पेट में गैस ज्यादा बनती है तो रोज करें ये ये 3 योगासन, योग एक्सपर्ट से जानें करने का तरीका और फायदे

पेट में गैस की समस्या होने पर पीड़ित व्यक्ति बहुत कष्ट में रहता है।  इस गैस को बाहर निकालने में योगासन बहुत लाभदायक हैं।

Meena Prajapati
Written by: Meena PrajapatiPublished at: Aug 04, 2021
पेट में गैस ज्यादा बनती है तो रोज करें ये ये 3 योगासन, योग एक्सपर्ट से जानें करने का तरीका और फायदे

पेट में गैस बनना एक आम समस्या है। यह परेशानी अक्सर पाचन संबंधी विकारों के कारण होती है। हम किस तरह से खाते हैं, क्या खाते हैं और कैसा लाइफस्टाइल अपनाते हैं, इन सभी तरीकों पर हमारा जीवन टिका होता है। अगर आप हेल्दी लाइफस्टाइल नहीं अपनाते हैं तो आपको पेट में गैस बनने की समस्या करना पड़ सकता है। अगर आप भी गैस की समस्या से परेशान हैं तो घबराइए मत। यहां हम आपको बता रहे हैं कुछ ऐसे योगासन जो आपकी पेट की गैस समस्या को चुटकियों में दूर कर देंगे। इनोसेंसा योगा कि योग एक्सपर्ट भोली परिहार बता रही हैं कि आप घर बैठे पेट की समस्या को दूर करने के लिए कौन से योगासन कर सकते हैं। तो आइए विस्तार से जानते हैं। 

inside1_stomachgas

पेट में गैस क्यों बनती है?

एक्सपर्ट भोली परिहार ने पेट में गैस बनने के निम्न कारण बताए-

  • अत्यधिक भोजन करने से पेट में गैस की समस्या हो जाती है।
  • ज्यादा चिकनाई खाने से पेट में गैस की दिक्कत हो सकती है।
  • अगर हम खाने को ठीक से चबाकर नहीं खाते तब भी गैस बनती है।
  • मादक पदार्थों और डेयरी प्रोडक्ट्स से भी गैस बन जाती है।
  • ज्यादा मीठा खाद्य पदार्थ लेने से भी गै बनती है।
  • जंक फूड खाने से भी गैस बनती है।
  • ज्यादा लंबे समय तक कुछ न खाने से भी गैस बन जाती है। 

पेट की गैस को दूर करने के योगासन

1. वक्रासन (Vakrasana) 

हमारी जठराग्नि मंद पडने से हमें गैस की समस्या होने लगती है। मल-वात रोग होने लग जाते हैं। जिससे खाना ठीक से पच नहीं पाता। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि पेट में सभी रसायनों का ठंग से स्राव नहीं होता, जिसके कारण गैस बनने लगती है। यदि आप वक्रासन करते हैं तो इससे आपके पेट के हॉर्मोन का अच्छे से स्राव होगा है। जिससे भोजन अच्छे से पचेगा। इस आसन को करने से हमारे पेट की मांसपेशियां चुस्त-दुरुस्त रहती हैं। इस आसन को करते समय बॉडी को ट्विस्ट करते हैं जिसकी वजह से पेट में उपस्थित गैस बाहर निकल जाती है। 

inside3_stomachgas

वक्रासन करने का तरीका

  • अपने दोनों पैरों को सामने की ओर खोलकर आपस में जोड़ लें। 
  • कमर को सीधा रखते हुए अपने दोनों हाथों को हिप्स के साइड में रख लें। 
  • अब धीरे से अपने पंजों को बाहर की तरफ खींच दें। 
  • अपने दाहिने पैर को मोड़ते हुए बाएं घुटने के बगल में रख लें। उसके बाद बाएं हाथ को उठाते हुए दाहिने घुटने से अपनी कोहनी को क्रॉस कर लें। वहीं से अपने पेट वाले हिस्से को मोड़ते हुए अपने दाहिने हाथ को कमर के पीछे की तरफ रख लें।
  • उंगलियों को खोल लें।
  • गर्दन को पीछे की ओर घुमाते हुए अपने दोनों कंधों को एक लाइन में कर लें।
  • अपने बाएं हाथ से अपने दाहिने टखने को पकड़ने की कोशिश करें।
  • इस आसन में 10-15 सैकेंड होल्ड करें। उसके बाद इस आसन को दूसरी ओर से भी दोहराएं। 

इसे भी पढ़ें : किचन में मौजूद इन 13 चीजों के सेवन से तुरंत ठीक होगा हाजमा, दूर होगी अपच, गैस और पेट फूलने की समस्या

2. आनंद बालासन (Happy Baby Pose)

