Doctor Verified

गैस और एसिडिटी में क्या अंतर है? जानें इन दोनों के लक्षण और छुटकारा पाने के उपाय

difference between gas and acidity: अधिकतर लोग गैस और एसिडिटी को एक ही मान लेते हैं। लेकिन इन दोनों के बीच काफी अंतर होता है। 

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Dec 13, 2021 16:49 IST
गैस और एसिडिटी में क्या अंतर है? जानें इन दोनों के लक्षण और छुटकारा पाने के उपाय

difference between gas and acidity:  आजकल के खान-पान, लाइफस्टाइल और इनएक्टिव लाइफस्टाइल कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं को पैदा करता है। इन्हीं में गैस और एसिडिटी भी शामिल हैं। गैस और एसिडिटी (gas and aicidty) दोनों पाचन संबंधी समस्याएं हैं। ये दोनों ही समस्याएं काफी सामान्य होती हैं। लेकिन लंबे समय गैस या एसिडिटी रहना कई सामान्य से लेकर गंभीर बीमारियों (diseases due to gas and aicidity) का कारण बन सकता है। भले ही गैस और एसिडिटी पेट से जुड़ी समस्याएं हैं, लेकिन इन दोनों में काफी अंतर (difference between gas and acidity) होता है। चलिए विस्तार से जानते हैं गैस और एसिडिटी में अंतर-

गैस क्या है? (what is gas)

कामिनेनी अस्पताल, हैदराबाद के सलाहकार गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट और हेपेटोलॉजिस्ट डॉक्टर किशन नुनसवता बताते हैं कि किसी भी व्यक्ति को गैस की समस्या होना बहुत सामान्य है। जब पेट में गैस बनती है, तो यह मुंह से डकार के द्वारा या फिर मलाशय से निकलता है। गैस दुर्गंध वाली हो सकती है। गैस कार्बनडाइऑक्साइड, नाइट्रोजन, मीथेन, हाइड्रोजन और ऑक्सीजन से बनी होती है। एक व्यक्ति दिनभर में 10 से अधिक बार गैस पास कर सकता है।

गैस के लक्षण (gas symptoms)

  • आसानी से मल त्याग न हो पाना
  • पेल फूला हुआ महसूस होना
  • पेट में ऐंठन
  • पेट में दर्द होना
  • उल्टी महसूस होना (vomiting due to acidity)
  • सिरदर्द होना
  • आलस-थकान महसूस होना

गैस के कारण (gas causes) 

गैस के मुख्य कारण खाद्य पदार्थ होते हैं। अधिकतर लोगों को सेब, फलियां, गोभी, प्याज, आलू, पनीर, दूध, पत्ता गोभी और ब्रोकली खाने से गैस बनती है। ऐसे में इन चीजों से परहेज करना जरूरी है।

gas

एसिडिटी क्या है? (what is acidity)

एसिडिटी की समस्या भी पाचन संबंधी होती है। एसिडीटी को मेडिकल टर्म में गैस्ट्रएसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज (GERD) कहा जाता है। किसी भी व्यक्ति को एसिडिटी की समस्या तब होती है, जब गले से पेट की तरफ जाने वाली नली आराम की स्थिति में आ जाती है या फिर नली टाइट नहीं हो पाती है। दरअसल, जब हम खाना खाते हैं तो पेट में खाने से जरूरी पोषक तत्वों  को निकाला जाता है। इस प्रक्रिया के दौरान शरीर में एसिड बनने लगता है। जब यह एसिड एसोफेगस की तरफ उठने लगता है, तो इस स्थिति को एसिडिटी (hyper acidit ke lakshan) कहा जाता है।

इसे भी पढ़ें - पेट में गैस ज्यादा बनती है तो रोज करें ये ये 3 योगासन, योग एक्सपर्ट से जानें करने का तरीका और फायदे

एसिडिटी के लक्षण (acidity symptoms)

  • पेट फूलना
  • सीने में जलन होना
  • पेट में गर्मी 
  • पेट में दर्द
  • गर्म तासीर के खाद्य पदार्थों का सेवन करना

एसिडिटी अल्सर, पेनक्रियाज कैंसर आदि गंभीर बीमारियों का भी कारण बनता है।

एसिडिटी के कारण (Acidity causes)

  • धूम्रपान करना या सिगरेट पीना
  • एल्कोहल या शराब का सेवन
  • मोटापा
  • गर्भावस्था या प्रेगनेंसी
  • राजमा, छोले, मोठ और उड़द की दाल खाना
  • तना-भुना, जंक फूल और बासी भोजन खाना
  • नाश्ता न करना या फिर लंबे समय तक खाली पेट रहना

गैस और एसिडिटी से बचाव टिप्स (prevention tips for gas and acidity)

गैस और एसिडिटी (gas and acidity) से बचने के लिए लाइफस्टाइल, डाइट पर खास ध्यान देना जरूरी होता है। आप कुछ टिप्स को अपनाकर गैस और एसिडिटी (how to get rid from gas and acidity) जैसी समस्या से अपना बचाव कर सकते हैं।

  • ओवर इटिंग से बचें। एक बार में थोड़ा-थोड़ा करके ही खाएं।
  • वसायुक्त या फैट वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बचें। फैट युक्त चीजों को डायजेस्ट करने में मुश्किल आती है।
  • आपकी बीएमआई उम्र और लंबाई के अनुसार ही होना चाहिए। मोटापे से बचें।
  • धूम्रपान और शराब से परहेज करें।
  • सोने से 2-3 घंटे पहले खाना खा लें।
  • खाना खाने के बाद 10-15 मिनट टहले जरूर।
  • अपनी डाइट में फाइबर युक्त आहार को शामिल करें।
  • खाना चबा-चबाकर खाएं। जल्दीबाजी में भोजन करने से बचें।
  • रोज सुबह योगासन, प्राणायाम जरूर करें।
  • पानी का अधिक मात्रा में सेवन करें। लिक्विड डाइट ज्यादा लें।
  • खाना खाने के दौरान पानी न पिएं। आप खाना खाने के आधे घंटे पहले और खाना खाने के एक घंटे बाद पानी पी सकते हैं।
  • खुद को शारीरिक रूप से सक्रिय रखें।

गैस एसिडिटी के लिए घरेलू उपाय (gas acidity home remedies in hindi)

अजवाइन (ajwain for gas): पेट में दर्द, पेट में ऐंठन होने अजवाइन का सेवन करें। गर्म पानी में एक छोटा चम्मच अजवाइन लेने से गैस (gas ke upay) की समस्या में आराम मिलता है।

हरड़ (Harad for gas) : गैस और एसिडिटी की समस्या दूर करने के लिए हरड़ का सेवन भी फायदेमंद होता है। आप हरड़ का चूर्ण शहद (hard churna and honey) के साथ लें। 

सत्तू (barley for acidity): पेट से गैस निकालने के लिए सत्तू का सेवन करें। पानी में सत्तू मिलाकर पीने से लाभ होगा। सीने की जलन भी शांत होगी।

अगर आपको भी गैस या एसिडिटी बनती है, तो अपने खान-पान और लाइफस्टाइल पर ध्यान देकर इनसे छुटकारा पा सकते हैं। 

Disclaimer