जीवंती का पौधा इन 8 बीमारियों को करता है जड़ से ठीक, आयुर्वेद में कहा गया है 'जीवन की रक्षा करने वाली औषधि'

जीवंती का पौधा कई बीमार‍ियों को दूर कर सकता है, जानें क‍िन बीमारि‍यों को दूर करती है ये औषधी

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Aug 03, 2021 10:40 IST
जीवंती का पौधा इन 8 बीमारियों को करता है जड़ से ठीक, आयुर्वेद में कहा गया है 'जीवन की रक्षा करने वाली औषधि'

आयुर्वेद में जीवंती को जीवन रक्षण औषधी कहा जाता है क्‍योंक‍ि ये कई बीमार‍ियों को जड़ से खत्‍म करने का काम करती है। पेट से जुड़ी श‍िकायतें हों या त्‍वचा संबंधी रोग, जीवंती के पास सबका इलाज है यहां तक की टीबी जैसे गंभीर रोग में भी जीवंती फायदेमंद मानी जाती है। जीवंती औषधीय गुणों से भरपूर है। जीवंती की जड़, फूल, फल सभी का इस्‍तेमाल कई बीमार‍ियों को दूर करने के ल‍िए क‍िया जाता है। हमारे देश में जीवंती कई राज्‍यों में पाया जाता है जैसे यूपी, पंजाब, गुजरात, दक्ष‍िण भारत आद‍ि। जीवंती का तना कोमल होता है, इसकी छाल में दरार होती है, पत्‍ते लंबे और चौड़े होती हैं और फूल पीले या सफेद होते हैं व फल‍ियां बेल के आकार की होती हैं। अगर आपको जीवंती के फल और फूल का इस्‍तेमाल करना है तो इस पौधे पर सबसे ज्‍यादा फल और फूल अगस्‍त से फरवरी के बीच होते हैं। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के व‍िकास नगर में स्‍थित प्रांजल आयुर्वेद‍िक क्‍लीन‍िक के डॉ मनीष स‍िंह से बात की। 

jivanti herb uses

1. बुखार को ठीक करता है जीवंती (Jivanti helps to cure fever)

जीवंती की जड़ में भी औषधीय गुण होते हैं, इससे बने काढ़े का सेवन करने से बुखार कम हो जाता है। जड़ से बने काढ़े को बनाने के ल‍िए आप जड़ को पीसकर पाउडर बना लें फ‍िर उसे पानी गरम होने के बाद उसमें म‍िलाकर चलाएं, जब पानी आधा रह जाए तो छानकर पी लें। 

2. अर्थराइट‍िस का दर्द दूर करता है जीवंती (Jivanti helps to cure arthritis pain)

अगर आप जीवंती के पत्‍तों को पीसकर घुटने या जोड़ों पर लगाएं तो अर्थराइट‍िस या जोड़ों के दर्द से राहत म‍िलेगी। जीवंती के इस्‍तेमाल से दर्द और सूजन दोनों में आराम म‍िलता है। 

इसे भी पढ़ें- दांत दर्द, खांसी, पेट दर्द जैसी इन 5 समस्याओं का रामबाण इलाज है जूफा का पौधा, जानें इसके प्रयोग

3. जीवंती के लेप से घाव जल्‍दी भर जाता है (Jivanti helps to cure wound)

त्‍वचा संबंधी रोग में जीवंती फायदेमंद माना जाता है। जीवंती के पत्‍तों का पेस्‍ट लगाकर आप घाव को ठीक कर सकते हैं, इससे घाव जल्‍दी भर जाता है। आपको जीवंती के पत्‍तों को पीसकर उसमें हल्‍दी म‍िलाकर लेप बनाना है और उस लेप को घाव पर लगा लेना है। 

4. सूजन दूर करता है जीवंती (Jivanti helps to cure swelling)

jivanti herb benefits

अगर आपके शरीर में सूजन है तो उसे दूर करने के ल‍िए भी जीवंती की मदद ले सकते हैं। जीवंती के पत्‍ते का रस आप सूजन वाली जगह पर लगाएं इससे सूजन ठीक हो जाएगी। सूजन के साथ-साथ जलन दूर करने में भी जीवंती फायदेमंद है। 

5. जीवंती के सेवन से बढ़ती है भूख (Jivanti helps to increase appetite)

जीवंती का सेवन करने से भूख बढ़ती है। आप जीवंती के फूल को पीसकर उसके रस को शहद के साथ म‍िलाकर सेवन करें इससे भूख बढ़ जाएगी। हार्ट ड‍िसीज में भी जीवंती फायदेमंद माना जाता है। 

6. जीवंती की मदद से टीबी का इलाज क‍िया जाता है (Jivanti helps to cure tuberculosis)

टीबी के लक्षणों को दूर करने के ल‍िए जीवंती फायदेमंद माना जाता है, ऐसा नहीं क‍हा जा सकता क‍ि ये टीबी को पूरी तरह से ठीक कर सकता है, अगर आपको लक्षण नजर आते हैं तो आप दवाओं का कोर्स करें लेकि‍न हल्‍के लक्षण नजर आने पर जीवंती का सेवन क‍िया जा सकता है। जीवंती के पत्‍तों की लुग्‍धी को घी के साथ लेना फायदेमंद माना जाता है। 

7. दस्‍त की समस्‍या दूर करता है जीवंती (Jivanti helps to cure Diarrhoea)

अगर आपका पेट खराब है तो जीवंती के पत्‍ते के रस में शहद म‍िलाकर गुनगुने पानी में म‍िलाकर उसका सेवन करें, इससे दस्‍त की समस्‍या दूर हो जाएगी। जीवंती के म‍िश्रण का सेवन कब कर सकते हैं? आप जीवंती का सेवन खाने के बाद कर सकते हैं। मात्रा की बात करें तो केवल एक छोटी चम्‍मच ज‍ितनी मात्रा ही लें। जीवंती का सेवन आप चूरण के रूप में कर रहे हैं तो गुनगुने पानी के साथ ले सकते हैं। द‍िन में दो बार से ज्‍यादा इसका सेवन आपको नहीं करना है। 

इसे भी पढ़ें- ताड़ की पत्तियों और छाल में होते हैं औषधीय गुण, इन 6 बीमारियों में प्रयोग करने से मिलता है आराम

8. मुंह के छाले ठीक करता है जीवंती (Jivanti helps to cure ulcer)

मुंह में अल्‍सर होने पर जीवंती के पत्‍ते के पेस्‍ट को शहद के साथ म‍िलाकर मुंह और होंठ पर लगाने से छाले जल्‍दी ठीक हो जाते हैं और इसी म‍िश्रण का चूरण बनाकर पानी के साथ लें तो खांसी की समस्‍या दूर होती है। 

अगर आपको कोई गंभीर त्‍वचा या अंग का रोग है तो डॉक्‍टर की सलाह पर ही जीवंती का इस्‍तेमाल करें। 

Read more on Ayurveda in Hindi 

Disclaimer