आगे चलकर जानलेवा हो सकता है ब्रिटेन का नया कोरोना स्ट्रेन, जानें देश और दुनिया में कोरोना से जुड़े सभी अपडेट्स

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन का कहना है कि कोरोना का नया स्ट्रेन आने वाले दिनों में जानलेवा रूप ले सकता है इसलिए लोगों को सर्तक हो जाना चाहिए।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Jan 24, 2021
आगे चलकर जानलेवा हो सकता है ब्रिटेन का नया कोरोना स्ट्रेन, जानें देश और दुनिया में कोरोना से जुड़े सभी अपडेट्स

कोरोनावायरस समय के साथ अपना रंग-रूप बदल रहा है और हाल ही में इसके कुछ नए स्ट्रेन ब्रिटेन और दक्षिण अफ्रीका से मिले हैं। बात अगर ब्रिटेन वाले कोरोना के नए स्ट्रेन  की करें, तो  ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन का कहना है कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन (UK Coronavirus Strain) तेजी से अपना रूप बदल रहा है और ये आगे चल कर लोगों के लिए जानलेवा भी हो सकता है। दरअसल, हाल ही में ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने प्रेस कान्फ्रेंस में कहा, ऐसा प्रतीत होता है कि ऐसे कुछ सबूत मिले हैं, जो कोरोना वायरस के इस नए स्ट्रेन (UK Coronavirus Strain) के ज्यादा जानलेवा होने की पुष्टी कर रहे हैं। इधर भारत में संक्रमितों की संख्या 1 करोड़ का आंकड़ा पार कर चुकी है पर रोजाना आने वाले कोरोना के मामलों में कमी आई है। तो, आइए इसी तरह जानते हैं देश और दुनिया भर के कोरोनावायरस से जुड़े सभी ताजा अपडेट्स (coronavirus live update in india)

insidecorona

ब्रिटेन में नए कोरोना स्ट्रेन के जानलेवा होने का डर

ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के कारण लॉकडाइन है और यहां कोराना से संक्रामित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। पर अभी तक कोरोना से होने वाले मौतों में इस बात की खबर नहीं आई थी कि किसी की भी मौत नए कोरोना वायरस के स्ट्रेन के कारण हुई है। पर अब ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने शुक्रवार को डाउनिंग स्ट्रीट में एक प्रेस कान्फ्रेंस के दौरान कहा है कि आगे चलकर कोरोना का नया स्ट्रेन जानलेवा हो सकता है। दरअसल,  सरकार के मुख्य वैज्ञानिक पैट्रिक वैलांस की मानें, तो नया कोरोना स्ट्रेन पहले के रूपों की तुलना में 30 फीसदी ज्यादा जानलेवा हो सकता है।

हालांकि अभी बेहद कम आंकड़ों के आधार पर यह निष्कर्ष निकाला गया है, पर लोगों के भीतर कोरोना के नए स्ट्रेन के तेजी से फैलते संक्रमण को देख कर डर बढ़ता जा रहा है। मुख्य वैज्ञानिक पैट्रिक वैलांस की मानें, तो अगर 60 साल के उम्र के शख्स की बात करें तो पुराने कोरोना वायरस के 1000 संक्रमितों में से 10 के मारे जाने का अनुमान रहता था, लेकिन नए वायरस से ऐसे 1000 संक्रमितों में 13 से 14 के जान गंवाने का खतरा है। उन्होंने कहा कि अन्य आयु वर्गों में भी नए स्ट्रेन से ज्यादा मौतों का खतरा दिखाई दे सकता है।

इसे भी पढ़ें : थूक और खांसी से ही नहीं, बल्कि बातचीत के दौरान एयर ड्रॉपलेट्स से भी फैल सकता है कोरोना : शोध

भारत में 15 लाख से अधिक लोगों को लगा कोरोना का टीका

भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 14,256 नए मामले सामने आए हैं, जिनमें से 152 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि, कोरोना का वैक्सीनेशन ड्राइव बड़ी तेजी से चल रहा है और अब तक देश में अब तक कुल 15,37,190 लोगों को कोरोना वायरस (Coronavirus) से बचाव के लिए टीके लगाए जा चुके हैं। यह टीके कुल 27,776 सत्रों में लगाए गए है। देश में 23 जनवरी को 1,46,598 टीके लगाए गए। अब तक 27 राज्यों में टीकाकरण (Coronavirus Vaccination) शुरु है, जिनमें से  12 राज्यों में कोवैक्सीन लग रही थी अब 7 और राज्यों में भी ये लगेगी। इन राज्यों में छत्तीसगढ़, गुजरात, झारखंड केरल, मध्यप्रदेश, पंजाब और पश्चिम बंगाल शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें : सूंघने की शक्ति खत्म होना (loss of smell) कोरोना के सबसे सटीक लक्षणों में से एक : शोध

ब्रिटेन की तरह दक्षिण अफ्रीका में भी कोरोना का प्रकोप तेजी से बढ़ रहा है। ऐसे में अब खबर आई है कि दक्षिण अफ्रीका के स्वास्थ्य विभाग ने भी भारत के सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है। इसके तहत सीरम इंस्टीट्यूट कुछ दिनों में दक्षिण अफ्रीका को 15 लाख कोविशील्ड की डोज सप्लाई करेगा, जिसे हेल्थवर्कर्स को लगाया जाएगा। बता दें कि दक्षिण अफ्रीका में कोरोना के 14 लाख से भी ज्यादा केस सामने आ चुके हैं जबकि 40 हजार लोगों की जान जा चुकी है। यहां हर दिन औसत 12 हजार नए केस दर्ज किए जा रहे हैं और स्थिति खराब हो रही है।

Read more articles on Health-News in Hindi

Disclaimer