जिन लोगों को पेट में गैस बनती है उनके लिए यह आनंद बालासन बहुत लाभदायक है। इस आसन को करने से पेट पर दबाव पड़ता है जिसकी वजह से सारी गैस बाहर निकल जाती है और आप हल्का महसूस करते हैं। यदि आप इस आसन का रोज अभ्यास करेंगे तो आपको गैस जैसी समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ेगा। यह आसन हमारी पेट की मांसपेशियों को सक्रिय कर देता है। जिसकी वजह से उदर में हॉर्मोन का स्राव सही प्रकार से होता है। 

inside4_stomachgas

आनंद बालासन करने का तरीका

  • पीठ के बल अपनी मैट पर लेट जाएं व अपने दोनों पैरों को आपस में जोड़ लें। 
  • अपने दोनों हाथों को हिप्स के बगल में जमीन पर रख दें। अब धीरे से अपने एक-एक घुटने को मोड़ते हुए हिप्स के पास ले आएं।
  • इसके बाद धीरे से अपने दोनों पैरों को उठाते हुए अपने दोनों तलवों को आसमान की ओर कर दें व अपने दोनों घुटनों को साइड से फैला लें। 
  • अब अपनी तर्जनी व माध्यमिका से अपने पैर के अंगूठे को पकड़ लें। ध्यान रहे कि इसमें आपके घुटने मुड़े रहेंगे। साथ ही साथ आपकी एड़ी आपके घुटने के ऊपर होगी।
  • इस आसन में 25-30 सैकेंड होल्ड करें व धीरे से अपने एक-एक पैर को नीचे लाते हुए विश्राम करें। 

इसे भी पढ़ें : गैस होने पर इन 8 चीजों का न करें सेवन, जानें कारण

3. एक पाद पवनमुक्तासन (Ek Pad Pawanmuktasana)

जैसाकि नाम से मालूम होता है कि यह आसन करने से पवन मुक्त होती है, यानी गैस बाहर निकलती है। एक पाद पवनमुक्तासन मुख्य रूप से पेट की गैस को बाहर निकालने के लिए ही किया जाता है। इस आसन को करने से हमारे पीठ, पेट व हिप्स की मांसपेशियां सक्रिय हो जाती हैं। जिसकी वजह से हमारे पेट वाले हिस्से में रक्त संचार बढ़ जाता है। जिसकी वजह से हमारे पेट में जिन हार्मोन्स का स्राव नहीं हो रहा था, उनके भी स्राव होने लगता है। जिसके कारण हमारा भोजन अच्छे से पचता है और हमें गैस नहीं बनती। इस आसन को करने से अफरा की समस्या भी दूर होती है। साथ ही साथ यह हमारे उदर को आकर्षक बनाने में भी मददगार है। पेट से जुड़ी ज्यादातर समस्याओं का समाधान पवनमुक्तासन से हो जाता है। जैसे पेट में दर्द, जलन, मोटापा, सूजन, अपच आदि समस्याओं का समाधान इस आसन से किया जा सकता है।  

inside2_stomachgas

एक पाद पवनमु्क्तासन करने का तरीका

  • अपनी मैट पर पीठ के बल लेट जाएं।
  • आपके पंजे, एड़ी, घुटने आपस में मिले रहेंगे। 
  • आपके हाथों को हिप्स के बगल में रख दें। हथेलियों का रुख जमीन की ओर रहेगा।
  • धीरे से अपने बाएं पैर को मोड़कर दाएं पैर के घुटने के बगल में रखें। 
  • बाएं पैर को उठाकर छाती के पास ले आएं व अपने दोनों हाथों से उसे पकड़ लें। उसके बाद अपने घुटने व जांघ को दबाव डालते हुए पेट व छाती के पास ले आएं। 
  • दूसरा पैर जमीन पर सीधा रहेगा व पंजा अपनी ओर खींच लें। 
  • ध्यान रहे इसमें आपकी गर्दन ऊपर नहीं उठेगी जमीन पर ही रहेगी। 
  • दूसरा पैर सामान्य स्थिति में वही रहेगा। 
  • ध्यान रखने वाली बात है कि आपकी कमर के नीचे कोई कर्व न बनें। आपकी पीठ बिल्कुल जमीन से सटी रहेगी। 
  • इस आसन में हर एक पैर से 15-20 सैकेंड होल्ड करें। वापस आकर विश्राम करें। 

पेट में गैस की समस्या होने पर पीड़ित व्यक्ति बहुत कष्ट में रहता है। जब तक गैस पास नहीं होती है तब बेचैन रहता है। इस गैस को बाहर निकालने में योगासन बहुत लाभदायक हैं।

Read more Articles on Yoga in Hindi

 

Disclaimer