कपड़े धोने और सुखाने की ये 4 गलतियां आपको बना सकती हैं बीमार

कपड़ों को ठीक से न धोना या सुखाना आपको कई बीमारियों को शिकार बना सकता है। इस परेशानी से बचने के लिए कपड़ों को धूप में सुखाएं।

Meena Prajapati
Written by: Meena PrajapatiPublished at: May 28, 2021Updated at: May 28, 2021
कपड़े धोने और सुखाने की ये 4 गलतियां आपको बना सकती हैं बीमार

क्या आप जानते हैं कि कपड़ों को ठीक से न धोना, कपड़ों को धूप में न सुखाना, नहाने के बाद शरीर को सूखे कपड़े से न पोछना, कपड़े धोने के लिए कई दिन पहले ढेर लगा देना या कपड़े धोने के बाद हाथ न धोना आदि कारण आपको बीमार कर सकते हैं। गुरुग्राम के पारस अस्पताल में डर्मेटॉलोजिस्ट डॉ. नंदिनी बरूआ का कहना है कि आजकल मल्टी स्टोरेज बिल्डिंग्स में लोग रहना पसंद करते हैं। वहां खुली धूप में कपड़े सुखाने की ठीक व्यवस्था नहीं होती है। छोटी-छोटी बालकनी में लोग कपड़े सुखाते हैं। जिस वजह से त्वचा संबंधी परेशानियां होती हैं। वे बताती हैं कि कपड़ों को ठीक से न धोने और न सुखाने की वजह से फंगल इंफेक्शन, बैक्टिरियल इंफेक्शन और स्किन डर्मेटाइटिस जैसी परेशानियां हो सकती हैं। ओन्ली माई हेल्थ को डॉ. नंदिनी बरूआ ने इन परेशानियों से बचने के टिप्स दिए हैं। साथ ही डॉ. बरूआ ने बताया है कि कपड़ों को ठीक से धोने और सुखाने से आप  कई रेस्पाइरेटरी प्रॉब्लम्स से भी बच सकते हैं। 

कपड़ों को धोने और सुखाने को लेकर की जाने वाली ये गलतियां

1. संक्रमित व्यक्ति के कपड़ों को स्वस्थ व्यक्ति के कपड़ों के साथ धोना

डॉ. नंदिनी का कहना है कि घर में अगर कोई व्यक्ति संक्रमित है तो उसके कपड़ों को बाकी कपड़ों से अलग रखना चाहिए। इससे वायरस अन्य के कपड़ों में नहीं फैलता। डॉं नंदिनी ने कोरोना मरीज के कपड़ों पर रहने वाले वायरस को लेकर कहा कि कपड़ों पर कोरोना का इंफेक्शन कितने समय तक रहता है इस पर अभी स्पष्टता नहीं है, लेकिन विशेषज्ञों की राय है कि कोविड मरीजों के कपड़े बाकी लोगों के कपड़ों से अलग धोने चाहिए और इन्हें डिसइंफेक्ट करके धोना चाहिए। 

डॉक्टर बरूआ का कहना है कि कोविड मरीज का स्पूटम अगर उसके कपड़ों पर रहता है तो वह बाकी कपड़ों पर भी जाएगा, इसलिए इनके कपड़ों को अलग से धोना चाहिए।  डॉ. नंदिनी बताती हैं कि ब्लैक फंगस के मरीजों के कपड़ों भी बाकी लोगों के कपडो़ं के साथ नहीं धोने चाहिए। 

वे कहती हैं कि कपड़ों को केवल धोना काफी नहीं है बल्कि उन्हें डिसइंफेक्ट करना जरूरी है। कपड़ों को धोने से गंदगी, बाहर निकलती है पर डिसिंफेक्ट करने से किटाणु मरते हैं। 

Inside2_laundrymistakes

इसे भी पढ़ें : गर्मी में शरीर को ठंडा रखने और पसीना रोकने के लिए करें सही कपड़े का चुनाव, ये 4 फैब्रिक हैं इस मौसम में बेस्ट

2. कपड़ों को धोने के लिए कई दिनों तक जमा करते रहना

अक्सर घरों में आदत होती है कि कपड़े धोने के लिए कई दिन पहले ही कपड़ों का ढेर जमा कर दिया जाता है। डॉक्टर का कहना है कि वायरस या फंगल तो कुछ दिन मर जाएगा लेकिन डायरिया पैदा करने वाले बैक्टिरिया जिंदा रहते हैं। अगर कपड़ों में नमी रहती है तो जर्म्स उन पर लंबे समय तक रह सकते हैं। 

डॉ. बरूआ का कहना है कि जब हम कपड़ों को धोने के लिए एक साथ जमा करते हैं तो उसमें अंडरववियर्स भी होते हैं, जिनसे यीस्ट जैसे जेनिटल इंफेक्शन फैलना का खतरा रहता है। बच्चे का एक्सपोजर बाकी लोगों से ज्यादा होता है, इस वजह से उनके कपडो़ं में जर्म्स ज्यादा होते हैं। अगर आप सभी के कपड़े लॉन्ड्री के लिए एक साथ डालते हैं तो किटाणुओं के फैलने का खतरा ज्यादा बढ़ जाता है। 

3. ज्यादा डिटरजेंट का इस्तेमाल करना

डॉक्टर ने बताया कि कपड़ों में ज्यादा डिटरजेंट का प्रयोग करने से स्किन एलर्जी, ड्राइनेस, जलन होने लगती है। इसके लिए आप मॉश्चराइज का प्रयोग करें। साथ ही वे बताती हैं कि कपड़ों के लिए तो ज्यादा डिटरजेंट का प्रयोग करने से कप़ड़ों का रंग फेड हो जाता है। डॉक्टर कहती हैं कि नंदिनी में कितनी बार भी मॉश्चराइजर लगा लें उससे कोई नुकसान नहीं हैं।

