अगर आप इस सबको पीसकर पाउडर बना लें और गुनगुने पानी के साथ लें तो शुगर लेवल कंट्रोल रहेगा। इंद्रायण में एंटी-डायबेट‍िक गुण होते हैं। इंद्रायण बीमारी ही नहीं बल्‍क‍ि स्‍क‍िन और बालों के ल‍िए भी फायदेमंद माना जाता है। इंद्रायण के फल के इस्‍तेमाल से डैंड्रफ की समस्‍या और चेहरे पर मुंहासे की समस्‍या दूर होती है। 

इसे भी पढ़ें- दांत दर्द, माइग्रेन, बुखार जैसी इन 5 समस्याओं को दूर करता है 'चोरक का पौधा', जानें इसका प्रयोग कैसे करें

2. मोटापा कम करने में मदद करता है इंद्रायण का फल (Indrayan fruit helps to reduce weight)

indrayan fruit benefits

अगर आप मोटापे से परेशान हैं और वजन घटाना चाहते हैं तो आपको इंद्रायण के बीज को पीसकर पाउडर बना लेना है और उसमें इंद्रायण के फल का रस म‍िलाना है, अब दो कप पानी को गरम करें और उसमें ये म‍िश्रण डाल दें। जब पानी आधा हो जाए तो मतलब आपका काढ़ा तैयार है। उसमें काली म‍िर्च डालें और काढ़े को पी लें, इस काढ़े से वजन कम कर सकते हैं। 

3. पीर‍ियड्स की अन‍ियम‍ितता दूर करता है इंद्रायण (Indrayan fruit treats irregular periods)

अगर आपको अन‍ियमित पीर‍ियड्स की समस्‍या है तो आप इंद्रायण औषधी का इस्‍तेमाल कर सकती हैं। आपको इंद्रायण के फल का रस और बीज को पीसकर काढ़ा बनाना है और इस काढ़े को द‍िन में एक बार पीने से पीर‍ियड्स से जुड़ी समस्‍या दूर हो सकती है।  

4. न‍िमोन‍िया में फायदेमंद है इंद्रायण का फल (Benefits of indrayan fruit to cure pnemonia)

निमोन‍िया को ठीक करने में इंद्रायण का फल फायदेमंद माना जाता है। इंद्रायण के रस को गुनगुने पानी के साथ लेने से न‍िमोन‍िया ठीक हो जाता है। न‍िमोन‍िया को ठीक करने के ल‍िए आप इंद्रायण की जड़ का चूरण भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं। 

5. अर्थराइट‍िस में दर्द दूर करता है इंद्रायण का फल (Indrayan fruit cures arthritis pain and swelling)

indrayan fruit uses

अर्थराइट‍िस के लक्षण की बात करें तो जोड़ों में दर्द और सूजन की समस्‍या होती है, अगर आपको भी ये समस्‍या है तो इंद्रायण के फल का सेवन करें। इंद्रायण में एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं इससे दर्द और सूजन की समस्‍या दूर होती है। क‍िसी अन्‍य अंग में भी चोट के कारण सूजन आई हो तो आप इंद्रायण के फल के रस को उस जगह लगाकर दर्द से राहत पा सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- जीवंती का पौधा इन 8 बीमारियों को करता है जड़ से ठीक, आयुर्वेद में कहा गया है 'जीवन की रक्षा करने वाली औषधि'

6. पेशाब करते समय जलन हो तो इस्‍तेमाल करें इंद्रायण (Indrayan fruit treats burning during urination)

पानी कम पीने के नुकसान या क‍िसी अन्‍य कारण के चलते कुछ लोगों को यूर‍िन पास करते समय जलन होती है, अगर आपको भी यही समस्‍या है तो आप इंद्रायण की जड़ का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। इंद्रायण की जड़ को पीसकर पाउडर बना लें और फ‍िर उसे गुनगुने पानी के साथ म‍िलाकर प‍िएं तो यूर‍िन करते समय जलन की समस्‍या ठीक हो जाएगी। 

अगर आपको कोई गंभीर त्‍वचा या क‍िसी अंग में रोग है तो डॉक्‍टर की सलाह पर ही आयुर्वेद‍िक उपायों का प्रयोग करें। 

Read more on Ayurveda in Hindi

Disclaimer