CoronaVirus के चलते बढ़ी N-95 मास्‍क की डिमांड, जानें वायरस को कैसे रोकता है ये

कोरोना वायरस पर डब्लएचओ की एडवाइजरी के बाद देशभर में N95 मास्क की मांग बढ़ गई है, जानें कैसे रखता है बीमारी से दूर।

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Jan 28, 2020Updated at: Feb 05, 2020
CoronaVirus के चलते बढ़ी N-95 मास्‍क की डिमांड, जानें वायरस को कैसे रोकता है ये

चीन में कोरोनावायरस से सुरक्षा के लिए अपने नाक और मुंह को ढंकते हुए सड़कों पर चलते लोगों के कारण चीन में एन-95 मास्क की डिमांड बढ़ गई हैं। चीन में मास्क की बढ़ी मांग ने भारतीय मास्क निर्माताओं और डीलरों के चेहरे पर चमक बिखेर दी है। इसी के साथ मास्क की कीमतों में भी कम से कम 50 फीसदी तक की वृद्धि हुई है। बड़े, संक्रामक कणों के खिलाफ अप्रभावी माने जाने वाले आम डिस्पोजेबल सर्जिकल मास्क के बजाए डॉक्टर लोगों से इस वायरस के खतरे को कम करने के लिए एन-95 (N-95) का उपयोग करने को कह रहे हैं।

Corona-Virus

हालांकि चीन में बहुत से लोग यही मास्क का प्रयोग कर रहे हैं। N-95 मास्क सूक्ष्म कणों (small particles) को फिल्टर कर बेहतर सुरक्षा प्रदान करता है। यही कारण है कि बहुत से डीलर इसका निर्यात कर रहे हैं। चीन द्वारा निर्यात को सीमित करने के साथ ही कई एशियाई देशों ने भारतीय डीलरों की ओर हाथ बढ़ाना शुरू कर दिया है। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, मुंबई के अविष्कार इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड के अनिल गुप्ता का कहना है कि हम चीन से खरीदे गए मास्क के बक्सों को भेज रहे हैं। इसके अलावा हम यहां के निर्माताओं से भी सीधे मास्क खरीद रहे हैं।

सांस संबंधी सुरक्षा को पहनना हमेशा से लोगों को असुविधाजनक लगता आया है, लेकिन इसको न पहनने से हवा में मौजूद हानिकारक कण और दूषित पदार्थों के संपर्क में आने से अल्पकालिक और दीर्घकालिक स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। इस घातक वायरस से N-95 कैसे आपको सुरक्षा प्रदान कर सकता है और क्यों ये आपकी पहली पसंद होनी चाहिए। इस लेख में हम आपको ये बताने जा रहे हैं।

वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने सभी देशों को तैयारी संबंधित गतिविधियों को जारी रखने के लिए प्रोत्साहित क्या है और एक अंतरिम दिशा-निर्देश जारी किया है। इस दिशा-निर्देशों में तैयारियों को कैसे जारी रखना और ट्रेवल एजवाइजरी को अपडेट करने के लिए कहा है। साथ ही इस उभरते हुए वायरस को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर फैलने से रोकने की भी सलाह दी है।

डब्लूएचओ की दक्षिण एशिया प्रांत की रीजनल डायरेक्टर डॉ. पूनम खेत्रपाल सिंह का कहना है कि नए कोरोनावायरस के बारे में हम जो भी जानते हैं उसे देखते हुए तैयारी के सभी प्रयासों पर ध्यान देने का वक्त आ गया है। 

इसे भी पढ़ेंः Corona Virus से दहशत में क्‍यों है दुनिया? विस्‍तार से जानें कोरोना वायरस के कारण और लक्षण

हालांकि, अभी तक भारत में कोरोना वायरस के किसी मामले की पुष्टि नहीं हुई है। भारत में डब्लूएचओ  के कार्यालय ने स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ मिलकर हालात पर बारीकी से नजर रखी हुई है और इस वायरस की शुरुआती पहचान और रोकथाम की तैयारी को तेज कर दिया गया है।

