बच्चों की वैक्सीन को लेकर सरकार का बड़ा ऐलान, अक्टूबर से लगेगी बच्चों को कोरोना वैक्सीन

कोविड वर्किंग ग्रुप के चेयरमैन डॉ एन के अरोड़ा के मुताबिक देश में 12 से 17 साल की उम्र के बच्चों का टीकाकरण अक्टूबर से शुरू हो जायेगा।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Aug 26, 2021Updated at: Aug 26, 2021
बच्चों की वैक्सीन को लेकर सरकार का बड़ा ऐलान, अक्टूबर से लगेगी बच्चों को कोरोना वैक्सीन

कोरोनावायरस महामारी के खिलाफ देश भर में 18 साल से अधिक उम्र वाले लोगों का टीकाकरण तेजी से किया जा रहा है। लेकिन अब कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सरकार द्वारा अहम फैसला लिया गया है। देश में 12 साल से ऊपर के बच्चों को कोरोना का टीका (Covid Vaccine for Kids) जल्द ही दिया जायेगा। कुल मिलकर ये कह सकते हैं कि अब देश में बच्चों को कोरोना की वैक्सीन कब लगेगी इस बात का इंतजार खत्म हो गया है। मिली जानकारी के मुताबिक अक्टूबर के पहले सप्ताह से देश भर में 12 साल से अधिक उम्र वाले बच्चों को कोरोना की वैक्सीन लगाई जाएगी। इस वैक्सीनेशन अभियान में बच्चों के लिए सरकार ने  निड्ल फ्री कोरोना वैक्सीन ZyCov-D के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी पहले से ही दे दी थी। इस वैक्सीन की देश भर में सप्लाई सितंबर से शुरू होने की संभावना है।

इन बच्चों को पहले लगाई जाएगी कोरोना की वैक्सीन 

Covid-Vaccine-For-Kids-in-India

(image source - freepik.com)

भारत सरकार द्वारा गठित कोविड वर्किंग ग्रुप के चेयरमैन डॉ एन के अरोड़ा के मुताबिक कोरोनावायरस के खिलाफ काम करने वाली वैक्सीन जल्द ही बच्चों को ही लगाई जाएगी। लेकिन शुरुआत में यह वैक्सीन सिर्फ उन बच्चों को लगाई जाएगी जो गंभीर रूप से बीमार हैं या किसी अन्य बीमारी से जूझ रहे हैं। चूंकि इन बच्चों को कोरोनावायरस से संक्रमित होने का खतरा अधिक है इसलिए ऐसे बच्चों को पहले प्राथमिकता दी जाएगी।

इसे भी पढ़ें : वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज लेने के बाद भी लोग हो रहे कोरोना संक्रमित, WHO ने दी ये सलाह

तैयार हो रही है बच्चों की लिस्ट

देश में 12 से 17 साल की आयु वाले लगभग 18 करोड़ बच्चे हैं जिन्हें पहले वैक्सीन लगाई जाएगी। देश में कोविड मैनेजमेंट को लेकर बने टास्क फाॅर्स ने बताया है कि देश में बच्चों का टीकाकरण जल्द ही शुरू किया जाएगा। इसके लिए डीसीजीआई की तरफ से अनुमति भी मिल चुकी है। नेशनल टेक्निकल एडवाडरी ग्रुप ऑन इम्यूनाइजेशन (NTAGI) द्वारा देश भर के उन बच्चों की सूची बनाई जा रही है जिन्हें वैक्सीन पहले लगनी चाहिए। यह लिस्ट बच्चों में बीमारी के आधार पर तैयार की जाएगी। मिली जानकारी के मुताबिक जिन बच्चों को डायबिटीज और हाइपरटेंशन की बीमारी है उन्हें प्राथमिकता दी जा सकती है। 

Covid-Vaccine-For-Kids-in-India

(image source - freepik.com)

इसे भी पढ़ें : देश में लगेगी अब कोरोना की सिंगल डोज वैक्सीन, जानें इसके बारे में

अक्टूबर से बच्चों को दिया जायेगा ZyCoV-D डोज

देश में कोरोनावायरस संक्रमण के खिलाफ लड़ाई को तेज करने के लिए सरकार द्वारा ये निर्णय लिया गया है। 12 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए बनाई गयी इस कोरोना वैक्सीन को दवा निर्माता कंपनी जायडस कैडिला ने बनाया है। इस वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल भी पूरे कर लिए गए हैं। Zycov D कोविड वैक्सीन दुनिया की सबसे पहली 'प्लास्मिड डीएनए' वैक्सीन है जो कोरोना के खिलाफ प्रभावी मानी जा रही है। ZyCoV-D कोरोना वैक्सीन शरीर में कोरोना वायरस से लड़ने के लिए एंटीजन बनाने का काम करती है। कोरोना की इस वैक्सीन को स्टोर करने के लिए 2-8 डिग्री तापमान चाहिए होगा, इसलिए इसे भारत में कोल्ड-चेन स्थितियों के अनुकूल भी माना जा रहा है। खबरों के मुताबिक जाइडस कैडिला ने इस वैक्सीन के निर्माण में लगभग 500 करोड़ रुपये खर्च किये हैं।

इन बच्चों को 2022 में लगेगी कोरोना की वैक्सीन 

भारत सरकार के कोविड वर्किंग ग्रुप के चेयरमैन डॉ एन के अरोड़ा के मुताबिक देश में अक्टूबर से बच्चों को भी कोरोनावायरस के खिलाफ काम करने वाला टीका लगाया जायेगा। लेकिन यह वैक्सीन सभी बच्चों को नहीं लगाई जाएगी। अक्टूबर महीने से सिर्फ उन बच्चों को कोविड वैक्सीन का डोज दिया जायेगा जिनकी उम्र 12 से 17 साल के बीच है और वे किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं। इसके लेकर नेशनल टेक्निकल एडवाडरी ग्रुप ऑन इम्यूनाइजेशन (NTAGI) द्वारा एक लिस्ट भी बनाई जा रही है। डॉ एन के अरोड़ा के मुताबिक ऐसे बच्चे जो पूरी तरह से स्वस्थ हैं और जिन्हें संक्रमित होने का खतरा कम है उनका टीकाकरण 2022 की पहली तिमाही में किया जायेगा। डॉ अरोड़ा ने यह भी कहा कि देश में स्कूल खोलने के लिए बच्चों के टीकाकरण की जरूरत नहीं है। इसके लिए घरों में मौजूद सभी सदस्यों को और स्कूल के सभी स्टाफ का टीकाकरण होना जरूरी है।

(main image source - freepik.com)

Read More Articles on Health News in Hindi

Disclaimer