देश में लगेगी अब कोरोना की सिंगल डोज वैक्सीन, जानें इसके बारे में

भारत में कोरोना के खिलाफ टीकाकरण अभियान को तेजी देने के लिए अब जॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल की मंजूरी दे दी गयी है। 

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghUpdated at: Aug 09, 2021 17:17 IST
देश में लगेगी अब कोरोना की सिंगल डोज वैक्सीन, जानें इसके बारे में

भारत में कोरोना वायरस का कहर अभी भी जारी है, रोजाना हजारों की संख्या में लोग इस घातक वायरस से संक्रमित हो रहे हैं। देश में कोरोना के खिलाफ टीकाकरण अभियान भी लगातार जारी है। अब तक देश में कोरोना के खिलाफ कुल चार टीकों का आपातकालीन इस्तेमाल किया जा रहा था लेकिन अब देश में कोविड के एक नए टीके को भी मंजूरी मिल गयी है। जॉनसन एंड जॉनसन (Jhonson & Johnson) कंपनी द्वारा निर्मित कोरोना के सिंगल डोज वैक्सीन के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी सरकार ने दे दी है। गौरतलब हो अभी तक देश में कोरोना के टीके की दो डोज दी जा रही रही है। लेकिन अब जॉनसन एंड जॉनसन के कोरोना के टीके को मंजूरी दी गयी है जिसका सिर्फ एक ही डोज लगाया जाता है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने इस बात की जानकारी देते हुआ कहा था कि अब देश में कोरोना के सिंगल डोज वैक्सीन (Single Dose Covid Vaccine) के आपातकालीन इस्तेमाल की अनुमति दे दी गयी है। आइये विस्तार से जानते हैं जॉनसन एंड जॉनसन की इस सिंगल डोज कोविड वैक्सीन के बारे में। 

जॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज कोरोना वैक्सीन (Jhonson & Johnson Single Dose Covid Vaccine)

Johnson&Johnson-Single-Dose-Covid-Vaccine

(Image Source - Freepik.com)

जॉनसन एंड जॉनसन फार्मास्युटिका एनवी द्वारा बनाई गयी इस कोरोना वैक्सीन का एक ही शॉट लोगों को दिया जाता है। अभी तक देश में कोरोना के जितने भी टीके लगाये जा रहे हैं सभी के दो डोज दिए जाते हैं। पहले डोज के बाद कुछ दिनों का गैप लेकर दूसरा यानि बूस्टर डोज लोगों को लगाया जा रहा है। लेकिन अब भारत सरकार ने पहली सिंगल डोज वैक्सीन के इस्तेमाल की अनुमति दी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने इस बात की जानकारी देते हुआ कहा था कि, "जॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज कोविड -19 वैक्सीन को भारत में आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी दे दी गई है। अब भारत के पास 5 आपातकालीन इस्तेमाल के टीके हैं। यह हमारे देश की COVID-19 के खिलाफ सामूहिक लड़ाई को और बढ़ावा देगा।" 5 अगस्त को, जॉनसन एंड जॉनसन ने भारत में अपनी सिंगल डोज वैक्सीन के इस्तेमाल के लिए आवेदन किया था। जिसके बाद इसे बारे में तमाम जांच और रिपोर्ट्स को ध्यान में रखते हुए सरकार ने इसके इमरजेंसी इस्तेमाल की अनुमति दी है। यह वैक्सीन 18 साल की आयु से अधिक वाले लोगों को लगाई जाएगी।

इसे भी पढ़ें : जल्द आ रही बच्चों के लिए बिना सुई वाली कोरोना वैक्सीन ZyCoV-D, जानें इसके बारे में

Johnson&Johnson-Single-Dose-Covid-Vaccine

(Image Source - Freepik.com)

कितनी प्रभावी है जॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज कोरोना वैक्सीन? (Jhonson & Johnson Single Dose Covid Vaccine Efficacy)

अमेरिकी दवा कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन का कहना है कि उसके द्वारा बनाई गयी कोरोना की वैक्सीन इस गंभीर संक्रमण के खिलाफ 85 प्रतिशत तक कारगर है। इस टीके का इस्तेमाल दुनिया के कई देशों में किया जा रहा है। इसके क्लिनिकल ट्रायल में कई देशों के लगभग 43,783 लोगों को शामिल किया गया था। और इसके अध्ययन में कोरोना के खिलाफ इस सिंगल डोज वैक्सीन का असर लगभग 66 प्रतिशत प्रभावी था। दक्षिण अफ्रीका में 64 प्रतिशत और ब्राजील में 68 प्रतिशत से लेकर अमेरिका में 72 प्रतिशत प्रभावी यह सिंगल डोज कोरोना वैक्सीन मानी जा रही है। वैक्सीन के निर्माताओं का दावा है कि यह वैक्सीन कोरोना के डेल्टा वैरिएंट पर भी उतनी ही असरदार है। कोरोना वायरस के खिलाफ बनी यह वैक्सीन वायरल वेक्टर वैक्सीन है यानी इस वैक्सीन के भीतर मौजूद जेनेटिक मैटेरियल बॉडी में अपनी कॉपी का निर्माण नहीं करता है। वहीं अगर हम कोव‍िशील्‍ड की बात करें तो कोव‍िशील्‍ड की दो खुराक लेने के बाद, कोवि‍ड के डेल्‍टा वैर‍िएंट से 92 प्रत‍िशत सुरक्षा म‍िलती है।

जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन का स्टोरेज है आसान (Jhonson & Johnson Single Dose Covid Vaccine Storage)

अमेरिकी दवा निर्माता कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन द्वारा बनाई गयी कोरोना की इस सिंगल डोज वैक्सीन का स्टोरेज भी बहुत आसान माना जा रहा है। भारत में इस्तेमाल हो रही कोरोना की सभी वैक्सीन को स्टोर करने के लिए एक विशेष कोल्ड चेन की जरूरत होती है। लेकिन रिपोर्ट्स के मुताबिक इस वैक्सीन को स्टोर करने के लिए 2 से 8 डिग्री सेल्सियस तामपान की जरूरत पड़ेगी। इस सिंगल डोज वैक्सीन की खुली हुई सीसी को स्टोर करने के लिए 9 डिग्री से 25 डिग्री तापमान की आवश्यकता होगी और खुल चुकी सीसी 12 घंटे तक इस तापमान पर सुरक्षित रह सकती है। 

Johnson&Johnson-Single-Dose-Covid-Vaccine

(Image Source - Freepik.com)

इसे भी पढ़ें : कोविशील्ड वैक्सीन लगवाने वाले कुछ लोगों में दिखे गंभीर साइड इफेक्ट, 'गुलियन बेरी सिंड्रोम' का हो रहे हैं शिकार

देश में अब तक लगभग 50 करोड़ लोगों को कोरोना की वैक्सीन के डोज दिए जा चुके हैं। जॉनसन एंड जॉनसन की इस वैक्सीन को मंजूरी मिलने से अब देश में टीकाकरण की रफ्तार बढ़ेगी। गौरतलब हो देश में इससे पहले कोवैक्सिन, कोविशील्ड, मॉडर्ना और रूसी वैक्सीन स्पूतनिक-V का इस्तेमाल किया जा रहा था। लेकिन ये सभी वैक्सीन डबल डोज वाली वैक्सीन हैं।

(Main Image Source - Freepik.com)

Read More Articles on Health News in Hindi

Disclaimer