Corona-Virus

क्यों जरूरी है सांस संबंधी सुरक्षा

सांस संबंधी सुरक्षा के लिए मास्क को पहनने का मकसद लोगों को हवा में फैले प्रदूषित और खतरनाक कणों से बचाना है ताकि वह किसी हानिकारक धूल, कोहरे, धुएं, मिस्ट्स, गैसों, धूम्रपान, वाष्प या स्प्रे के संपर्क में आने से बचें और बीमारियों से बच सकें। सांस संबंधी सुरक्षा के लिए मास्क को पहनना थोड़ा आलस से भरा काम लग सकता है लेकिन इसे कभी भी नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि हवा में मौजूद कण या प्रदूषक तत्व फिर चाहे वे कितने ही छोटे क्यों न हों अल्पकालिक या दीर्घकालिक स्वास्थ्य समस्याओं का कारण जरूर बन सकते हैं। अगर इनकी जांच न की जाए तो आप कैंसर, फेफड़ों में परेशानी और कोरोनावायरस जैसी घातक बीमारी का शिकार हो सकते हैं, जिसके कारण जान भी जा सकती है।

एन-95 मास्क के 4 फायदे, जो आपको बचाएंगे बीमारियों से 

किफायती सुरक्षा देने में करते हैं मदद

एन-95 सर्जिकल मास्क को बड़े पैमाने पर अध्ययनों में जांचा-परखा गया है और इन अध्ययनों में ये पाया गया कि ये सर्जिकल मास्क एच1एन1 एवियन फ्लू, एसएआरएस और कोरोना वायरस जैसी घातक बीमारियों से सुरक्षा देने के लिए पर्याप्त है।  यह तपेदिक के जोखिम नियंत्रण के लिए सीडीसी दिशानिर्देशों को भी पूरा करता है और हवा में मौजूद तरल पदार्थ के प्रवेश को भी रोकने का काम करता है।

इसे भी पढ़ेंः कोरोना वायरस: केरल में अलर्ट जारी, चीन से लौटे यात्रियों की हवाई अड्डों पर हो रही है थर्मल स्क्रीनिंग

Corona-Virus

अपने पास रखने में है आसान

हल्के वजन और पतले कपड़े की लेयर के कारण इसको पहनना आसान होता है। 

सांस लेने पर ज्यादा दबाव न हो इसके लिए इलास्टिक हेड स्ट्रेप लगा होता है। 

थकान को कम करने वाले अन्य सांस सबंधी मास्क के मुकाबले 33 फीसदी हल्का होता, जो इसे लंबे वक्त तक पहनने योग्य बनाता है।  

एक साइज लगभग सभी लोगों के लिए फिट होता है।

जरूरत के हिसाब से कही भी ले जाएं

ये मास्क आसानी से फोल्ड हो जाता है और 20 पीस को एक साथ पैक किया जा सकता है। प्रत्येक मास्क स्वच्छता के लिए परिपूर्ण है और ये आसानी से आपकी जेब में फिट हो सकता है। इसके साथ ही ये आपको हवा में फैली गंभीर प्रदूषण तत्वों से बचाने में कारगर होता है। हालांकि आपको इसे साफ रखने की जरूरत होती है।

एलर्जी फ्री होता है एन-95 मास्क

एन-95 मास्क लैटेक्स (रबड़), पीवीसी और सिलिकॉन फ्री होता है, जो इसे इन तीनों के प्रति संवेदनशील लोगों के लिए एक अच्छा विकल्प बनाता है। ये मास्क डिस्पोजेबल होता है, जिसका मतलब ये है कि उपयोग करने से पहले उन्हें कीटाणुरहित करने में कोई दिक्कत नहीं है।

Read more articles on Health News in Hindi

Disclaimer