कौआ चालासन (Crow Walking Pose) का अभ्यास करने के फायदे और सही तरीका, पैरों के लिए बेस्ट है ये योगासन

कौआ चालासन करना सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। यहां जानें कौआ चालासन करने के फायदे और सही तरीका। 

 
Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraPublished at: Aug 02, 2021Updated at: Aug 02, 2021
कौआ चालासन (Crow Walking Pose) का अभ्यास करने के फायदे और सही तरीका, पैरों के लिए बेस्ट है ये योगासन

स्वस्थ रहने के लिए योग और एक्सरसाइज करना कितना जरूरी है यह तो आप सभी जानते होंगे। ऐसे बहुत से योगासन हैं जिनके बारे में हम शायद ही जानते होंगे। क्या आपने कभी कौआ चालासन या फिर क्रो वॉकिंग पोज के बारे में सुना है? अगर नहीं, तो इस लेख के माध्यम से हम आपको कौआ चालासन से सेहत को होने वाले कुछ फायदों और इस आसन को करने के तरीके के बारे में बताएंगे। दरअसल, यह आसन मुख्य रूप से कमर के नीचले हिस्से में आई सूजन, घुटनों के दर्द, कमर में जकड़न आदि को ठीक करने में काफी मददगार साबित होती है। इस योगासन को करने से आपके पेट के आस-पास की मसल्स को मजबूती देने के साथ ही कमर और घुटनों में हो रहे दर्द को कम करने में मदद करता है। चलिए जानते हैं क्रो वॉकिंग पोज के कुछ फायदे और करने के तरीके के बारे में। 

inflammation

1. सूजन कम करने में मददगार (Helps in Reducing Inflammation)

सूजन कम करने के लिए कौआ चालासन काफी सहायक माना जाता है। दरअसल, यह आसन घुटनों के बल पर होता है। इसलिए इसका सारा जोर घुटनों पर पड़ता है। इसलिए यह आसन करने से घुटनों में आई सूजन आसानी से ठीक हो जाती है। यही नहीं इस आसन से आपकी जांघों के आस-पास की मांसपेशियों में स्ट्रेंथ आती है। अगर आपके शरीर के निचले हिस्से में सूजन है तो आप कौआ चालासन कर सकते हैं।  

इसे भी पढ़ें - महिलाएं रोज करें उपविष्ठ कोणासन तो मिलेंगे ये 5 फायदे, जानें करने का सही तरीका और सावधानियां

2. वजन कम करने में मददगार (Helps in Weight Loss)

कौआ चालासन आपके वजन को कम करने में भी अहम भूमिका निभाता है। कौआ चालासन का कुछ दिनों तक अभ्यास करने मात्र से ही आपकी पेट के आस-पास जमा एक्सट्रा चर्बी आसानी से बर्न हो सकती है। वजन कम करने के लिए इसका अभ्यास रोजाना लगभग 10 मिनट तक करें। यह एक प्रकार का स्ट्रेच है, जिसे करने के साथ ही आपकी स्पाइन का ब्लड फ्लो सुचारू होता है। यह अभ्यास करने से आपके हाथ, पैर और पेट की मसल्स टोन्ड बनती हैं। 

3. ब्लड फ्लो बढ़ाए (Increases Blood Flow)

स्वस्थ रहने के लिए शरीर के प्रत्येक अंग में रक्त पहुंचना जरूरी होता है। कौआ चालासन यानि क्रो वॉकिंग पोज करने से आपकी शरीर के विभिन्न हिस्सों में रक्त का बहाव सुचारू रूप से होता है। कौआ चालासन करने के दौरान आपकी स्पाइन और एबडॉमन के आस-पास के हिस्सो में रक्त का प्रभाव सुचारू रूप से होता है। साथ ही हिप्स की मसल्स में भी मजबूती आती है। 

4. उर्जा प्रदान करे (Provides Energy)

कौआ चालासन करने के दौरान आपका मनिपुरा चक्र सक्रिय होता है। इसे करने से आपकी शरीर में उर्जा का संचार होता है। कौआ चालासन करने से आपका मन में सकारात्मकता आती है। यह आपकी कंसंटेशन पावर को भी बढ़ाता है। इसे करने से शरीर में मानसिक और शारीरिक रूप से संतुलन बना रहता है। इस आसन के निय मित अभ्यास करने से आपके तनाव का स्तर कम होने के साथ ही नींद भी अच्छी आती है। 

crowpose

कौआ चालासन करने का सही तरीका (How to do Crow Walking Pose) 

  • कौआ चालासन एक ऐसा आसन है, जिसमें आपको सावधानी बरतने की आवश्यकता होती है। 
  • इस आसन को करने के लिए सबसे पहले अपने घुटनों को मोड़ लें। अब अपने पैर के पंजों के बल बैठें। ध्यान रहे इस अवस्था में आपको अपने कूल्हों को उपर की ओर करकर ही रखना है। 
  • अब आपको अपने हाथ के पंजे पर जोर लगाते हुए बैठना है। 
  • अब हाथों के पंजों पर जोर डालते हुए अपनी हिप्स को उपर की ओर उठाएं और आगे की ओर झुकें। 
  • ऐसा कई बार करें या फिर आप एक ही स्थिति बनाकर भी इसे कर सकते हैं। 
  • ध्यान रहे नीचे की ओर झुकते हुए आपके पैर के पंजे पूरी तरह से जमीन पर टच न हों। 

इन स्थितियों में न करें कौआ चालासन (Not do Crow walking pose in these Situations)

  • अगर आप अर्रथराइटिस के मरीज हैं और आपके ज्वॉइंट्स में दर्द है तो आप इस आसन को करने से बचें। 
  • अगर आप एक गर्भवती महिला हैं तो आप इस आसन को बिलकल भी न करें। 
  • अगर हाल ही में आपके शरीर के किसी अंग की सर्जरी हुई है तो भी आप इसे करने से बचें।  

कौआ चालासन हाथों पैरों और शरीर के लिए बेहद फायदेमंद आसन है। लेख में दिए गए तरीकों से इस आसन को कर आप इसका लाभ उठा सकते हैं। 

Read more Articles on Yoga in Hindi

Disclaimer