4. घर के अंदर कपड़े सुखाना

डॉ. नंदिनी का कहना है कि घर के अंदर कपड़े सुखाने से कपडो़ं में नमी रह जाती है जिस वजह से कमरे के अंदर भी नमी रहती है और वह फंगल का कारण बनती है। घर के अंदर कपड़ो को सुखाने से कमरे के एनवायरमेंट में 30 फीसद तक मॉश्चर बढ़ जाता है। यह फंगल आंखों को प्रभावित करता है।  

इसे भी पढें : मास्क का सही इस्तेमाल न करना पड़ सकता है भारी, WHO ने बताया कपड़े का मास्क पहनते समय क्या करें-क्या न करें

Inside3_laundrymistakes

क्यों जरूरी है कपड़ों को ठीक से धोना और सुखाना?

त्वचा रोग विशेषज्ञ डॉ. नंदिनी बताती हैं कि कपड़ों को ठीक से न धोने या सुखाने के कारण कपड़ों में नमी और बैक्टीरिया रह जाते हैं जिसकी वजह से कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। उन्होंने निम्न त्वचा संबधी बीमारियां बताई हैं। 

स्किन डर्मेटाइटिस

यह त्वचा पर एक तरह की एलर्जी ही होती है। यह कपड़ों को ठीक तरह से नहीं सुखाने की वजह से होती है। क्योंकि कपड़ों में नमी रह जाती है। जिस वजह से त्वचा पर एलर्जी होती है। 

फंगल इंफेक्शन 

दाद आदि का कारण फंगल इंफेक्शन है। कपडो़ं को जब ठीक तरीके से सुखाते नहीं हैं, तो यह परेशानी होती है। डॉक्टर बताती हैं कि जो लोग नहाने के बाद भी शरीर को सुखाते नहीं हैं। कपड़े पहनते हैं और त्वचा पर नमी बनी रहती है। जिस वजह से फंगल इंफेक्शन की परेशानियां बढ़ती हैं। डॉक्टर कहती हैं कि आपको कपड़ों की वजह से स्किन डिजिज हुई है तो वह दवा खाने से ठीक हो जाएगी पर वापस ठीक से न सुखाए हुए कपड़ों को पहनेंगे तो फिर फंगल की परेशानी हो सकती है। 

Inside4_laundrymistakes

बैक्टीरियल इंफेक्शन

गर्मियों में अक्सर फोडे निकलने की परेशानी होती है। यह दिक्कत केवल गर्मी की वजह से नहीं होती बल्कि कपड़ों की वजह से भी होती है। डॉक्टर का कहना है कि फोडे बैक्टीरियल इंफेक्शन की वजह से होते हैं। यह अक्सर जननांगों के आसपास होते है। डॉक्टर बताती हैं कि बैक्टीरियल इंफेक्शन इसलिए होता है क्योंकि जब हम कपड़ों को ठीक से सुखाते नहीं हैं तब यह बैक्टीरिया अपना काम करता है। इसमें अगर आप ठीक से सुखाए कपड़े नहीं पहनते हैं तो इससे फोड़े, फुंसी की समस्या हो सकती है।

बचाव के टिप्स

कपड़ों को धूप में सुखाएँ

डॉ. बरूआ का कहना है कि कपड़ों को धूप में सुखाना बहुत जरूरी है। अगर हम ऐसा नहीं करते हैं तो कपड़ों में नमी की वजह से अस्थमा व अन्य रेस्पाइरेटी प्रॉबल्म्स के लक्षण पैदा हो सकते हैं। इन परेशानियों की वजह से इम्युन सिस्टम कमजोर होता है। इसलिए कपडो़ं को धूप में सुखाना जरूरी है। 

Inside1_laundrymistakes

लॉन्ड्री के बाद हाथ धोना जरूरी

डॉक्टर ने बताया कि अभी लोग बहुत सैनिटाइजर का प्रयोग कर रहे हैं जिस वजह से उन्हें स्किन एलर्जी हो रही है। इससे बेहतर है कि आप साबुन से हाथ धोएँ। लेकिन डॉक्टर का मानना है कि जब आप कपड़े धोते हैं तब उसके बाद नॉर्मल ठंडे पानी से हाथ धोएं। इसके बाद मॉश्चराइजर लगा लें। इसस हाथों में परेशानी नहीं होगा।

संक्रमित व्यक्ति के कपड़े ऐसे धोएं

डॉक्टर बरुआ बताती हैं कि आप जैसे अभी तक कपड़े धो रहे थे वैसे ही धोएं पर इंफेक्टिड मरीज के कपड़े अलग धोएं। संक्रमित व्यक्ति के कपड़े दस्ताने पहनकर धोएं। डॉक्टर्स का मानना है कि संक्रमित व्यक्ति के कपड़ों को बहुत गर्म पानी में धोना चाहिए। साथ ही इन मरीजों के कपड़ों को 45 मिनट तक हाई हीट में सुखाना चाहिए। बैक्टीरिया और वायरस को निकालने में आपका डिटर्जेंट और भी मदद कर सकता है। साथ ही डॉक्टर का कहना है कि धूप में कपड़े सुखाने के अन्य इको-फ्रेंडली तरीकों से भी बैक्टीरिया या किटाणुओं को मारा जा सकता है।

कपड़ों को ठीक से न धोना या सुखाना आपको कई बीमारियों को शिकार बना सकता है। इस परेशानी से बचने के लिए कपड़ों को धूप में सुखाएं।

Read more on Miscellaneous on Hindi 

Disclaimer